BREAKING NEWS

रक्षा मंत्रालय बड़ा फैसला - 2,290 करोड़ रुपये के सैन्य उपकरणों की खरीद को मंजूरी दी ◾प. बंगाल के राज्यपाल की ममता सरकार को चेतावनी - संविधान की रक्षा नहीं हुई तो कार्रवाई होगी◾‘नमामि गंगे’ मिशन के तहत प्रधानमंत्री मोदी उत्तराखंड में छह बड़ी परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾सचिन पायलट का केन्द्र सरकार पर वार - चुनौतीपूर्ण समय में किसानों के साथ किया विश्वासघात◾कोरोना महामारी ने किसी एक स्रोत पर वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला की निर्भरता के जोखिम को उजागर किया : मोदी ◾RCB vs MI: मुंबई इंडियंस ने टॉस जीतकर चुनी गेंदबाजी, आरसीबी को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾रियल एस्टेट सेक्टर पर कोरोना की भारी मार, जुलाई-सितंबर के दौरान घरों की बिक्री 61 प्रतिशत घटी ◾3 अक्टूबर को प्रधानमंत्री मोदी अटल सुरंग रोहतांग का करेंगे उद्घाटन, सामरिक रूप से है बेहद खास ◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नयी रक्षा खरीद प्रक्रिया को किया जारी, स्वदेशी उत्पादन को मिलेगा बढ़ावा ◾सुशांत केस को लेकर सीबीआई का बयान- हर पहलू से की जा रही है जांच◾भारत में 50 लाख से अधिक कोरोना मरीज हुए संक्रमण मुक्त, रिकवरी रेट पहुंचा 82.58 प्रतिशत◾शिवसेना का राजग पर निशाना : इस गठबंधन में अब राम नहीं बचे हैं, जिसने अपने दो शेर खो दिये हैं ◾अनलॉक 5 की गाइडलाइन्स : खुल सकते है पर्यटन स्थल और सिनेमा हॉल,मिल सकती है अधिक छूट ◾केंद्र का सुप्रीम कोर्ट में जवाब : टाली गई किस्तों पर बैंकों के ब्याज में छूट को लेकर निर्णय जल्द ◾बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा गाइडलाइन्स जारी◾कृषि बिल पर राहुल का वार- किसानों के लिए मौत का फरमान है नया कानून, देश में मर चुका है लोकतंत्र◾कृषि विधेयक के विरोध में कर्नाटक में राज्यव्यापी बंद, कार्यकर्ताओं ने बस स्टेशनों को किया सीज◾कोविड-19 : देश में 95 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान, पॉजिटिव केस की संख्या 60 लाख के पार◾भगत सिंह की जयंती आज, पीएम मोदी बोले- उनकी वीरता की गाथा देशवासियों को युगों तक प्रेरित करती रहेगी◾TOP 5 NEWS 28 SEPTEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अमित शाह ने CAB को लेकर पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों और नेताओं के साथ की बैठक

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को असम, अरुणाचल प्रदेश और मेघालय के राजनीतिक दलों, छात्र निकायों और नागरिक समाज समूहों के नेताओं साथ प्रस्तावित नागरिकता संशोधन (सीएबी) विधेयक की रूप-रेखा पर चर्चा की। सूत्रों ने यह जानकारी दी। बैठक में असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, अरुणाचल प्रदेश मुख्यमंत्री पेमा खांडू और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा, केन्द्रीय मंत्री किरण रिजीजू और विभिन्न सांसदों ने शिरकत की। 

सोनोवाल ने कहा कि शाह द्वारा सीएबी पर परामर्श से सभी आशंकाओं को दूर करने में मदद मिलेगी। उन्होंने बताया, ‘‘ये पूर्वोत्तर के सभी तबकों के लोगों से बातचीत की बेहद ईमानदार और लोकतांत्रिक कोशिश है। मुझे विश्वास है कि गृह मंत्री के साथ बैठक में जो शामिल हुए, उन्होंने क्षेत्र को लेकर केंद्र सरकार की प्रतिबद्धता को महसूस किया।’’

 ज्यादातर क्षेत्रीय दलों और नागरिक समाज समूहों ने इस बात पर चिंता जताई कि सीएबी से आदिवासी प्रभावित हो सकते हैं। 

सूत्रों ने कहा कि ऐसा पता चला है कि गृह मंत्री ने उन्हें संकेत दिया कि आंतरिक रेखा परमिट (आईएलपी) व्यवस्था द्वारा संरक्षित आदिवासी क्षेत्र और ऐसे क्षेत्र जो संविधान की छठी अनुसूची के तहत प्रशासित होते हैं, वे सीएबी से प्रभावित नहीं होंगे। सूत्रों ने बताया कि इस क्षेत्रों को प्रस्तावित विधेयक के दायरे से छूट दी जा सकती है और समझा जा रहा है कि उक्त आशंकाओं के संबंध में शाह ने प्रतिनिधियों को संतुष्ट कर दिया। 

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार ने पास किया फ्लोर टेस्ट, 169 विधायकों ने दिया समर्थन

असम के मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को कहा कि शाह ने शुक्रवार की रात त्रिपुरा और मिजोरम के राजनीतिक नेताओं और नागरिक समाज के सदस्यों के साथ चार घंटे तक बैठक की और चीजें सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं। सरमा ने ट्वीट किया, "केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने प्रस्तावित नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर शुक्रवार को त्रिपुरा और मिजोरम के राजनीतिक दलों और नागरिक समाज संगठनों के साथ चार घंटे तक चर्चा की। वह आज असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश के प्रतिनिधिमंडलों के साथ इसपर चर्चा करेंगे। चीजें सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं।" 

नागरिकता अधिनियम 1955 में प्रस्तावित संशोधन पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के हिन्दूओं, सिखों, बौद्ध, जैन, पारसियों और ईसाइयों को भारत की नागरिकता देने की बात कहता है, भले ही उनके पास कोई उचित दस्तावेज नहीं हों। विधेयक को लेकर पूर्वोत्तर राज्यों में कड़े विरोध के मद्देनजर गृह मंत्री शुक्रवार और शनिवार को इस मुद्दे पर सिलसिलेवार बैठकें कर चुके हैं और तीन दिसंबर को भी वे इस सिलसिले में बैठके करेंगे।