BREAKING NEWS

Money Laundering Case: सत्येंद्र जैन की जमानत याचिका पर ED को समन, HC ने दो हफ्ते में मांगा जवाब◾दो घंटे तक चले नार्को टेस्ट में आरोपी आफताब ने उगले ये रहस्यमयी राज! यहां देखिये क्या थे पुलिस के बड़े सवाल◾मुंबई : live stream कर रही कोरियाई महिला से छेड़छाड़, जबरन Kiss करने की कोशिश, 2 आरोपी गिरफ्तार◾सानिया मिर्जा से तलाक के बाद क्या होगा शोएब मलिक का प्लान? शादी की अफवाहों को लेकर आयशा ने तोड़ी चुप्पी◾हिंद महासागर में भारत के लिए खतरा बन रहा है चीन, US की डिफेंस एनुअल रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे◾Sunanda Pushkar Death Case : शशि थरूर की बढ़ेंगी मुश्किलें, दिल्ली पुलिस की अपील पर कोर्ट ने भेजा नोटिस◾MCD Election : BJP के प्रचार के लिए मैदान में 17 केंद्रीय मंत्री, केजरीवाल ने ली चुटकी◾गुजरात : कलोल से PM मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कहा- चल रही है प्रधानमंत्री को गाली देने की होड़◾दिल्ली : जज का महिला कर्मचारी संग अश्लील MMS वायरल , HC ने सस्पेंड कर सरकार को दिया ये आदेश◾AAP के गोपाल इटालिया का आरोप - 'जानबूझकर स्लो वोटिंग करा रहा है EC, एक बच्चे को हराने के लिए इतना मत गिरो '◾Gujarat Assembly Election: PM मोदी आज अहमदाबाद में रोड शो से पहले कई जनसभाओं को भी करेंगे संबोधित◾LAC पर सैन्य चौकियां बना रहा है चीन, आक्रामक रुख पर अमेरिकी सांसद का बड़ा बयान◾राहुल गांधी को मिला अभिनेत्री स्वरा भास्कर का साथ, Bharat Jodo Yatra में दिग्गज नेताओं के साथ हुईं शामिल◾दूल्हे ने स्टेज पर किया KISS ..तो दुल्हन ने तोड़ी शादी, बोली-इनका चरित्र ठीक नहीं◾अमेरिका में VR Headset नहीं खरीदने पर 10 साल के बच्चे ने की अपनी मां हत्या◾गुजरात : मतदान से पहले BJP उम्मीदवार पर जानलेवा हमला, कांग्रेस पर लगा गंभीर आरोप◾Shraddha Murder Case: नार्को में सवालों के जवाब उगलेगा आफताब, अस्पताल के बाहर कड़ी सुरक्षा◾गुजरात चुनाव 2022 : जानिये कौन है साइकिल पर गैस सिलेंडर लेकर वोट डालने पहुंचे कांग्रेस उम्मीदवार◾श्रद्धा मर्डर केस : आज होगा आफताब का नार्को टेस्ट, आरोपी को अंबेडकर अस्पताल लेकर पहुंची पुलिस◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में 291 नए मामले दर्ज, उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 4,767 ◾

खेल मंत्री ने हॉकी टीम को लिया आड़े हाथों, कहा- राष्ट्रीय महासंघ को लेकर फैसला लेने से पहले सरकार से परामर्श जरूरी

भारतीय जनता पार्टी के नेता और केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने अगले साल होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों से हटने का एकतरफा फैसला करने के लिये हॉकी इंडिया को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि राष्ट्रीय महासंघ का ऐसा कोई भी निर्णय करने से पहले सरकार के साथ परामर्श करना जरूरी होता है। ठाकुर ने कहा कि देश में ओलंपिक खेलों का मुख्य वित्त पोषक होने के कारण सरकार को राष्ट्रीय टीम के प्रतिनिधित्व पर निर्णय करने का पूरा अधिकार है।

उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘मुझे लगता है कि किसी भी महासंघ को इस तरह का बयान देने से बचना चाहिए और पहले सरकार के साथ चर्चा करनी चाहिए क्योंकि यह महासंघ की टीम नहीं, राष्ट्रीय टीम है।’’ ठाकुर ने कहा, ‘‘इस 130 करोड़ की जनसंख्या वाले देश में केवल 18 खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व नहीं करते है। यह (राष्ट्रमंडल खेल) वैश्विक प्रतियोगिता है और मेरा मानना है कि उन्हें (हॉकी इंडिया) को सरकार और संबंधित विभाग से बात करनी चाहिए। फैसला सरकार करेगी।’’

हॉकी इंडिया ने कोविड-19 से जुड़ी चिंताओं और ब्रिटेन के पृथकवास से जुड़े भेदभावपूर्ण नियमों के कारण मंगलवार को बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों से हटने का फैसला किया जिसके बाद ठाकुर का कड़ा बयान आया है। हॉकी इंडिया ने इसके साथ ही कहा था कि बर्मिंघम खेलों (28 जुलाई से आठ अगस्त) और हांगजोउ एशियाई खेलों (10 से 25 सितंबर) के बीच केवल 32 दिन का समय है। एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने पर टीम 2024 में होने वाले पेरिस ओलंपिक के लिये सीधे क्वालीफाई कर जाएगी।

मंत्री ने कहा कि देश में हॉकी प्रतिभाओं की कमी नहीं हैं तथा उन्होंने क्रिकेट का उदाहरण देते हुए कहा कि पेशेवर खिलाड़ियों के लिये लगातार दो टूर्नामेंटों में खेलना नयी बात नहीं है। उन्होंने कहा,‘‘भारत में हॉकी में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। अगर आप क्रिकेट देखें तो आईपीएल चल रहा है और फिर विश्व कप है। अगर क्रिकेटर एक के बाद एक दो टूर्नामेंट खेल सकते हैं, तो दूसरे खेलों के खिलाड़ी क्यों नहीं खेल सकते हैं।’’

ठाकुर ने कहा, ‘‘मैं समझ सकता हूं कि एशियाई खेलों को प्राथमिकता दी जा रही है और मैं इस संदर्भ में नहीं जा रहा हूं। मैं सिर्फ यह कह रहा हूं कि भारतीय टीम कहां खेलेगी, यह केवल महासंघ नहीं सरकार पर भी निर्भर करता है।’’ इस बीच ठाकुर ने कहा कि इस साल के राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिये चयनसमिति की बैठक अगले 10 दिन में हो जाएगी। उन्होंने कहा, ‘‘चयन समिति अगले 10 दिन में बैठक करेगी जिसमें वह पुरस्कार विजेताओं पर फैसला करेगी। राष्ट्रपति से समय मिलने के बाद पुरस्कार प्रदान किये जाएंगे।’’