BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

अयोध्या मामला: सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा मामला वापस लेने की खबरों पर मुस्लिम पक्षकारों में मची हलचल

अयोध्या भूमि विवाद में मुस्लिम पक्षकारों ने बयान जारी कर सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा मामला वापस लेने संबंधी खबरों पर शुक्रवार को हैरानी जताई। अयोध्या भूमि विवाद में अहम मुस्लिम वादी एम सिद्दीक के वकील एजाज मकबूल ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को छोड़कर सभी मुस्लिम पक्षों ने समझौते को खारिज कर दिया है क्योंकि विवाद के मुख्य हिंदू पक्षकार मध्यस्थता प्रक्रिया और इसके तथाकथित समाधान का हिस्सा नहीं थे। 

सुन्नी वक्फ बोर्ड को छोड़कर मुस्लिम पक्षकारों ने स्पष्टीकरण बयान जारी कर कहा कि वे उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त मध्यस्थता समिति के राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद भूमि विवाद को सौहार्दपूर्वक सुलझाने के लिए तथाकथित समझौते के प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करेंगे। बयान में कहा गया, ‘‘हम सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील शाहिद रिजवी के हवाले से मीडिया में आ रही इन खबरों से हैरान हैं कि उत्तर प्रदेश सुन्नी केंद्रीय वक्फ बोर्ड बाबरी मस्जिद स्थल पर अपना दावा वापस लेने का इच्छुक है।’’ इसमें कहा गया है, ‘‘हम यह बिल्कुल स्पष्ट करना चाहते हैं कि उच्चतम न्यायालय के समक्ष हम, अपीलकर्ता, प्रेस को लीक किए गए प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करते, हम न ही मध्यस्थता की प्रक्रिया को स्वीकार करते हैं और न ही दावे की वापसी को समझौता बनाने वाले तरीके को स्वीकार करते हैं।’’ 

दिल्ली की वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में, सप्ताहांत तक भारी गिरावट की उम्मीद

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने इस मामले पर 40 दिन सुनवाई करने के बाद 16 अक्टूबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। ऐसा बताया जाता है कि इसी दिन मध्यस्थता समिति की रिपोर्ट भी न्यायालय को सौंपी गई थी। उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एफ एम आई कलीफुल्ला तीन सदस्यीय मध्यस्थता समिति की अध्यक्षता कर रहे थे। समिति के दो अन्य सदस्यों में आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर और मध्यस्थ्ता विशेषज्ञ वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पांचू शामिल थे। 

मध्यस्थता समिति से जुड़े सूत्रों ने बताया कि सीलबंद लिफाफे में सौंपी गई रिपोर्ट हिंदू और मुस्लिम पक्षकारों के बीच ‘‘एक तरह का समझौता’’ है। सूत्रों ने बताया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्वाणी अखाड़ा, निर्मोही अखाड़ा, राम जन्मभूमि पुनरुद्धार समिति और कुछ अन्य हिंदू पक्षकार भूमि विवाद को आपसी सहमति से सुलझाने के पक्ष में हैं। कथित रूप से ऐसा भी बताया जा रहा है कि सुन्नी वक्फ बोर्ड समझौते के फार्मूले के तहत मुकदमे को वापस लेने का इच्छुक है। 

सूत्रों के अनुसार पक्षकारों ने धर्मिक स्थल कानून, 1991 के प्रावधानों के तहत ही समझौते का आग्रह किया था। इस कानून में प्रावधान है कि किसी अन्य मस्जिद या दूसरे धार्मिक स्थलों , जिनका निर्माण मंदिरों को गिराकर किया गया है और जो 1947 से अस्तित्व में है, को लेकर कोई विवाद अदालत में नहीं लाया जायेगा। हालांकि, राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को इस कानून के दायरे से बाहर रखा गया था। 

सूत्रों ने बताया कि मुस्लिम पक्षकारों ने सुझाव दिया कि विवाद का केन्द्र भूमि सरकार को अधिग्रहण में सौंप दी जायेगी और वक्फ बोर्ड सरकार को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीन चुनिन्दा मस्जिदों की सूची पेश करेगा जिन्हें नमाज के लिये उपलब्ध कराया जा सकता है। शीर्ष अदालत में इस प्रकरण में पेश होने वाले एक वरिष्ठ अधिवक्ता का कहना था कि चूंकि अब सुनवाई पूरी हो गयी है , इसलिए मीडिया को लीक की गयी इस रिपोर्ट का कोई महत्व नहीं है। हिन्दू और मुस्लिम पक्षकारों के कुछ वकीलों ने कहा कि मध्यस्थता समिति द्वारा रिपोर्ट सौंपे जाने के बारे शीर्ष अदालत ने उन्हें सूचित भी नहीं किया है।