BREAKING NEWS

अमेरिका के मैरीलैंड में बड़ा हादसा : बिजली के पोल से टकराया विमान, 90 हज़ार घरों की बत्ती गुल◾आफताब को लेकर दिल्ली के रोहिणी में स्थित FSL पहुंची पुलिस, आज फिर होगा पॉलीग्राफ टेस्ट◾भारत जोड़ो यात्रा : बुलेट के बाद साइकिल की सवारी करते दिखे राहुल गांधी◾Maharashtra: राज ठाकरे की कांग्रेस व भाजपा से अपील, राष्ट्रीय नायकों को बदनाम करना बंद करें◾आज का राशिफल (28 नवंबर 2022)◾Rajasthan News: धर्मेंद्र प्रधान ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा -कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मिले जनादेश का अपमान कर रही है◾राष्ट्रपति मुर्मू 29 नवंबर को हरियाणा रोडवेज में E -Ticket प्रणाली की शुरुआत करेंगी,छह डिपो में होगी लागू◾AAP पर निशाना साधते हुए बोले PM - नर्मदा विरोधी ताकतों के समर्थकों को गुजरात में पैर जमाने देने का पाप न करें◾CM गहलोत को कुछ शब्दों का नहीं करना चाहिए था इस्तेमाल, हम संगठन को मजबूत करने वाला लेंगे फैसला : जयराम ◾Kerala : बंदरगाह विरोधी प्रदर्शनकारियों ने थाने पर किया हमला, 9 पुलिसकर्मी घायल, मीडिया से भी की बदसलूकी ◾Mangaluru Blast : कर्नाटक पुलिस ने तमिलनाडु में कई स्थानों पर की छापेमारी, लोगों को किया तलब ◾गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ शामिल IPL 2022 फाइनल, BCCI सचिव जय शाह ने दी जानकारी◾FIFA World Cup 2022 : जापान को कोस्टा रिका ने हराया, 1-0 से दी मात◾PM मोदी ने कहा- कांग्रेस और अन्य दल आतंकवाद को कामयाबी के ‘शॉर्टकट’ के रूप में देखते ◾ Punjab: पंजाब में दिल दहला देने वाला मामला, ट्रेन की चपेट में आने से तीन की मौत, जानें पूरी स्थिति◾Delhi: हाई कोर्ट ने कहा- मसाज पार्लर की आड़ में होने वाली वेश्यावृत्ति रोकने के लिए कदम उठाए दिल्ली पुलिस◾Bihar News: उमेश कुशवाहा को फिर मिला मौका, बने रहेंगे जदयू की बिहार इकाई के अध्यक्ष◾Maharashtra: महाराष्ट्र में दर्दनाक हादसा, रेलवे स्टेशन फुटओवर ब्रिज का गिरा एक हिस्सा, इतने लोग हुए घायल◾Mainpuri bypoll: डिंपल की अपील, मतदान से पहले अपने घर में ना सोएं सपा के नेता और कार्यकर्ता◾कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा- पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं, जो एक दूसरे से बात नहीं कर सकते◾

मध्यस्थता से हल नहीं होगा अयोध्या विवाद, अध्यादेश की जरूरत : शिवसेना 

मुंबई : शिवसेना ने शनिवार को कहा कि राम जन्मभूमि एक भावनात्मक मुद्दा है और इसे मध्यस्थता के जरिये हल नहीं किया जा सकता। पार्टी ने केंद्र से इस मुद्दे पर अध्यादेश लाने और राम मंदिर का निर्माण शुरू करने को कहा है। शिवसेना ने पूछा कि जब राजनेता, शासक और सर्वोच्च न्यायालय अब तक इस मुद्दे को हल नहीं कर सके तो फिर ये तीन मध्यस्थ क्या करेंगे। मध्यस्थता का एक और मौका देते हुए उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एफ एम आई कलीफुल्ला की अध्यक्षता में एक तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है जो अयोध्या में दशकों पुराने राजनीतिक रूप से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद के संभावित हल की संभावना मध्यस्थता के जरिये तलाशने की कोशिश करेगी।

आध्यात्मिक गुरु और ऑर्ट ऑफ लीविंग फाउंडेशन के संस्थापक श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पांचू भी इस समिति के सदस्य होंगे। शिवसेना ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने राम जन्मभूमि विवाद पर फैसला टाल दिया और अब इस मामले पर फैसला लोकसभा चुनाव के बाद ही होगा। पार्टी ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में पूछा, “एकमात्र सवाल यह है कि अगर इस मामले का मध्यस्थता से हल हो सकता तो फिर यह विवाद 25 सालों से क्यों चल रहा होता और सैकड़ों लोगों को क्यों अपनी जान गंवानी पड़ती?”इसमें कहा गया, “देश के राजनेता, शासक और उच्चतम न्यायालय इस मामले को हल नहीं कर पाए और क्या मध्यस्थ अब ऐसा कर पाएंगे।” इसमें कहा गया, “अगर इतने सालों में इस मुद्दे पर विरोधी पक्ष मध्यस्थता के लिये तैयार नहीं थे तो अब उच्चतम न्यायालय ऐसा क्यों कर रहा है? अयोध्या सिर्फ जमीन विवाद का मुद्दा नहीं है बल्कि यह भावनात्मक मुद्दा था।

ऐसा अनुभव किया जा चुका है कि मध्यस्थता ऐसे संवेदनशील मामलों में कारगर नहीं होती।” ‘सामना’ में उद्धव ठाकरे के नवंबर 2018 के अयोध्या में विवादित स्थल के दौरे का संदर्भ देते हुए कहा गया, “लोग यह चाहते हैं कि केंद्र को एक अध्यादेश लाना चाहिए और राम मंदिर के निर्माण का काम शुरू करना चाहिए। हमनें भी अयोध्या में यही बात कही थी।” शिवसेना ने पूछा, “जिस तरह कश्मीर राष्ट्रीय पहचान और गर्व का मुद्दा है, राममंदिर भी हिंदू गर्व का मुद्दा है। लेकिन राम हिंदुस्तान में निर्वासन में हैं। अपनी 1500 वर्ग फुट जमीन के लिये, भगवान राम को मध्यस्थों से बात करनी होगी। अब भगवान भी कानूनी विवाद से नहीं बच सकते। इसके लिये किसे जिम्मेदार ठहराया जाए?”