BREAKING NEWS

स्मृति ईरानी एवं हेमा मालिनी पर टिप्पणी कों लेकर EC से कांग्रेस की शिकायत◾उप्र विधानसभा चुनाव जीतने के लिए नफरत फैला रही है भाजपा, हो सकता है भारत का विघटन : फारूक अब्दुल्ला◾एनसीबी के सामने पेश हुईं अभिनेत्री अनन्या पांडे, कल सुबह 11 बजे फिर होगा सवालों से सामना ◾सिद्धू का अमरिंदर सिंह पर पलटवार - कैप्टन ने ही तैयार किये है केन्द्र के तीन काले कृषि कानून◾हिमाचल के छितकुल में 13 ट्रैकरों की हुई मौत, अन्य छह लापता◾कांग्रेस का PM से सवाल- जश्न से जख्म नहीं भरेंगे, ये बताएं 70 दिनों में 106 करोड़ टीके कैसे लगेंगे ◾केरल - वरिष्ठ माकपा नेता पर बेटी ने ही लगाया बच्चा छीनने का आरोप, मामला दर्ज ◾‘विस्तारवादी’ पड़ोसी को सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब, संप्रभुता से कभी समझौता नहीं करेगा भारत : नित्यानंद राय ◾कोरोना वैक्सीन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार होने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गीत और फिल्म जारी की◾केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशन धारकों को दीपावली का तोहफा, महंगाई भत्ते में 3 प्रतिशत वृद्धि को मिली मंजूरी◾SC की सख्ती के बाद गाजीपुर बॉर्डर से किसान हटाने लगे टैंट, कहा- हमने कभी बन्द नहीं किया था रास्ता ◾नेहरू के जन्मदिन पर महंगाई के खिलाफ अभियान शुरू करेगी कांग्रेस, कहा- भारी राजस्व कमा रही है सरकार ◾ देश में टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, WHO प्रमुख ने PM मोदी और स्वास्थ्यकर्मियों को दी बधाई ◾आर्यन केस : शाहरुख के घर मन्नत में जांच के बाद निकली NCB टीम, अब अनन्या पांडे से होगी पूछताछ ◾जम्मू-कश्मीर में जारी है आतंकवादी गतिविधियां, बारामूला में टला बड़ा हादसा, आईईडी किया गया निष्क्रिय ◾SC की किसानों को फटकार- विरोध करना आपका अधिकार, लेकिन सड़कों को अवरुद्ध नहीं किया जा सकता◾100 करोड़ टीकाकरण पर थरूर बोले- 'आइए सरकार को श्रेय दें', पहले की विफलताओं के प्रति केंद्र जवाबदेह◾देश के पास महामारी के खिलाफ 100 करोड़ खुराक का ‘सुरक्षात्मक कवच’, आज का दिन ऐतिहासिक : PM मोदी◾ड्रग्स केस : बॉम्बे HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर 26 अक्टूबर को होगी सुनवाई◾MP : भिंड में वायुसेना का विमान क्रेश होकर खेत में गिरा, पायलट सुरक्षित बच निकलने में रहा सफल ◾

भाजपा का दावा, लखीमपुर खीरी कांड का पार्टी पर पंजाब विधानसभा चुनाव में कोई खास असर नहीं होगा

भाजपा नेतृत्व ने नकारा यह दावा-

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में घटा कांड शायद ही कोई भूल पाएगा, लेकिन क्या इसका असर पंजाब की राजनीति पर पड़ेगा? उत्तर प्रदेश के साथ ही पंजाब में भी अगले कुछ महीनों में विधानसभा के चुनाव होने है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर इस हिंसा कांड का कितान प्रभाव पड़ेगा।

भाजपा नेतृत्व का मानना है कि पंजाब विधानसभा चुनाव में लखीमपुर खीरी की घटना का पार्टी पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा। ऐसा भी माना जा रहा है कि पंजाब में हिंसक घटनाओं का भाजपा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, जहां पार्टी को पिछले एक साल से किसानों के कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

केवल दो प्रतिशत किसान वामपंथियों द्वारा गुमराह किए गए- भाजपा

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पंजाब प्रभारी दुष्यंत गौतम ने बताया कि किसानों का विरोध राजनीति से प्रेरित था और लखीमपुर खीरी की घटना का उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे पंजाब या उत्तराखंड में चुनाव पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। गौतम ने आगे कहा, केवल दो प्रतिशत किसान वामपंथियों द्वारा गुमराह किए गए हैं और अन्य राजनीतिक दल राज्य में शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। लखीमपुर खीरी की घटना का पंजाब या उत्तराखंड में कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

भाजपा के एक वरिष्ठ अंदरूनी सूत्र ने कहा कि हर कोई जानता है कि कुछ राजनीतिक दल अपने चुनावी लाभ के लिए किसानों की अशांति का राजनीतिकरण कर रहे हैं और पंजाब में विरोध प्रदर्शनों को सत्ताधारी दल द्वारा अशांति का झूठा माहौल बनाने के लिए संरक्षण दिया गया था।

विपक्षी दल अपने मन में संदेह पैदा करके लोगों को गुमराह कर रहे हैं-

भाजपा के एक नेता ने कहा, पंजाब में भाजपा नेताओं पर हिंसा या हमलों की सभी घटनाएं राजनीति से प्रेरित और कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा की गई थीं। राजनीतिक दल निहित स्वार्थ के साथ नए कृषि कानूनों पर किसानों को गुमराह कर रहे हैं। हर कोई समझता है कि नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के लाभ के लिए नए कृषि कानून लाई है, लेकिन विपक्षी दल अपने मन में संदेह पैदा करके लोगों को गुमराह कर रहे हैं।

मनीष सिसोदिया के पत्र का जवाब देते हुए मांडविया बोले- छठ पूजा को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए

अब, वे लखीमपुर खीरी की घटना का राजनीतिकरण करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वे अपने मंसूबे पर कामयाब नहीं होंगे। केसर खेमे का दावा है कि पंजाब में केंद्र सरकार के खिलाफ हो रहे आंदोलन में महज 2-3 फीसदी किसान ही हिस्सा ले रहे हैं। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, पंजाब में केवल दो या तीन प्रतिशत किसान ही आंदोलन का हिस्सा हैं। पंजाब में ज्यादातर लोग शांतिप्रिय हैं और वे किसी भी प्रकार की हिंसा के खिलाफ हैं और वे इस सच्चाई को जानते हैं कि इन विरोधों के पीछे कौन है।