BREAKING NEWS

कोविड-19 : देश में के संक्रमण के मामले 18 लाख के पार, स्वस्थ होने वालों की संख्या 11.86 लाख हुई◾पीएम मोदी, राजनाथ, नड्डा ने रक्षा बंधन पर दी देशवासियों को शुभकामनाएं ◾दिल्लीः उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने रक्षाबंधन की बधाई दी ◾सुशांत राजपूत मामले की जांच के लिए मुंबई पहुंचे IPS विनय तिवारी को बीएमसी ने किया क्वारनटीन◾कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा भी कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में कराए गए भर्ती◾विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने नए गाइडलाइन्स जारी किए ◾बिहार में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी, 53.67 लाख लोग बेहाल और जनजीवन बुरी तरह प्रभावित◾आईपीएल के लिए सरकार ने दी हरी झंडी, फाइनल 10 नवंबर को, चीनी प्रायोजक बरकरार ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 4.41 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 9,509 नए केस◾ममता बनर्जी समेत अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के जल्द स्वस्थ होने की कामना की◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रेम और भाईचारे के त्योहार रक्षाबंधन के अवसर पर देशवासियों को दी शुभकामनाएं◾तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित कोरोना पॉजिटिव पाए गए◾8 महीने बाद भी लटका है CAA , गृह मंत्रालय ने नियम बनाने के लिए तीन और महीने का समय मांगा◾बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 51,000 कोरोना मरीज हुए स्वस्थ, रिकवरी रेट बढ़कर हुआ 65.44 प्रतिशत◾कोरोना वायरस की चपेट में आए गृहमंत्री अमित शाह, ट्वीट कर दी जानकारी ◾राम मंदिर भूमि पूजन में शामिल होंगे महंत नरेंद्र गिरी, सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी न्योता◾सुशांत सुसाइड केस : जांच में तेजी लाने के लिए पटना के सिटी SP विनय तिवारी को भेजा गया मुंबई ◾सुशांत सिंह राजपूत केस : केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने CBI जांच की मांग को बताया जायज◾गैरकानूनी तरीके से नेताओं को हिरासत में लेने पर देश के लोकतंत्र को पहुंचता है नुकसान : राहुल गांधी◾UP की कैबिनेट मंत्री कमल वरुण का कोरोना संक्रमण से निधन, CM योगी ने जताया शोक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एक साथ चुनाव कराने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों की सहमति जरूरी: ओपी रावत

लोकसभा और सभी राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने का पक्ष लेते हुए चुनाव आयोग ने आज कहा कि ऐसा कुछ करने से पहले तमाम राजनीतिक पार्टियों को इसके लिए सहमत करना जरूरी है। चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा, चुनाव आयोग का हमेशा से नजरिया रहा है कि एक साथ चुनाव कराने से निवर्तमान सरकार को आदर्श आचार संहिता लागू होने से आने वाली रूकावट के बगैर नीतियां बनाने और लगातार कार्यक्रम लागू करने के लिए पर्याप्त समय मिलेगा।

उन्होंने कहा कि संविधान और जनप्रतिनिधित्व कानून में जरूरी बदलाव करने के बाद ही एक साथ चुनाव कराना मुमकिन हो सकेगा। मौजूदा कानूनी और संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार किसी राज्य की विधानसभा या लोकसभा का कार्यकाल खत्म होने से छह महीने पहले तक चुनाव कराए जा सकते हैं।रावत ने कहा कि संवैधानिक और कानूनी खाका बनाने के बाद ही तमाम तरह के समर्थन मांगना और एक साथ चुनाव कराना व्यवहार्य होगा। उन्होंने कहा, आयोग (संवैधानिक और कानूनी बदलाव करने के बाद) ऐसे चुनाव छह महीने बाद करा सकता है। उन्होंने कहा कि एक साथ चुनाव कराने के लिए तमाम राजनीतिक पार्टियों की सहमति आवश्यक है। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और ओडिशा विधानसभाओं के चुनाव 2019 के मध्य में अगले आम चुनाव के साथ होने है।

रावत ने कहा कि एक साथ चुनाव कराने पर निर्वाचन आयोग से 2015 में अपना रुख बताने को कहा गया था। रावत ने कहा कि आयोग ने उस साल मार्च में अपने विचार दे दिए थे। उसने कहा था कि इस तरह के चुनावो को व्यावहारि बनाने के लिए कुछ कदम उठाना जरूरी है। रावत ने कहा कि एक साथ चुनाव कराना तभी संभव हो पाएगा जब आयोग को पर्याप्त वक्त दिया जाए। उन्होंने कहा कि इस के लिए 24 लाख इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन ( ईवीएम ) और उतनी ही संख्या में वोटर वेरीफाइबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) मशीनों की जरूरत पड़ेगी।

निर्वाचन आयुक्त रावत ने कहा, हमें ईवीएम के दो सेट की जरूरत होगी - एक लोकसभा के लिए और दूसरा विधानसभा चुनावों के लिए। उन्होंने कहा कि और ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों के ऑर्डर पहले ही दिए जा चुके हैं और नई मशीनें और दूसरी चीजें आने वाले दिनों में आनी शुरू होंगी। रावत ने कहा, आयोग आवश्यक संख्या में ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों को 2019 के मध्य तक या जरूरी हुआ तो इससे पहले हासिल कर लेगा। निर्वाचन आयुक्त के बयान की अहमियत है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने की पहले ही वकालत कर चुके हैं। सरकार के नीति आयोग ने राष्ट्रीय हित में 2024 से दो चरण में लोकसभा के चुनाव और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने की सिफारिश की थी।