BREAKING NEWS

पाकिस्तान अगर भारत से अच्छे संबंध चाहता है तो वांछित भारतीय अपराधियों को सौंपे : जयशंकर ◾बाबरी मस्जिद के पास रहने वाले परिवार ने खोलीं अयोध्या विवाद की परतें ◾दिल्ली -NCR में प्रदूषण पर बैठक से सांसद गंभीर और शीर्ष अधिकारी गैरहाजिर रहे ◾दिल्ली की जिला अदालतों में वकीलों की हड़ताल खत्म ◾CJI गोगोई ने सेवानिवृत्त होने से पहले अयोध्या पर फैसले के साथ इतिहास के पन्नों में नाम दर्ज कराया ◾प्रधानमंत्री ने प्रदूषण की ‘आपात स्थिति’ पर मुख्यमंत्रियों के साथ कितनी बैठकें कीं?: कांग्रेस ◾दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए सभी एजेंसियों को साथ मिलकर काम करना होगा : जावड़ेकर ◾प्रदूषण पर संसदीय समिति की बैठक में नहीं आने पर गंभीर की सफाई◾महाराष्ट्र : चन्द्रकांत पाटिल बोले- भाजपा के पास 119 विधायकों का समर्थन, जल्दी ही सरकार बनाएंगे◾TOP 20 NEWS 15 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾प्रियंका गांधी बोली- भाजपा सरकार भी डींगें हांकने के लिए डाटा छिपाने में लगी है◾प्रदूषण को लेकर SC ने 4 राज्यों के चीफ सेक्रेटरी को किया तलब, कहा- ऑड-ईवन स्थायी समाधान नहीं◾INX मीडिया : दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज की चिदंबरम की जमानत याचिका ◾राहुल बोले- 'मोदीनॉमिक्स' ने इतना नुकसान कर दिया कि सरकार को अपनी रिपोर्ट छिपानी पड़ रही है◾शरद पवार बोले-शिवसेना, NCP और कांग्रेस की सरकार 5 साल का कार्यकाल पूरा करेगी◾ऑड-ईवन योजना की अवधि बढ़ाए जाने पर सोमवार को होगा फैसला : केजरीवाल◾NCP नेता नवाब मलिक बोले- शिवसेना को किया गया अपमानित, निश्चित रूप से CM उनका ही होगा◾SC ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में शिवकुमार की जमानत के खिलाफ ED की याचिका की खारिज◾5 साल की बात क्यों, हम चाहते हैं 25 साल रहे शिवसेना का CM : संजय राउत◾दिल्ली-NCR में आज भी प्रदूषण की स्थिति गंभीर, आसमान में छाई धुंध की चादर◾

देश

SC में अयोध्या मामले की सुनवाई, हिंदू पक्ष के वकील ने रामलला को बताया नाबालिग

अयोध्या भूमि केस में आज नौवें दिन सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चली जिसमे दोनों पक्षों ने अपनी-अपनी दलीलें रखी। 6 अगस्त से उच्चतम अदालत इस मामले की रोजाना सुनवाई कर रही है। बीते दिन मंगलवार की सुनवाई खत्म होने तक यह कहा गया था कि शिला पर मौजूद मगरमच्छ और कछुए के तस्वीरें जो है उनका इस्लाम धर्म से किसी भी प्रकार से कोई ताल्लुकात नहीं है। 

आज सुनवाई के दौरान एक और दिलचस्प दलील रखी गई जिसमें रामलला को नाबालिग बताया गया। सीएस वैद्यनाथन ने  आगे कहा कि रामलला क्योंकि बालिग नहीं है इसीलिए उनकी प्रॉपर्टी को न तो कोई बेच सकता है और न ही कोई खरीद सकता है। 

वही, रामलला विराजमान पक्ष के वकील सीएस वैद्यनाथन ने कहा कि विवादित भूमि पर मंदिर रहा हो या न रहा हो, मूर्ति हो या न हो लोगों की मान्यता होनी काफी है कि वही रामजन्म स्थान है। यह सब पुष्टि करने के लिए काफी है। 

इसके अलावा अदालत में रामलला के वकील ने कहा कि राममंदिर में विराजित रामलला कानूनी रूप से नाबालिग का दर्जा रखते हैं.कोई भी पक्ष किसी नाबालिक की सम्पति को लेकर कोई भी निर्णय नहीं कर सकता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 1949 में विवादस्पद जगह पर से रामलला की मूर्ति मिलने के बाद दूसरा पक्ष ने 12  तक कोई भी सवाल नहीं उठाया और चुपचाप बैठा रहा। 


उन्होंने किसी भी प्रकार की कोई क़ानूनी आपत्ति नहीं जताई साथ ही न कोई किसी भी तरह का अपना दावा ठोका। इसी आधार पर अदालत जन्मस्थान को लेकर हज़ारों वर्षो से चली आ रही आस्था को समझे और पक्ष को महत्व मिले। 

आपको बता दें कि विवादित स्थान को लेकर इस मसले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की प्रमुखता में पांच जजों की संवैधानिक पीठ के अधीन की जा रही है।