BREAKING NEWS

कुमारस्वामी ने स्पीकर से फ्लोर टेस्ट की डेट सोमवार तक बढ़ाने की अपील की , भाजपा बोली- हम तैयार नहीं◾Top 20 News 19 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾चुनाव याचिका पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटिस जारी ◾BJP विश्वास प्रस्ताव पर मत-विभाजन के लिए आतुर है, क्योंकि वह विधायकों को खरीद चुकी : सिद्धारमैया ◾सोनभद्र में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही प्रियंका गांधी को रोका, धरने पर बैठीं◾प्रियंका की गैरकानूनी गिरफ्तारी भाजपा सरकार की बढ़ती असुरक्षा का संकेत: राहुल गांधी ◾सरकार बचाने के लिए सत्ता का नहीं करूंगा दुरुपयोग : कुमारस्वामी◾कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष बोले- विश्वास मत पर मतदान में देरी नहीं कर रहा हूं◾सोनभद्र मामले में 3 सदस्यीय समिति का गठन, 10 दिनों के अंदर सौंपेगी रिपोर्ट : योगी ◾कुमारस्वामी शुक्रवार को देंगे अपना विदाई भाषण : येदियुरप्पा◾कर्नाटक : विश्वास मत पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे कुमारस्वामी◾बिहार : छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में भीड़ ने की युवकों की पिटाई, 3 की मौत◾मोहम्मद मंसूर खान से पूछताछ कर रही है ईडी : SIT◾आयकर विभाग के एक्शन से भड़कीं मायावती, कहा- अपने गिरेबान में झांके भाजपा ◾कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच प्रदान करेगा पाकिस्तान◾IMA पोंजी घोटाला: संस्थापक मंसूर खान दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार◾कर्नाटक विधानसभा में नहीं हो सका विश्वास मत पर फैसला, सदन के अंदर BJP का धरना ◾सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾

देश

भागवत ने ममता पर साधा निशाना, कहा-सत्ता के लिए छटपटाहट के कारण हो रही है हिंसा

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने राजनीतिक हिंसा पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए राज्य में हो रही घटनाओं को सत्ता के लिए उनकी ‘‘छटपटाहट’’ बताया। भागवत ने कहा कि यह (ममता) सरकार की जिम्मेदारी है कि वह लोगों के हित में काम करें और सख्त कार्रवाई के जरिए कानून एवं व्यवस्था को लागू करे। 

भागवत ने लोकसभा चुनाव के दौरान पैदा हुई हिंसा और अब तक उसके जारी रहने के लिए पश्चिम बंगाल प्रशासन की आलोचना की। उन्होंने रविवार रात को यहां आरएसएस स्वयंसेवकों के लिए निर्धारित प्रशिक्षण के तीसरे साल के समापन कार्यक्रम में कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में क्या हो रहा है? क्या ऐसा पहले कभी हुआ है? प्रशासन को कार्रवाई करनी चाहिए।’’



पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हत्याओं पर बरसते हुए उन्होंने कहा कि जो भी मारे गए वे किसी खास पार्टी के हो सकते हैं लेकिन ऐसी हत्याओं का विरोध करने वाले लोगों को बाहरी बताना गलत है। बनर्जी राज्य में परेशानी पैदा करने के लिए अक्सर ‘‘बाहरी’’ लोगों को जिम्मेदार ठहराती हैं। 

भागवत ने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में जो भी हुआ उसे नहीं होना चाहिए था। अन्य राज्यों में यह नहीं हो रहा है। अगर कुछ गुंडे और आक्रामक प्रवृत्ति वाले लोग यह करते हैं तो प्रशासन को इस पर लगाम लगाने के लिए कदम उठाना चाहिए। कानून एवं व्यवस्था को लागू करना राज्य का काम है।’’ 

बिहार में लू से मरने वालों का आंकड़ा 78 पर पंहुचा, गया में धारा 144 लागू

आरएसएस नेता ने कहा, ‘‘वहां हत्याएं हो रही हैं। जो भी मारे गए वे किसी खास पार्टी के हो सकते हैं और हमलावर किसी और पार्टी के या गुंडे हो सकते हैं। लेकिन यह कहना कि बाहरी लोग पश्चिम बंगाल आए और उन्हें राज्य में रहना है या नहीं, ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया गया।’’ 

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का जिक्र करते हुए भागवत ने कहा कि देश के लोगों ने पिछले पांच वर्षों में वादों को पूरा करने के लिए मौजूदा सरकार पर भरोसा जताया है। हालांकि, कुछ वादे अभी पूरे नहीं किए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘संघ और समाज मतदाता हैं ना कि प्रतियोगी। 

हमने 100 फीसदी मतदान के लिए पूरे प्रयास किए और हमें लगता है कि हमारी कोशिशें सफल हो रही हैं। हालांकि, यह शायद 100 फीसदी नहीं है।’’ भागवत ने कहा कि लोग हर चुनाव से सीख रहे हैं और देश की एकता एवं प्रगति के लिए परिपक्वता के साथ मतदान कर रहे हैं।