BREAKING NEWS

महान संगीतकार ख्य्याम साहब का निधन, अभिनेता बनना चाहते थे ख्य्याम साहब◾प्रियंका का कटाक्ष : लगता है मोदी आरएसएस के विचारों का सम्मान नहीं करते ◾उत्तर भारत में बारिश का कहर, 38 की मौत ◾अलायंस एयर की उड़ान की दिल्ली हवाई अड्डे पर आपात लैंडिंग, सभी यात्री सुरक्षित ◾PM मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प से फोन पर की 30 मिनट बातचीत, बिना नाम लिए PAK को बनाया निशाना ◾TOP 20 NEWS 19 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾आरक्षण विरोधी मानसिकता त्यागे संघ : मायावती◾कश्मीर पर भारत की नीति से घबराया पाकिस्तान, अगले तीन साल पाकिस्तानी सेना प्रमुख बने रहेंगे बाजवा◾चिदंबरम ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- सब सामान्य तो महबूबा मुफ्ती की बेटी नजरबंद क्यों◾कांग्रेस ने बीजेपी और RSS को बताया दलित-पिछड़ा विरोधी◾गृहमंत्री अमित शाह से मिले अजीत डोभाल, जम्मू कश्मीर के हालात पर हुई चर्चा◾RSS अपनी आरक्षण-विरोधी मानसिकता त्याग दे तो बेहतर है : मायावती ◾गहलोत बोले- कांग्रेस ने देश में लोकतंत्र को मजबूत रखा जिसकी वजह से ही मोदी आज PM है ◾बैंकों के लिए कर्ज एवं जमा की ब्याज दरों को रेपो दर से जोड़ने का सही समय: शक्तिकांत दास◾राजीव गांधी की 75वीं जयंती: देश भर में कार्यक्रम आयोजित करेगी कांग्रेस◾दलितों-पिछड़ों को मिला आरक्षण खत्म करना BJP का असली एजेंडा : कांग्रेस ◾उन्नाव कांड: SC ने CBI को जांच पूरी करने के लिए 2 हफ्ते का समय और दिया, वकील को 5 लाख देने का आदेश◾अयोध्या भूमि विवाद मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट में नहीं हुई सुनवाई ◾जम्मू-कश्मीर में पटरी पर लौटती जिंदगी, 14 दिन बाद खुले स्कूल-दफ्तर◾बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का 82 साल की उम्र में निधन◾

देश

भाजपा बंगाल में सांप्रदायिक जहर फैलाकर जीती : ममता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने शनिवार को भाजपा पर राज्य में 'सांप्रदायिक जहर' फैलाकर चुनाव जीतने और निर्वाचन आयोग पर भगवा पार्टी के हित में काम करने का आरोप लगाया। 

उन्होंने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा, 'मैं जरूर कहूंगी, युद्ध और प्यार में कुछ भी नाजायज नहीं है। भाजपा ने जो किया, वह अपना हित साधने के लिए किया। इसलिए मैं सराहना करती हूं कि उन्होंने सांप्रदायिक जहर फैलाकर जीत हासिल की।'

पार्टी की आपात बैठक के बाद ममता ने कहा, 'विजेता हमेशा विजेता होते हैं। वे अपनी राजनीति में सफल रहे। हम अपनी राजनीति में सफल नहीं रहे।.. आखिरकार, लोकतंत्र में लोग इन परिणामों पर विश्वास कर लेंगे।'

बैठक चुनाव परिणामों में भाजपा के स्तब्ध कर देने वाले प्रदर्शन के दो दिन बाद बुलाई गई। भाजपा को राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से 18 पर जीत हासिल हुई है, जबकि पांच साल पहले इसे मात्र दो सीटें मिली थीं। 

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को पिछले चुनाव में 34 सीटें मिली थीं, जबकि इस बार मात्र 22 सीटों से संतोष करना पड़ा। 

ममता ने निर्वाचन आयोग पर बिफरते हुए कहा, 'इसने पूरी तरह उनके (भाजपा) हित में काम किया। हमारी किसी शिकायत को न्याय नहीं मिला।' उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग ने लगभग पांच महीने पहले जनवरी में प्रशासन संभाला। 

ममता ने कहा, 'पांच महीने से हमें काम नहीं करने दिया गया। मैंने उन सभी अफसरों से कहा जो अब आयोग के अधीन हैं। मुझे नहीं लगता कि यह परिदृश्य भारत में कहीं भी बना होगा, मगर बंगाल में सचमुच ऐसा हुआ। यहां इमरजेंसी जैसे हालात पैदा किए गए। बंगाल को निशाना बनाया गया।'

 

उन्होंने कहा, 'इस चुनाव में ये सब सिर्फ मेरे कारण किया गया। लोगों की दुआ से, सबकुछ के बावजूद हमारे वोट चार फीसदी बढ़े। सीटें घटीं, लेकिन मत प्रतिशत बढ़ा।'