BREAKING NEWS

प्रियंका गांधी बोली- तानाशाह सरकार दबाना चाहती है छात्रों की आवाज, विश्वविद्यालयों में घुसकर छात्रों को पीटा◾Citizenship Amendment Law के विरोध में चल रहे हिंसक प्रदर्शनों के बीच सरिता विहार से कालिंदी कुंज के बीच यातायात बंद◾उन्नाव रेप केस: आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर को सजा होगी या नहीं, फैसला आज◾लालू की बहू ऐश्वर्या ने सास पर मारपीट का लगाया आरोप, बोलीं- राबड़ी देवी ने बाल नोंचे और पीटा◾जामिया में प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिए गए 50 छात्र रिहा : दिल्ली पुलिस ◾झारखंड विधानसभा चुनाव: चौथे चरण के लिए 15 सीटों पर मतदान जारी ◾कैब प्रदर्शनों के बाद सभी मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश एवं निकास द्वार खोले गए: DMRC◾जामिया हिंसा : कुछ नेताओं ने जांच की मांग की, तो कुछ ने प्रदर्शनकारियों को ‘‘अराजकतावादी’’ करार दिया ◾नागरिकता पर प्रदर्शन : जामिया, एएमयू में हिंसक प्रदर्शन, बंगाल में उबाल, असम में स्थिति में सुधार ◾दिल्ली में हिंसा को लेकर भाजपा और आप के बीच आरोप-प्रत्यारोप◾दक्षिणपूर्व दिल्ली के स्कूल सोमवार को बंद रहेंगे : सिसोदिया◾दिल्ली जामिया बवाल : चूक गया दिल्ली पुलिस का खुफिया तंत्र !◾उत्तर भारत में शीत लहर का प्रकोप जारी, उत्तराखंड में बर्फबारी से जुड़ी घटनाओं में तीन की मौत ◾AMU में छात्रों का हंगामा और पथराव: विश्वविद्यालय 5 जनवरी तक के लिए बंद ◾भाजपा सरकार ने पूर्वोत्तर और बंगाल के बाद दिल्ली को भी जलने के लिए छोड़ दिया है : कांग्रेस◾जामिया नगर में हिंसक झड़पें, तनाव बरकरार◾हेटमेयर और होप के शतक, वेस्टइंडीज की दमदार जीत ◾दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन◾केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾

देश

पूरे देश में लागू होगा NRC, किसी को भी डरने की जरूरत नहीं : अमित शाह

 shah nrc

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बुधवार को कहा कि किसी को राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) से डरने की जरूरत नहीं है और यह पूरे देश में लागू किया जाएगा। राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में शाह ने कहा, 'एनआरसी में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है, जिसमें ऐसा कहा जाए कि इसमें दूसरे धर्म के लोगों को शामिल नहीं किया जाएगा।' 

उन्होंने कहा कि यह पूरे देश में लागू किया जाएगा और किसी को भी इससे डरने की जरूरत नहीं है। लेकिन, NRC पूरे भारत में हर किसी पर लागू होगा, चाहे वह किसी भी धर्म का हो। हिंदू, बौद्ध, सिख, जैन, ईसाई, पारसी सभी शरणार्थियों को नागरिकता मिलनी चाहिए, इसीलिए नागरिकता संशोधन विधेयक की आवश्यकता है ताकि पाकिस्तान, बांग्लादेश या अफगानिस्तान में धर्म के आधार पर भेदभाव करने वाले इन शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता मिल सके।

उन्होंने कहा, NRC में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जो यह कहता हो कि NRC के तहत कोई अन्य धर्म नहीं लिया जाएगा। भारत के सभी नागरिक चाहे वे किसी भी धर्म के हों, NRC सूची में शामिल होंगे। NRC नागरिकता संशोधन विधेयक से अलग है। देश भर में NRC की प्रक्रिया को अंजाम दिया जाएगा। कोई भी हो, चाहे वह किसी भी धर्म का हो, सभी को एनआरसी के तहत लाना एक प्रक्रिया है।

गृहमंत्री ने कहा, जिन लोगों का नाम ड्राफ्ट लिस्ट में नहीं आया है, उन्हें ट्रिब्यूनल में जाने का अधिकार है। अधिकरण पूरे असम में गठित किए जाएंगे। यदि किसी व्यक्ति के पास ट्रिब्यूनल से संपर्क करने के लिए पैसा नहीं है, तो असम सरकार को वकील रखने की लागत वहन करनी होगी। उल्लेखनीय है कि एनआरसी फिलहाल असम में लागू हुआ है।