BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

हापुड़ की गंगा नदी में हुआ सुषमा स्वराज का अस्थि विसर्जन, भावुक हुई बेटी बांसुरी

देश की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का आज हापुड़ की गंगा नदी में अस्थि विसर्जन किया गया। सुषमा स्वराज की बेटी बंसुरी स्वराज अपनी मां की अस्थियों को गंगा नदी में विसर्जित किया। इस दौरान सुषमा स्वराज के पति कौशल स्वराज भी उनके साथ मौजूद रहे हैं। अस्थि विसर्जन के दौरान बेटी बांसुरी और पति कौशल बेहद भावुक नजर आए। अंतिम संस्कार की सभी रस्मे बांसुरी स्वराज ने पूरी की।

गौरतलब है पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात को निधन हो गया था। सुषमा स्वराज ने अपने लंबे राजनीतिक कार्यकाल में बतौर नेता कई भूमिकाएं निभाईं। उन्हें भले ही सबसे अधिक याद विदेश में मुसीबत में फंसे भारतीयों तक पहुंचने में सक्रिय होने के साथ विदेश मंत्री की भूमिका को नई उंचाई तक ले जाने के लिए किया जाएगा। 


लेकिन अगर अतीत में देखा जाए तो सुषमा का कांग्रेस नेता के तौर पर राजनीति में कदम रखने वाली सोनिया गांधी के खिलाफ बेल्लारी में 'विदेशी बहू' बनाम 'भारतीय नारी' का चुनावी मुकाबले में खड़े होने भी उतना ही महत्वपूर्ण था। बेल्लारी तब कांग्रेस के लिए सुरक्षित सीट थी और बीजेपी के लिए तत्कालीन नए कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ लड़ना महत्वपूर्ण था, क्योंकि विदेशी मूल उस समय का दूसरा महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दा था क्योंकि सोनिया का विदेशी मूल का होना उस समय एक महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दा था। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में उनका संक्षिप्त कार्यकाल भी काफी महत्वपूर्ण था, क्योंकि उन्होंने राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री बनी थीं। इसके साथ ही यह भी काफी महत्वपूर्ण रहा कि 1977 में वह 25 साल की उम्र में हरियाणा कैबिनेट की मंत्री बनने वाली सबसे युवा नेता थीं। भारतीय जनता पार्टी में उनका उदय लाल कृष्ण आडवाणी की करीबी होने की वजह से हुआ। वह आडवाणी के उन चार सहायकों में से एक थीं, जिन्हें डी4 के तौर पर जाना जाता था। 

SC का अनुच्छेद 370 हटाने के खिलाफ चुनौती पर जल्द सुनवाई से इनकार

दिल्ली के इन चार शक्तिशाली नेताओं - सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, अनंत कुमार और एम. वेंकैया नायडू का उस समय पार्टी में काफी दबदबा था। यूपीए के कार्यकाल के दौरान बीजेपी जब विपक्ष में थीं, तब लोकसभा में बीजेपी का नेतृत्व सुषमा स्वराज ने किया था। 

मुखर वक्ता और विचारशील होने के कारण वह सुर्खियों में बनीं रहती थीं। इसके पीछे एक यह वजह भी रही कि उन्हें खुद पर विश्वास था और अकेले आगे बढ़ने से वह कभी नहीं डरी। शायद यही वजह थी कि उन्होंने मीडिया को अपने पास आने और सवाल पूछने से कभी नहीं रोका। 

सुषमा स्वराज भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इनर सर्किल में नहीं थीं, लेकिन उन्होंने विदेश मंत्री की अपनी भूमिका के लिए कई बार प्रधानमंत्री की प्रशंसा हासिल की और अपने पद का कार्यभार पूरी निष्ठा के साथ संभाला। दिल्ली की राजनीति से जुड़े भीतरी सूत्रों के अनुसार, उनसे इस साल लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए कहा गया था, लेकिन उन्होंने अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था। 

हालांकि उनके इनकार के पीछे की वास्तविक वजह को शायद कभी सार्वजनिक न किया जाए। निधन से कुछ घंटे पहले ही सुषमा स्वराज ने अनुच्छेद 370 पर निर्णय लेने के लिए प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को बधाई दी थी। हालांकि इसमें भी उनकी भूमिका रही। 1996 में लोकसभा में अपने भाषण के दौरान उन्होंने बीजेपी की अनुच्छेद 370 को हटाने की योजना के बारे में बताया था, जो कि जो पार्टी के मूल एजेंडे में शामिल था। एक समर्पित बीजेपी नेता होने के नाते कदाचित उन्हें विवादास्पद संवैधानिक प्रावधान पर सरकार के फैसले से सुखद अनुभूति मिली होगी।