BREAKING NEWS

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस का केंद्र पर तंज, कहा- सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को बेच रही है◾पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर बोलीं वित्त मंत्री- केंद्र और राज्य सरकार दोनों को साथ चर्चा करनी चाहिए◾Ind vs Eng : ऋषभ पंत के शतक से भारत को पहली पारी में बढ़त, दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक स्कोर 294/7 ◾SC ने कहा- डिजिटल प्लेटफॉर्म के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए केंद्र सरकार के पास कोई प्रावधान नहीं◾देश में 1.8 करोड़ से अधिक लोगों का हुआ कोविड-19 टीकाकरण, देश में अभी भी 1,76,319 लोग उपचाराधीन ◾बंगाल चुनाव : TMC ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट, नंदीग्राम से चुनाव लड़ेंगी ममता◾विधानसभा चुनाव : अन्नाद्रमुक ने जारी की पहली उम्मीदवारों की सूची, CM पलानीस्वामी लड़ेंगे इडाप्पडी से चुनाव◾चीन ने अपना रक्षा बजट बढ़ाकर किया 209 अरब डालर, भारत के मुकाबले तीन गुना से अधिक ◾PM मोदी बोले-सरकार का दखल समाधान के बजाय पैदा करता है समस्या◾सुशांत ड्रग्‍स केस में NCB ने दाखिल की 30 हज़ार पेज की चार्जशीट, रिया समेत 33 लोगों के नाम शामिल ◾Tax कमाने के लिए जनता को महंगाई के दलदल में धकेलती जा रही है सरकार : राहुल◾Today's Corona Update : देश में कोरोना के 16,838 नए मामले, 113 और मरीजों की मौत ◾बंगाल चुनाव से 14 दिन पहले राकेश टिकैत करेंगे बंगाल का दौरा, BJP के खिलाफ करेंगे कैंपेन ◾केवड़िया : शीर्ष सैन्य अधिकारियों के सम्मेलन को संबोधित करेंगे PM मोदी, जवान भी करेंगे शिरकत ◾कोविड-19 टीकाकरण प्रमाणपत्र पर प्रधानमंत्री की तस्वीर संबंधी शिकायत पर चुनाव आयोग सख्त, रिपोर्ट मांगी ◾न्यूजीलैंड में शक्तिशाली भूकंप के बाद सुनामी की चेतावनी◾भाजपा सीईसी की मैराथन बैठक में असम, बंगाल के उम्मीदवारों पर हुआ मंथन,आज नामों की हो सकती है घोषणा ◾पाकिस्तान को भारत के साथ वार्ता से कभी गुरेज नहीं: विदेश कार्यालय ◾भारत में कोविड-19 के 1.77 करोड़ से अधिक टीके लगाए गए ◾भाजपा ने निर्वाचन आयोग से बंगाल के स्थानीय निकायों में नियुक्त राजनीतिक लोगों को हटाने की मांग की ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

AIMPLB को तीन तलाक पर अदालती निर्णय स्वीकार होगा

नयी दिल्ली : तीन तलाक के मामले पर उच्चतम न्यायालय में सुनवाई पूरी होने के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सर्वोच्च अदालत द्वारा अपने पक्ष में निर्णय आने की उम्मीद जताते हुए आज कहा कि अदालत का जो भी फैसला होगा उसे वह स्वीकार करेगा तथा निर्णय आने के बाद आगे की रणनीति तय करेगा।

पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी ने कहा, ''अदालत का फैसला आने के बाद ही कुछ स्पष्ट कहा जा सकेगा। वैसे हमने न्यायालय में अपना पक्ष मजबूती से रखा है और ऐसे में बेहतर होने की उम्मीद की जानी चाहिए।\" उन्होंने कहा, ''अदालत का जो भी फैसला होगा, वो हम मानेंगे। अदालत कोई आंख बंद करके फैसला नहीं करने जा रही है, यह तय है। यह कोई ऐसा मसला नहीं है जिसमें कोई उलझाव पैदा हो।अदालत ने जो कहा वो हमने कर दिया।\"

\"\"

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रखा है सुरक्षित गौरतलब है कि प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे एस खेहर के नेतृत्व वाली उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय पीठ ने तीन तलाक के मामले पर सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया। यह पूछे जाने पर कि अदालत का फैसला बोर्ड के रूख के खिलाफ आने पर क्या 1980 के दशक के शाह बानो प्रकरण की तरह के हालात पैदा हो सकते हैं तो मौलाना रहमानी ने कहा, ''इस बारे में कुछ कहना जल्दबाजी होगी। उस वक्त के हालात दूसरे थे, इस समय हालात दूसरे हैं। जब तक अदालत का निर्णय नहीं आ जाता तब तक कुछ कहना या फैसला करना मुश्किल है।\"

तीन तलाक पर देश की मीडिया के रूख को लेकर कटाक्ष करते हुए रहमानी ने कहा, ''मीडिया के रूख को देखकर ऐसा लगता है कि भारत का सबसे अहम मामला तीन तलाक है। पिछले डेढ़ साल से टीवी पर यही बहस चल रही है। मीडिया का अपना बिजनेस है और वह इसी को ध्यान में रखकर बहस कर रहा है।\"

बोर्ड पर उठाए जा रहे सवालों के संदर्भ में उन्होंने कहा, ''बोर्ड के बारे में लोग अपने हिसाब से बातें करते हैं। कभी कहते हैं कि बोर्ड रूढीवादी है और कभी कहते हैं कि वह सुधार करना चाहता है। लोगों को जो कहना है वो कहेंगे। हम लोगों को बोलने से तो रोक नहीं सकते।\" मौलाना वली रहमानी ने दावा किया कि तीन तलााक के मामले में मुस्लिम समुदाय का रूख पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ है।

उन्होंने कहा, ''मुस्लिम समुदाय का रूख स्पष्ट है। बोर्ड के पक्ष में चार करोड़ 80 लाख से अधिक लोगों ने हस्ताक्षर किए है। इनमें दो करोड़ 72 लाख महिलाओं के हस्ताक्षर शामिल हैं। इससे साफ है कि समुदाय का रूख किस तरफ है।\" तीन तलाक के मामले पर पाकिस्तान और कुछ दूसरे मुस्लिम देशों द्वारा उठाए गए कदमों का हवाला दिए जाने पर मौलाना रहमानी ने कहा, ''गलत तथ्य पेश किए जा रहे हैं। चीजें मौजूद हैं, लेकिन सही ढंग से बताई नहीं जा रही हैं। लोग पाकिस्तान का नाम ले रहे हैं। हम कोई पाकिस्तान के पिछलग्गू थोड़े हैं।\"

देश में गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसक घटनाओं का हवाला देते हुए रहमानी ने कहा, ''इस तरह की घटनाएं बहुत गंभीर हैं। इस पर बहस नहीं हो रही है। सब खामोश हैं। इसको लेकर सरकारों को कड़े कदम उठाने चाहिए।\"