BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 11 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा ◾JNU ने वापस लिया शुल्क बढ़ोतरी का फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए योजना की प्रस्तावित ◾सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, RTI के दायरे में आएगा CJI का दफ्तर◾संजय राउत को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही होगा◾कुलभूषण जाधव के लिए पाकिस्तान करेगा अपने आर्मी एक्ट में बदलाव ◾शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾लगातार 5 दिन से बढ़ते पेट्रोल के दाम पर लगा ब्रेक, डीजल के दाम भी स्थिर ◾महाराष्ट्र : शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस का नहीं हुआ गठबंधन, अब ऑपरेशन लोटस की तैयारी में BJP◾दिल्ली-NCR में सांस लेना हुआ दूभर, गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा◾राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾

देश

भागवत ने ममता पर साधा निशाना, कहा-सत्ता के लिए छटपटाहट के कारण हो रही है हिंसा

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने राजनीतिक हिंसा पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए राज्य में हो रही घटनाओं को सत्ता के लिए उनकी ‘‘छटपटाहट’’ बताया। भागवत ने कहा कि यह (ममता) सरकार की जिम्मेदारी है कि वह लोगों के हित में काम करें और सख्त कार्रवाई के जरिए कानून एवं व्यवस्था को लागू करे। 

भागवत ने लोकसभा चुनाव के दौरान पैदा हुई हिंसा और अब तक उसके जारी रहने के लिए पश्चिम बंगाल प्रशासन की आलोचना की। उन्होंने रविवार रात को यहां आरएसएस स्वयंसेवकों के लिए निर्धारित प्रशिक्षण के तीसरे साल के समापन कार्यक्रम में कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में क्या हो रहा है? क्या ऐसा पहले कभी हुआ है? प्रशासन को कार्रवाई करनी चाहिए।’’


पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हत्याओं पर बरसते हुए उन्होंने कहा कि जो भी मारे गए वे किसी खास पार्टी के हो सकते हैं लेकिन ऐसी हत्याओं का विरोध करने वाले लोगों को बाहरी बताना गलत है। बनर्जी राज्य में परेशानी पैदा करने के लिए अक्सर ‘‘बाहरी’’ लोगों को जिम्मेदार ठहराती हैं। 

भागवत ने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में जो भी हुआ उसे नहीं होना चाहिए था। अन्य राज्यों में यह नहीं हो रहा है। अगर कुछ गुंडे और आक्रामक प्रवृत्ति वाले लोग यह करते हैं तो प्रशासन को इस पर लगाम लगाने के लिए कदम उठाना चाहिए। कानून एवं व्यवस्था को लागू करना राज्य का काम है।’’ 

बिहार में लू से मरने वालों का आंकड़ा 78 पर पंहुचा, गया में धारा 144 लागू

आरएसएस नेता ने कहा, ‘‘वहां हत्याएं हो रही हैं। जो भी मारे गए वे किसी खास पार्टी के हो सकते हैं और हमलावर किसी और पार्टी के या गुंडे हो सकते हैं। लेकिन यह कहना कि बाहरी लोग पश्चिम बंगाल आए और उन्हें राज्य में रहना है या नहीं, ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया गया।’’ 

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का जिक्र करते हुए भागवत ने कहा कि देश के लोगों ने पिछले पांच वर्षों में वादों को पूरा करने के लिए मौजूदा सरकार पर भरोसा जताया है। हालांकि, कुछ वादे अभी पूरे नहीं किए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘संघ और समाज मतदाता हैं ना कि प्रतियोगी। 

हमने 100 फीसदी मतदान के लिए पूरे प्रयास किए और हमें लगता है कि हमारी कोशिशें सफल हो रही हैं। हालांकि, यह शायद 100 फीसदी नहीं है।’’ भागवत ने कहा कि लोग हर चुनाव से सीख रहे हैं और देश की एकता एवं प्रगति के लिए परिपक्वता के साथ मतदान कर रहे हैं।