BREAKING NEWS

इमाम एसोसिएशन के अध्यक्ष का विवादित बयान, कहा-मस्जिद बनाने के लिए ध्वस्त किया जा सकता है मंदिर◾राहुल गांधी ने PM से पूछा-चीनी घुसपैठ को लेकर झूठ बोलने की वजह बतायें मोदी ◾देश में कोरोना संक्रमण के 56,282 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 19 लाख 64 हजार के पार ◾भारी बारिश के कारण जलमग्न हुई मुंबई, महाराष्ट्र में NDRF की 16 टीमों को किया गया तैनात◾अहमदाबाद के कोविड अस्पताल में आग लगी, 8 कोरोना मरीजों की मौत, CM रूपानी ने जांच के दिए आदेश◾भाजपा नेता मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उप राज्यपाल, शुक्रवार को लेंगे शपथ◾World Corona : विश्व में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 87 लाख से अधिक◾आंध्र प्रदेश में कोरोना के 10 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, 77 की मौत◾लाखों दीपों से जगमगा उठी रामनगरी, पुष्पों से सजा शहर◾जम्मू कश्मीर पर बड़बोली टिप्पणी करने को लेकर भारत ने चीन को दी सख्त नसीहत◾महाराष्ट्र : मुंबई में तेज हवा के साथ भारी बारिश, कई इलाकों में रेड अलर्ट◾महाराष्ट्र में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटे में 334 लोगों की मौत, 10309 नए मामले◾प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रिया चक्रवर्ती को भेजा सम्मन, सात अगस्त को पूछताछ के लिए बुलाया ◾एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जांच करेगी सीबीआई, केंद्र ने जारी की अधिसूचना ◾चीन का बड़बोलापन : जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाना अवैध और अमान्य, एकतरफा बदलाव अस्वीकार्य◾भूमि पूजन के बाद भावविभोर हुए योगी, बोले : 'रामराज्य' और 'नए भारत निर्माण' के युग का प्रारंभ◾अयोध्या : भूमि पूजन के दौरान चरम पर पहुंचा रामभक्तों का उत्साह, भावुक हुए श्रद्धालु◾भूमिपूजन पर बोले ओवैसी-यह लोकतंत्र की हार और हिंदुत्व की सफलता का दिन◾अयोध्या में सुनहरा अध्याय रच रहा है भारत, राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा राम मंदिर : PM मोदी ◾भूमि पूजन के बाद बोले मोहन भागवत-आज देश में सदियों की आस पूरी होने का आनंद◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अयोध्या मामला : सीधे प्रसारण या रिकार्डिग के लिये याचिका प्रधान न्यायाधीश के समक्ष रखी जाये : SC

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि अयोध्या भूमि विवाद मामले की सुनवाई की कार्यवाही के सीधे प्रसारण या इसकी रिकार्डिंग के लिये दायर याचिका प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष सूचीबद्ध होगी। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर अपीलों की छह अगस्त से रोजाना सुनवाई कर रही है।

इससे पहले न्यायालय ने मध्यस्थता के माध्यम से इस विवाद का सर्वसम्मत समाधान खोजने का प्रयास किया था लेकिन इसमें उसे सफलता नहीं मिली थी। इस कार्यवाही के सीधे प्रसारण या इसकी रिकार्डिंग के लिये दायर, आरएसएस के पूर्व विचारक के एन गोविन्दाचार्य की याचिका शुक्रवार को न्यायमूर्ति आर एफ नरिमन और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ के समक्ष सुनवाई के लिये आयी। 

गोविन्दाचार्य की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा कि यदि अयोध्या प्रकरण की कार्यवाही का सीधा प्रसारण संभव नहीं हो तो कम से कम सुनवाई की आडियो रिकार्डिंग या लिप्यांतर तो किया ही जाना चाहिए। उन्होने न्यायालय के पिछले साल के फैसले का हवाला दिया जिसमें संवैधानिक और राष्ट्रीय महत्व के मुकदमों की कार्यवाही का सीधा प्रसारण करने की अनुमति दी थी। इस पर पीठ ने कहा, ‘‘इसके साथ ही इसमें (पिछले साल के फैसले में) संवेदनशील मामलों को इससे बाहर रखा गया है।’’ सिंह ने दलील दी कि अयोध्या मामला संवेदनशील और महत्वपूर्ण है। 

CM ममता ने विधानसभा में कहा- बंगाल में अब तक डेंगू से 17 लोगों की हुई मौत

उन्होंने कहा‘‘हमारे न्यायालय खुले हैं लेकिन बाहरी लोगों के लिये नहीं। हम सिर्फ वादियों के लिये खुले न्यायालय हैं।’’ साथ ही उन्होंने यह भी जोड़ा, ‘‘यह नहीं कहा जा सकता कि यह (अयोध्या) मामला राष्ट्रीय या संवैधानिक महत्व का नहीं है।’’ हालांकि पीठ ने कहा कि इस मामले को प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष पेश करना होगा। 

गोविन्दाचार्य ने अपनी याचिका में शीर्ष अदालत के 26 सितंबर, 2018 के फैसले का जिक्र किया और कहा कि इसमें संवैधानिक और राष्ट्रीय महत्व के मामलों की कार्यवाही के सीधे प्रसारण की अनुमति देते हुये कहा गया था कि यह खुलापन सूरज की किरणों की तरह है जो सर्वश्रेष्ठ कीटाणुनाशक है। याचिका में यह भी कहा गया है कि चूंकि न्यायालय शुक्रवार और सोमवार को भी अयोध्या के असाधारण मामले की सुनवाई कर रहा है, इसलिए इसकी ऑडियो रिकार्डिंग तत्काल शुरू करायी जा सकती है।