BREAKING NEWS

पंजाब, हरियाणा के किसान कृषि विधेयकों के खिलाफ 25 सितम्बर को करेंगे विरोध प्रदर्शन◾MP में किसानों के फसल कर्ज माफी पर बोले राहुल - कांग्रेस ने जो कहा, सो किया◾KXIP VS RCB (IPL 2020) : रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की करारी हार, किंग्स इलेवन पंजाब ने RCB को 97 रनों से हराया◾भारत-चीन सीमा विवाद : दोनों पक्ष सैनिकों को पीछे हटाने के लिए वार्ता जारी रखेंगे - विदेश मंत्रालय◾ड्रग्स केस: गोवा से मुंबई पहुंचीं दीपिका पादुकोण, शनिवार को NCB करेगी पूछताछ◾ KXIP vs RCB IPL 2020 : पंजाब ने बैंगलोर को दिया 207 रनों का टारगेट, केएल राहुल ने जड़ा शतक◾महाराष्ट्र में कोरोना के 19164 नए केस, 17185 मरीज हुए ठीक◾जाप ने जारी किया चुनावी घोषणा पत्र, बेरोजगारों को रोजगार देने का किया वादा ◾COVID-19 से संक्रमित मनीष सिसोदिया डेंगू से भी पीड़ित हुए, लगातार गिर रही है ब्लड प्लेटलेट्स◾कृषि और श्रम कानून को लेकर राकांपा का केंद्र पर तंज, कहा- ईस्ट इंडिया कंपनी स्थापित कर रही है सरकार ◾महिला अपराध पर सीएम योगी सख्त, छेड़खानी और बलात्कारियों के पोस्टर लगाने का दिया आदेश ◾कांग्रेस का बड़ा आरोप - केंद्र सरकार ने कृषि विधेयकों के जरिए नयी जमींदारी प्रथा का उद्घाटन किया◾IPL 2020 KXIP vs RCB: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का किया फैसला◾कृषि बिल के विरोध पर बोले केंद्रीय मंत्री तोमर, कांग्रेस पहले अपने घोषणापत्र से मुकरने की करे घोषणा◾महीनों के लॉकडाउन के बाद भी नहीं थम रहा है कोरोना, जानिये भारत क्यों चुका रहा है भारी कीमत◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा- विपक्षी दलों की राजनीति हो गई है दिशाहीन ◾ICU में भर्ती डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की हालत स्थिर, अगले कुछ दिनों में फिर होगा कोरोना टेस्ट ◾रेलवे ने जताई चिंता - 'रेल रोको आंदोलन' से जरूरी सामानों और राशन की आवाजाही पर पड़ेगा असर ◾महाराष्ट्र : एकनाथ शिंदे भी कोरोना वायरस से संक्रमित, संपर्क में आए लोगों से जांच करवाने की अपील की ◾कांग्रेस ने अमित शाह की रैली को बताया जनता का अपमान, कोरोना संकट में धनबल की राजनीति का लगाया आरोप◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश विभाजन किया जिसके कारण नागरिकता कानून में संशोधन की जरूरत पड़ी : अमित शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को लोकसभा में आरोप लगाया कि धर्म के आधार पर 1947 में कांग्रेस पार्टी ने देश का विभाजन किया जिसके कारण सरकार को अब नागरिकता कानून में संशोधन के लिए विधेयक लाने की जरूरत पड़ी। लोकसभा में नागरिकता विधेयक पेश करते हुए शाह ने कहा, ‘‘कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश का विभाजन किया। अगर धर्म के आधार पर देश का विभाजन नहीं किया जाता तब इस विधेयक की जरूरत नहीं पड़ती।’’ 

उन्होंने कहा कि उपयुक्त श्रेणीबद्धता के आधार पर पहले भी ऐसा किया गया। 1971 में इंदिरा गांधी के कार्यकाल में बांग्लादेश बनते समय वहां से जितने लोग आए, उन सभी को नागरिकता दी गई। अमित शाह ने सवाल किया ‘‘तो फिर पाकिस्तान से आए लोगों को क्यों नहीं लिया (नागरिक नहीं बनाया गया) ? इसके अलावा युगांडा से आए लोगों को भी नागरिकता दी गई। दंडकारण्य कानून को लेकर आए तब भी नागरिकता दी गई। 

अखिलेश यादव ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया भारत और संविधान का अपमान

राजीव गांधी के समय भी लोगों को लिया गया।’’ उन्होंने कहा कि दुनिया के अनेक देशों में ऐसे ढेर सारे उदाहरण है जहां लोगों को नागरिकता दी गई। विपक्षी सदस्यों ने हालांकि इसका विरोध करते हुए कहा कि पहली बार देश को मुस्लिम और गैर मुस्लिम में बांटने का प्रयास किया जा रहा है। इस पर अमित शाह ने कहा कि विधेयक में ऐसी कोई बात नहीं है और संविधान के किसी भी अनुच्छेद का इसमें उल्लंघन नहीं किया गया है। 

संविधान के सभी अनुच्छेदों का ध्यान रखते हुए विधेयक तैयार किया गया है। उन्होंने सवाल किया कि अगर सभी को समान अधिकार देने की बात की जा रही है तब किसी को विशेष अधिकार क्यों? सभी को समान अधिकार दिया जाए। अमित शाह ने कहा कि तीन देश अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान भारत की भौगोलिक सीमा से लगे हैं। भारत के साथ अफगानिस्तान की 106 किलोमीटर की सीमा लगती है। 

गृह मंत्री ने कहा कि अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान ऐसे राष्ट्र हैं जहां राज्य का धर्म इस्लाम है। अमित शाह ने कहा कि आजादी के बाद बंटवारे के कारण लोगों का एक दूसरे के यहां आना जाना हुआ। इस समय ही नेहरू लियाकत समझौता हुआ जिसमें एक दूसरे के यहां अल्पसंख्यकों को सुरक्षा की गारंटी देने की प्रतिबद्धता व्यक्त की गई थी। उन्होंने कहा कि हमारे यहां तो अल्पसंख्यकों को सुरक्षा प्रदान की गई लेकिन अन्य जगह ऐसा नहीं हुआ। 

हिन्दुओं, बौद्ध, सिख, जैन, पारसी और ईसाई लोगों को धार्मिक प्रताड़ना का शिकार होना पड़ा। अमित शाह ने कहा कि इस विधेयक के माध्यम से इन तीन देशों से आए छह धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि इन तीनों देशों में स्वाभाविक रूप से मुसलमानों के साथ अत्याचार नहीं हुआ। गृह मंत्री ने कहा कि फिर भी कोई मुस्लिम नियमों के तहत आवेदन करता है, तब उस पर विचार किया जा सकता है। 

लोकसभा में विपक्षी सदस्यों ने विधेयक पेश करने का भारी विरोध किया। विधेयक को पेश किए जाने के लिए विपक्ष की मांग पर मतदान करवाया गया और सदन ने 82 के मुकाबले 293 मतों से इस विधेयक को पेश करने की स्वीकृति दे दी। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस सहित विपक्षी सदस्यों ने विधेयक को संविधान की मूल भावना एवं अनुच्छेद 14 का उल्लंघन बताते हुए इसे वापस लेने की मांग की।