BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 23 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾मौजपुर में CAA को लेकर दो गुटों में झड़प, जमकर हुई पत्थरबाजी, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले◾दिल्ली : सरिता विहार और जसोला में शाहीन बाग प्रदर्शन के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग◾पहले शाहीन बाग, फिर जाफराबाद और अब चांद बाग में CAA के खिलाफ धरने पर बैठे प्रदर्शनकारी ◾ट्रम्प की भारत यात्रा पहले से मोदी ने किया ट्वीट, लिखा- अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत करने के लिए उत्साहित है भारत◾सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसलों ने देश के कानूनी और संवैधानिक ढांचे को किया मजबूत : राष्ट्रपति कोविंद ◾Coronavirus के प्रकोप से चीन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 2400 पार ◾शाहीन बाग प्रदर्शन को लेकर वार्ताकार ने SC में दायर किया हलफनामा, धरने को बताया शांतिपूर्ण◾मन की बात में बोले PM मोदी- देश की बेटियां नकारात्मक बंधनों को तोड़ बढ़ रही हैं आगे◾बिहार में बेरोजगारी हटाओ यात्रा के खिलाफ लगे पोस्टर, लिखा-हाइटैक बस तैयार, अतिपिछड़ा शिकार◾भारत दौरे से पहले दिखा राष्ट्रपति ट्रंप का बाहुबली अवतार, शेयर किया Video◾CAA के विरोध में दिल्ली के जाफराबाद में प्रदर्शन जारी, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात ◾जाफराबाद में CAA के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर कपिल मिश्रा का ट्वीट, लिखा-मोदी जी ने सही कहा था◾US में निवेश कर रहे भारतीय निवेशकों से मुलाकात करेंगे Trump◾कांग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने पाक राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से की मुलाकात◾J&K के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों की जल्द रिहाई के लिए प्रार्थना करता हूं : राजनाथ सिंह◾1 मार्च से नहीं मिलेंगे 2000 रुपये के नोट, इस सरकारी बैंक ने लिया बड़ा फैसला !◾इलाहाबाद रेलवे डिवीजन हुआ प्रयागराज रेलवे डिवीजन ◾GSI ने सोनभद्र को लेकर किया खुलासा , कहा - 3 हजार टन नहीं, 160 किलो सोना निकलने की संभावना◾कांग्रेस के शीर्ष नेता, पार्टी का बड़ा वर्ग चाहता है कि राहुल फिर बनें अध्यक्ष : सलमान खुर्शीद◾

फैसले के बाद मोहन भागवत बोले- अयोध्या में सभी मिलकर बनाएंगे राम मंदिर

अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) स्वागत किया है। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने शीर्ष न्यायालय के निर्णय पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा, राष्ट्रीय स्वयंसेवा संघ राम जन्मभूमि के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता है। दशकों तक चली लंबी न्यायिक प्रक्रिया के बाद यह विधिसम्मत अंतिम निर्णय हुआ है। लंबी प्रक्रिया के बाद संबंधित सभी पहलुओं पर बारीकी से विचार किया गया। 

संघ ने जारी एक बयान में कहा, धैर्यपूर्वक इस दीर्घ मंथन को चलाकर सत्य और न्याय को उजागर करने वाले सभी न्यायाधीशों और पक्षों के वकीलों का हम अभिनंदन करते हैं। इस प्रयास में अनेक प्रकार से योगदान देने वाले सभी सहयोगियों और बलिदानियों का हम कृतज्ञतापूर्वक स्मरण करते हैं। 

SC के फैसले का सम्मान, लेकिन सुन्नी वक्फ बोर्ड संतुष्ट नहीं : जफरयाब जिलानी

बयान में आगे कहा गया है, भाईचारा और सुव्यवस्था बनाने के लिए सरकार और समाज के सभी लोगों का भी हम धन्यवाद करते हैं। साथ ही संयमपूर्वक न्याय की प्रतीक्षा करने वाली भारतीय जनता भी अभिनंदन की पात्र है। संघ ने कहा, सभी को चाहिए कि निर्णय को जय-पराजय की दृष्टि से नहीं देंखें। 

अयोध्या फैसले पर बोले अमित शाह- ऐतिहासिक निर्णय अपने आप में एक मील का पत्थर साबित होगा

सत्य और न्याय के मंथन से प्राप्त निष्कर्ष को भारत वर्ष के संपूर्ण समाज की एकात्मता और बंधुता के परिपोषण करने वाले निर्णय के रूप में देखना व उपयोग में लाना चाहिए। सभी देशवासियों से अनुरोध है कि विधि और संविधान की मर्यादा में रहकर संयमित व सात्विक रीति से अपने आनंद को व्यक्त करें। बयान में कहा गया, विवाद को खत्म करने की दिशा में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुरूप सरकार की ओर से जल्दी पहल होगी ऐसा हमें विश्वास है। 

संघ ने कहा, अतीत की सभी बातों को भुलाकर हम सभी को चाहिए कि हम श्री राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के निर्माण के साथ मिल-जुलकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह करें। उल्लेखनीय है कि प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की एक संविधान पीठ ने अयोध्या विवाद पर अपना सर्वसम्मत का फैसला शनिवार को सुनाया।