BREAKING NEWS

पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾UP: बुलंदशहर में RLD नेता काफिले पर अंधाधुंध फायरिंग हुई, चार घायल समेत एक की मौत◾महाराष्ट्र के बाद अब राजस्थान में ओमीक्रॉन ने दी दस्तक, 9 केस मिलने से राज्य मे मचा हड़कंप◾महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के 8 और नए मामले आए सामने, देश में अब तक 13 लोग हो चुके संक्रमित◾ व्यापारियों ने मन बनाया है तो भाजपा का जाना और सपा का आना तय: अखिलेश यादव ◾विशेष राज्य का दर्जा बहाल कराने के लिए हमें भी किसानों की तरह देना होगा बलिदान: फारूक अब्दुल्ला ◾निकम्मी और भ्रष्टाचारी गहलोत सरकार को उखाड़ फेंकिए, भाजपा की सरकार बनवाइएः अमित शाह◾भगवंत मान का दावा, बोले- BJP के वरिष्ठ नेता ने पार्टी में शामिल होने के लिए केंद्रीय मंत्री पद की पेशकश की◾ममता बनर्जी ने नागालैंड में गोलीबारी की घटना की विस्तृत जांच कराने की मांग की, कहा- सभी पीड़ितों को मिले न्याय ◾राज्यसभा से निलंबन के बाद शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने संसद के कार्यक्रम पद से दिया इस्तीफा◾दिल्ली: सिद्धू का केजरीवाल को 'जैसे को तैसा'! गेस्ट टीचरों के प्रदर्शन में शामिल होकर 'AAP' पर साधा तीखा निशाना ◾क्या कांग्रेस मुक्त विपक्ष बना पाएंगी ममता बनर्जी? शिवसेना ने TMC के मंसूबों को बताया घातक, कही ये बात ◾ओमीक्रोन के मद्देनजर भारत समेत अन्य देशों से आने वाले यात्रियों को US में एंट्री के लिए दिखानी होगी नेगेटिव रिपोर्ट◾लखनऊ लाठीचार्ज पर राहुल का ट्वीट, 'BJP वोट मागंने आए तो याद रखना'◾नागालैंड फायरिंग: सेना ने दिया ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ का आदेश, जानिए क्या है पूरा घटनाक्रम ◾'PAK के साथ व्यापार संबंधी कोई भी बातचीत करना बेकार और व्यर्थ' सिद्धू के बयान पर मनीष तिवारी का जवाब◾दिल्ली में 'ओमीक्रॉन' वेरिएंट ने दी दस्तक, तंजानिया से आए यात्री में हुई पहले मामले की पुष्टि, LNJP में भर्ती ◾देश में जारी है कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 8 हजार से अधिक नए केस की पुष्टि ◾सियालकोट लिंचिंग: पाकिस्तान की क्रूरता ने लांघी सीमा, मारे गए श्रीलंकाई ने 'गलतफहमी के लिए मांगी थी माफी' ◾BSF स्थापना दिवस : अमित शाह बोले-हमारी सीमा और जवानों को कोई हल्के में नहीं ले सकता◾

जहर बनी हवा, वायु प्रदूषण उत्तर भारत में जीवन प्रत्याशा में नौ साल की कर सकता है कमी

भारत के वायु प्रदूषण के स्तर में समय के साथ भौगोलिक रूप से विस्तार हुआ है और महाराष्ट्र तथा मध्य प्रदेश में यह स्तर इतना बढ़ गया है कि औसतन एक व्यक्ति की जीवन प्रत्याशा में 2.5 से 2.9 वर्ष तक की अतिरिक्त गिरावट आ रही है। एक नई रिपोर्ट में प्रदूषण के परिणाम को लेकर आगाह किया गया है। 

शिकागो विश्वविद्यालय के वायु गुणवत्ता जीवन सूचकांक (एक्यूएलआई) की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत दुनिया का सबसे प्रदूषित देश है, जहां 48 करोड़ से अधिक लोग या देश की लगभग 40 प्रतिशत आबादी उत्तर में गंगा के मैदानी क्षेत्रों में रहती है, जहां प्रदूषण का स्तर नियमित रूप से दुनिया में कहीं और पाए जाने वाले स्तर से अधिक है।

विश्वविद्यालय के ‘एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट’ के अध्ययन से पता चलता है कि अगर कोई व्यक्ति स्वच्छ हवा में सांस लेता है तो वह कितने समय तक जीवित रह सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि 2019 का प्रदूषण स्तर बना रहता है तो उत्तर भारत के निवासी जीवन प्रत्याशा के नौ साल से अधिक खोने की राह पर हैं क्योंकि यह क्षेत्र दुनिया में वायु प्रदूषण के सबसे चरम स्तर का सामना करता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 में भारत का औसत ‘पार्टिकुलेट मैटर कंसंट्रेशन’ (हवा में प्रदूषणकारी सूक्ष्म कण की मौजूदगी) 70.3 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था, जो दुनिया में सबसे अधिक और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के 10 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के दिशानिर्देश से सात गुना ज्यादा है। 

रिपोर्ट के मुताबिक भारत के वायु प्रदूषण के उच्च स्तर का समय के साथ खतरनाक रूप से भौगोलिक तौर पर विस्तार हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘कुछ दशक पहले की तुलना में, सूक्ष्म कणों का प्रदूषण अब केवल भारत के गंगा के मैदानी क्षेत्रों की विशेषता नहीं है। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश राज्यों में प्रदूषण काफी बढ़ गया है। उदाहरण के लिए उन राज्यों में औसत व्यक्ति की जीवन प्रत्याशा में अब 2000 की शुरुआत के सापेक्ष अतिरिक्त 2.5 से 2.9 वर्ष की गिरावट आई है।’’

बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान के लिए, एक्यूएलआई के आंकड़ों से पता चलता है कि अगर डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों के मुताबिक प्रदूषण कम किया जाता है तो औसतन व्यक्ति 5.6 साल अधिक जीवित रहेगा। बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान की जनसंख्या वैश्विक आबादी का लगभग एक चौथाई हिस्सा है और यह लगातार दुनिया के शीर्ष पांच सबसे प्रदूषित देशों में शुमार है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि फसल अवशेष जलाने, ईंट भट्ठों और अन्य औद्योगिक गतिविधियों ने भी इस क्षेत्र में प्रदूषणकारी सूक्ष्म कणों को बढ़ाने में योगदान दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है ऐसे सूक्ष्म कण से होने वाला प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए दुनिया का सबसे बड़ा खतरा है।