BREAKING NEWS

तमिलनाडु में अब हर रविवार को रहेगा संपूर्ण लॉकडाउन, 31 जनवरी तक बढ़ाई गईं पाबंदियां◾बाहरी नेताओं के SP में शामिल होने से कोई मनमुटाव नहीं, नंदा का दावा- कुशल रणनीति से शांत हुआ असंतोष ◾मुस्लिम विरोधी बयानबाजी से भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला, जयंत चौधरी ने सरकार पर लगाया आरोप ◾UP विधानसभा चुनाव: BJP प्रचार अभियान में इन शहरों को दे रही तवज्जों, हिंदुत्व के एजेंडे पर दिखाई दे रहा फोकस◾दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों का कोरोना के प्रसार पर हुआ असर, अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या स्थिर : जैन ◾अनुराग ठाकुर का सपा पर तंज, बोले- समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल◾क्या है BJP की सबसे बड़ी कमियां? जनता ने दिया जवाब, राहुल बोले- नफरत की राजनीति बहुत हानिकारक ◾खुद PM मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का सर्टिफिकेटः अरविंद केजरीवाल◾UP : कोरोना की स्थिति नियंत्रित,CM योगी ने लोगों से की अपील- भीड़ में जाने से बचें और सावधानी बरतें◾देशव्यापी टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा हुआ, पीएम मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर दी बधाई ◾Lata Mangeshkar Health Update: जानें अब कैसी है भारत की कोयल की तबीयत, डॉक्टर ने दिया अपडेट ◾यूपी के चुनावी दंगल में AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, सभी मुस्लिम चेहरे को तरजीह, देखें लिस्ट◾गोवा में AAP को बहुमत नहीं मिला तो पार्टी गैर-भाजपा के साथ गठबंधन बनाने के बारे में सोचेगी : CM केजरीवाल◾UP चुनाव की टक्कर में OBC का चक्कर, जानें किसके सिर पर सजेगा जीत का ताज और किसे मिलेगी मात ◾योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने ज्वाइन की साइकिल, कुछ दिन पहले ही छोड़ा था बीजेपी का साथ ◾टीकाकरण अभियान का एक साल पूरा, नड्डा बोले- असंभव कार्य को संभव किया और दुनिया ने देश की सराहना की ◾पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले में की जा रही राजनीति सही नहीं : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा◾राजस्थान: कोरोना की बढ़ती रफ्तार से सरकार चिंतित, मंत्री बोले- लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन ◾टिकट न मिलने से नाखुश SP कार्यकर्ता ने की आत्मदाह की कोशिश, प्रदेश मुख्यालय के बाहर मची खलबली ◾कोरोना से जंग में ब्रह्मास्त्र बनी वैक्सीन, टीकाकरण को पूरा हुआ 1 साल, करीब 156.76 करोड़ लोगों को दी खुराक ◾

दलितों का न्याय दिलावाने के लिए अकाली दल आएगा मैदान में

लुधियाना  : पंजाब और हरियाणा समेत कई हिस्सों में हिंसा से लोग जूझ रहे है परंतु शिरोमणि अकाली दल अन्य सियासी पार्टियों की तरह वोट बैंक की खातिर पूर्ण खामोश रहा। इस खामोशी का कारण अकाली दल और डेरा सच्चा सौदा सिरसा में सियासी यारी है। अकाली दल में डेरा सिरसा के समर्थन से दो बार पंजाब में सरकार भी बनाई है। अकाली दल ने डेरा सिरसा की सहायता से हाल ही में हुई विधानसभा चुनावों के दौरान पंजाब के मालवा क्षेत्र में कुछ सीटें हासिल की थी, इसी कारण अकाली दल पंचकूला के उपरंात भड़की हिंसा के मध्यनजर पूर्ण खामोश था। परंतु अब अकाली दल के प्रधान ने चुपी तोड़ी है।

अकाली दल बादल के अध्यक्ष व पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिह बादल ने पहली बार डेरा सिरसा के खिलाफ खुल कर बोलते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति कानून के उपर नहीं है। डेरा मुखी के संबंध में जो भी फैसला सीबीआई अदालत ने किया है वे प्रशंसनीय है। वहीं हाईकोर्ट की ओर से डेरा प्रेमियों की ओर से की गई तोडफ़ोड़ संबंधी रिक्वरी डेरा सिरसा से करने के दिए आदेश एक इतिहासिक फैसला है। जिस का अकाली दल स्वागत करता है। सुखबीर बादल सोमवार को अमृतसर श्री हरिमंदिर साहिब में माथा टेकने के बाद मीडिया के साथ बातचीत कर रहे थे। बादल अपनी पत्नी व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के साथ श्री हरिमंदिर साहिब में परिवार की शांति व चढ़दी कला के लिए शुरू किए गए पाठों की श्रृंखला के तहत पहले पाठ के भोग व नए पाठ शुरू किए जाने के संबंध में आरदास करने के लिए पहुंचे थे। डेरा विवाद पर लम्बा समय से चुप्पे धारण किए सुखबीर बादल ने आखिर डेरा के खिलाफ चुप्पी तोड़ दी है। जबकि हमेशा ही अकाली दल अप्रत्यक्ष रूप में डेरा का समर्थन करता रहा है। यहां तक के प्रकाश सिंह बादल और सुखबीर सिंह बादल भी समय समय पर डेरा मुखी के पास मिलने के लिए जाते रहे है। डेरा की ओर से भी चुनावों के दौरान समय समय पर अकाली दल के पक्ष में मतदान करने की अपील जारी की जाती रही है। यह भी चर्चा रही थी कि अकाली दल के अध्यक्ष और संयोजक ने ​चंडीगढ़ स्थित अपनी सरकारी कोठी में पांच सिंह साहिबान को बुला कर डेरा मुखी को श्री अकाल तख्त साहिब से माफी देने के हिदायतें दी थी।

एक सवाल के जवाब में सुखबीर बादल ने कहा कि डेरा मुखी की पेशी के दिन हजारों की संख्या में डेरा प्रेमियों का पंचकूला पहुंचना हरियाणा सरकार की नाकामी का परिणाम है। अगर हरियाणा सरकार थोड़ी सी भी सख्ती से पेश आती तो हजारों डेरा प्रेमी न तो पंचकूला पहुंचते और न हीं हिंसक घटनाएं होती।

गुरुद्वारा छोटा घल्लूघारा के संबंध में बोलते हुए सुखबीर ने कहा कि वहां सिख रहत मर्यादा की खुल कर धज्जियां उड़ाई गई है। कांग्रेसी नेता प्रताप बाजवा और पंजाब के कांग्रेस सरकार पूरी तरह मर्यादा का उल्लघर करने वालों का साथ दे रही है। मीडिया में हर रोज सचाई सामने आ रही है। राजासांसी में दलितों के परिवारों के घरों को तोड़ गिराने को सुखबीर ने सरकार और कांग्रेस पार्टी की गिरी हुई राजनीति बताया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में भी क्षेत्र के कांग्रेसी नेता ने मुख्य भूमिका अदा की है। 40 वर्षों से घर बना कर रह रहे दलितों का न्याय दिलवाने के लिए अकाली दल मैदान में आएगा। उन्होंने कहा कि पंजाब में कानून व्यवस्था की हालत बहुत बढिया नहीं है। लोग पुलिस और कांग्रेस की राजनीतिक दहशत गर्दी के नीचे जीने को मजबूर है।

 - सुनीलराय कामरेड