BREAKING NEWS

UP: एक और विधायक ने छोड़ा BJP का साथ, बताई यह वजह..., जानें अब तक किन नेताओं ने दिया इस्तीफा ◾नकवी ने मोदी और योगी को बताया 'एम-वाई' फैक्टर, कहा- 3B 'बलवाई, बाहुबली, बेईमानी’ का 'ब्रदरहुड' बेचैन ◾ भाजपा के सहयोगी अपना दल सोनेलाल ने किया मुस्लिम उम्मीदवार का एलान,आजम खान के बेटे के खिलाफ ठोकेंगे ताल◾दिल्ली : गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली में तैनात हुए 27 हजार से अधिक जवान, कमिश्नर ने दी जानकारी ◾हिंदुओं को जलसे की इजाजत दी तो..विवादित बोल पर बवाल, सिद्धू के सलाहकार मुस्तफा ने धर्म विशेष के खिलाफ उगला जहर ◾बेरोजगारी पर राहुल ने किया केंद्र का घेराव, कहा- सरकार कर रही पूंजीपतियों का विकास, सिर्फ ‘हमारे दो’... ◾PLC ने 22 उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी, इस शहर से चुनाव लड़ेंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह◾अपर्णा यादव ने बांधे BJP की तारीफों के पुल, कहा- राष्ट्र को बचाने के लिए पार्टी की सत्ता में वापसी बहुत जरूरी ◾BJP में शामिल हुई अदिति सिंह ने प्रियंका को दी चुनाव लड़ने की चुनौती, कहा- रायबरेली अब कांग्रेस का गढ़ नहीं ◾SP ने जारी की पहली स्टार प्रचारकों की लिस्ट, मुलायम और अखिलेश समेत मौर्य का भी नाम, जानें पूरी सूची ◾अरविंद केजरीवाल का केंद्र पर बड़ा आरोप, बोले- सत्येंद्र जैन को गिरफ्तार कर सकती है ED◾चीनी PLA ने अरुणाचल से 'लापता' लड़के का लगाया पता, भारतीय सेना को किया सूचित, जानें क्या कहा?◾UP: केशव प्रसाद मौर्य ने विरोधियों पर बोला हमला, कहा- 10 मार्च को सपा, बसपा और कांग्रेस का होगा सूपड़ा साफ◾‘अमर जवान ज्योति’ को युद्ध स्मारक ले जाने के फैसले का अखिलेश ने किया विरोध, देशवासियों से की ये अपील ◾मायावती ने कांग्रेस को बताया ‘वोटकटवा’, बोलीं- पार्टी इतनी खस्ताहाल कि प्रियंका ने बदला CM बनने का इरादा ◾कांग्रेस कैंडिडेट सुप्रिया ऐरन और उनके पति ने छोड़ा पार्टी का हाथ, बरेली कैंट से SP के टिकट पर लड़ेंगी चुनाव ◾UP चुनाव: SP का बढ़ा कद, भारत का सबसे लंबा व्यक्ति हुआ पार्टी में शामिल, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज ◾न्यूजीलैंड: ओमिक्रोन के मामले आने के बाद नए कोविड प्रतिबंध लगाने का फैसला, PM ने कैंसिल कर दी अपनी शादी ◾पंजाब: किसान संगठनों ने गैंगस्टर से कार्यकर्ता बने लाखा सिधाना को दिया टिकट, लाल किला हिंसा में आरोपी ◾शिवसेना के संस्थापक बाबासाहेब की 96वीं जयंती पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, कहा- ठाकरे को सदा याद रखा जाएगा◾

BJP ने राहुल पर लगाया पुरानी तस्वीर साझा करने का आरोप, कहा- उनका यह एजेंडा नहीं आया काम

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में ‘किसान महापंचायत’ के बाद सोमवार को आंदोलनकारी किसानों का समर्थन करते हुए कहा कि ‘भारत का भाग्य विधाता’ डटा हुआ है और निडर है। दूसरी तरफ, भाजपा ने राहुल गांधी पर एक पुरानी तस्वीर को ‘किसान महापंचायत’ की तस्वीर बताकर दुष्प्रचार करने का आरोप लगाया।

राहुल गांधी ने किसानों की एक तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘डटा है, निडर है, इधर है भारत का भाग्य विधाता!’’इसके कुछ देर बाद भाजपा के आईटी विभाग के प्रमुख अमित मालवीय ने इसे री-ट्वीट करते हुए कहा, ‘‘ राहुल गांधी को महापंचायत की सफलता का दावा करने के लिए एक पुरानी तस्वीर का उपयोग करना पड़ा। यह दिखाता है कि ‘किसान’ आंदोलन में अच्छी खासी संख्या में लोगों के शामिल होने की बात करने का एजेंडा काम नहीं आया। यह राजनीतिक है। धार्मिक नारे लगाये गए। इससे कोई संदेह नहीं बचता कि इसके पीछे का मकसद क्या है।’’

मालवीय ने एक खबर साझा की जिससे यह प्रतीत होता है कि राहुल गांधी ने फरवरी में शामली में हुई एक किसान पंचायत की तस्वीर साझा की है। राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने मालवीय पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, ‘‘ये (तस्वीर) रालोद द्वारा भैंसवाल गांव (शामली) में आयोजित किसान पंचायत की तस्वीर है। यह पंचायत किसान आंदोलन के समर्थन में बुलाई गई थी। तो ये (मालवीय) कहना क्या चाह रहे हैं??’’

उधर, कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ‘किसान महापंचायत’ से संबंधित एक खबर का उल्लेख करते हुए दावा किया, ‘‘यही है देश कि सच्चाई। केवल, देश बेचने वाले शासकों को नहीं दिख रही।’’ केंद्र के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के विरोध में रविवार को विभिन्न राज्यों के किसान मुजफ्फरनगर के राजकीय इंटर कॉलेज मैदान में किसान महापंचायत के लिए बड़ी संख्या में एकत्र हुए। अगले वर्ष के शुरु में होने वाले, उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को देखते हुए इस आयोजन को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। 'किसान महापंचायत' का आयोजन संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से किया गया।

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन को नौ महीने से अधिक समय हो गया है। किसान उन कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं जिनसे उन्हें डर है कि वे कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) व्यवस्था को खत्म कर देंगे, तथा उन्हें बड़े कारोबारी समूहों की दया पर छोड़ देंगे। सरकार इन कानूनों को प्रमुख कृषि सुधार और किसानों के हित में बता रही है। सरकार और किसान संगठनों के बीच 10 दौर से अधिक की बातचीत हुई, हालांकि गतिरोध खत्म नहीं हुआ।

पंजशीर पर कब्जे के बाद तालिबान ने शुरू की सरकार गठन की तैयारी, चीन समेत इन देशों को भेजा न्योता