BREAKING NEWS

तमिलनाडु में अब हर रविवार को रहेगा संपूर्ण लॉकडाउन, 31 जनवरी तक बढ़ाई गईं पाबंदियां◾बाहरी नेताओं के SP में शामिल होने से कोई मनमुटाव नहीं, नंदा का दावा- कुशल रणनीति से शांत हुआ असंतोष ◾मुस्लिम विरोधी बयानबाजी से भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला, जयंत चौधरी ने सरकार पर लगाया आरोप ◾UP विधानसभा चुनाव: BJP प्रचार अभियान में इन शहरों को दे रही तवज्जों, हिंदुत्व के एजेंडे पर दिखाई दे रहा फोकस◾दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों का कोरोना के प्रसार पर हुआ असर, अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या स्थिर : जैन ◾अनुराग ठाकुर का सपा पर तंज, बोले- समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल◾क्या है BJP की सबसे बड़ी कमियां? जनता ने दिया जवाब, राहुल बोले- नफरत की राजनीति बहुत हानिकारक ◾खुद PM मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का सर्टिफिकेटः अरविंद केजरीवाल◾UP : कोरोना की स्थिति नियंत्रित,CM योगी ने लोगों से की अपील- भीड़ में जाने से बचें और सावधानी बरतें◾देशव्यापी टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा हुआ, पीएम मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर दी बधाई ◾Lata Mangeshkar Health Update: जानें अब कैसी है भारत की कोयल की तबीयत, डॉक्टर ने दिया अपडेट ◾यूपी के चुनावी दंगल में AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, सभी मुस्लिम चेहरे को तरजीह, देखें लिस्ट◾गोवा में AAP को बहुमत नहीं मिला तो पार्टी गैर-भाजपा के साथ गठबंधन बनाने के बारे में सोचेगी : CM केजरीवाल◾UP चुनाव की टक्कर में OBC का चक्कर, जानें किसके सिर पर सजेगा जीत का ताज और किसे मिलेगी मात ◾योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने ज्वाइन की साइकिल, कुछ दिन पहले ही छोड़ा था बीजेपी का साथ ◾टीकाकरण अभियान का एक साल पूरा, नड्डा बोले- असंभव कार्य को संभव किया और दुनिया ने देश की सराहना की ◾पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले में की जा रही राजनीति सही नहीं : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा◾राजस्थान: कोरोना की बढ़ती रफ्तार से सरकार चिंतित, मंत्री बोले- लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन ◾टिकट न मिलने से नाखुश SP कार्यकर्ता ने की आत्मदाह की कोशिश, प्रदेश मुख्यालय के बाहर मची खलबली ◾कोरोना से जंग में ब्रह्मास्त्र बनी वैक्सीन, टीकाकरण को पूरा हुआ 1 साल, करीब 156.76 करोड़ लोगों को दी खुराक ◾

इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह

जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने इशारों में राहुल और प्रियंका गांधी पर सवाल उठाए और कहा कि मौजूदा पीढ़ी सुझावों पर ध्यान नहीं देती।  साथ ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने यह भी कहा कि उनका जम्मू-कश्मीर में एक नई पार्टी बनाने का कोई इरादा नहीं है, इस चेतावनी के साथ कि कोई नहीं जानता कि राजनीति में आगे क्या होता है।

बैठकें केवल राजनीतिक गतिविधियों को पुनर्जीवित करने की कोशिश 

आजाद द्वारा जम्मू-कश्मीर में कई बैठकों की एक श्रृंखला ने अटकलों को हवा दी है कि वह एक नई पार्टी बना रहे हैं। उनके 20 वफादारों ने कांग्रेस पदों से इस्तीफा दे दिया है, जो चर्चा में है। आजाद ने कहा कि रैलियां उन राजनीतिक गतिविधियों को पुनर्जीवित करने के लिए हैं जो जम्मू-कश्मीर से राज्य का दर्जा और विशेष दर्जा छीन लिए जाने के बाद रुक गई थीं।

कांग्रेस नेतृत्व में कोई भी 'ना' सुनने को तैयार नहीं 

4 दशकों से अधिक समय तक कांग्रेस में प्रमुख पदों पर रहे आजाद ने कहा कि इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के समय के विपरीत आज आलोचना के लिए कोई जगह नहीं है। उन्होंने कहा, 'जब राजीव जी ने राजनीति में कदम रखा था, तब इंदिरा गांधी ने हम दोनों को बुलाया और राजीव को कहा कि गुलाम नबी आजाद मुझे भी न कह सकते हैं, लेकिन उस न का मतलब अवज्ञा या अनादर नहीं, यह पार्टी के लिए अच्छा है। आज, कोई भी न सुनने को तैयार नहीं है। न कहने की वजह से आज आप की अहमियत नहीं रह जाती है।'

अलग पार्टी बनाने का कोई इरादा नहीं : आजाद 

आजाद ने कहा कि इंदिरा गांधी ने उनसे कहा था कि "इसे बनाए रखें" जब आजाद ने 2 लोगों को नियुक्त करने से इनकार कर दिया, जिनकी सिफारिश इंदिरा ने युवा कांग्रेस में महासचिव के रूप में की थी। यह कहते हुए कि वह अपनी पार्टी नहीं बना रहे हैं, उन्होंने कहा, "कोई नहीं कह सकता कि राजनीति में आगे क्या होगा, जैसे कोई नहीं जानता कि वह कब मर जाएगा। राजनीति में, कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि आगे क्या होगा, लेकिन मेरा पार्टी बनाने का कोई इरादा नहीं है।''

राजनीति छोड़ने से किया इंकार 

उन्होंने कहा कि वह राजनीति छोड़ना चाहते हैं, लेकिन उन्होंने "लाखों समर्थकों" के लिए राजनीति को जारी रखने का फैसला किया। जनसभाओं की श्रृंखला पर आजाद ने कहा कि वह केवल राजनीतिक गतिविधियों को पुनर्जीवित करना चाहते हैं।

गुलाम अहमद मीर की अनुपस्थिति पर आजाद ने कही ये बात 

उन्होंने कांग्रेस में इस्तीफे और अपनी बैठकों में जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर की अनुपस्थिति पर, आजाद ने कहा कि शायद वह अपनी गति और सहनशक्ति से मेल नहीं खा सकते। आजाद ने कहा,"मेरे लिए, हर कोई एक कांग्रेसी है, जब मैं जम्मू-कश्मीर में हूं, मैं केवल कांग्रेस पार्टी या लोगों के एक विशेष वर्ग के बारे में बात नहीं करता हूं। कुछ ऐसे हैं जो कम काम करते हैं। मुझे अधिक काम करने की आदत है। मैं कछुए की तरह नहीं चलता। मैं गति के साथ चलता हूं।'' 

उन्होंने कहा कि उनके पास वही ऊर्जा है जो 40 साल पहले थी और एक दिन में 16 रैलियां भी कर सकते हैं। आजाद ने कहा कि वह जम्मू-कश्मीर कांग्रेस अध्यक्ष बनने के इच्छुक नहीं हैं, जबकि उनके वफादारों ने सत्ताधारी को हटाने की मांग की है।

राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी