भोपाल : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शनिवार को आरोप लगाया कि भाजपा ने उस व्यक्ति को केन्द्रीय मंत्री बना दिया, जिसने ‘हिन्दू टेरर’ (हिन्दू आतंकवाद) शब्द का आधिकारिक तौर पर बयान दिया था। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष से मांग की वह इस पर बोलें।

दिग्विजय ने ‘हिन्दू आतंकवाद’ शब्द के लिए भाजपा पर तंज कसते हुए कहा, ‘‘जिस व्यक्ति ने गृह सचिव के तौर पर ‘हिन्दू टेरर’ शब्द का आधिकारिक तौर पर बयान दिया, उसको भाजपा ने लोकसभा का टिकट दिया और भाजपा ने उसको केन्द्रीय मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया।’’

उन्होंने सवाल किया, ‘‘क्या (भाजपा अध्यक्ष) अमित शाह इस पर कुछ बोलेंगे।’’ दिग्विजय के इस बयान से कुछ ही घंटे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक चैनल को दिये गये साक्षात्कार में मालेगांव बम धमाकों की आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा के टिकट से उतारने के कदम को उचित ठहराया था।

दिग्विजय सिंह ने भोपाल लोकसभा सीट से भरा नामांकन पत्र

दिग्विजय ने कहा, ‘‘मेरे ख्याल से वे हिन्दू सिविलाइजेशन (हिन्दू सभ्यता) के लिए अज्ञानी हैं। उनको हिन्दू सिविलाइजेशन का ज्ञान नहीं है। मैं इस विषय पर ज्यादा नहीं बोलूंगा।’’

भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय एवं कट्टर हिन्दूवादी नेता प्रज्ञा के बीच मुकाबला होना है। इस सीट पर 12 मई को मतदान होगा।

मोदी ने प्रज्ञा को पार्टी टिकट दिये जाने को उचित ठहराते हुए कहा था कि समझौता एक्सप्रेस का फैसला आ गया है। क्या निकला? दुनिया में 5,000 साल तक जिस महान संस्कृति और परंपरा ने “वसुधैव कुटुम्बकम्” का संदेश दिया, “सर्वे भवन्तु सुखिन:” का संदेश दिया, जिस संस्कृति ने “एकम् सद् विप्रा: बहुधा वदन्ति” का संदेश दिया, ऐसी संस्कृति को आपने (कांग्रेस) बिना सबूत के आतंकवादी कह दिया। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को जवाब देने के लिए यह एक प्रतीक है और यह कांग्रेस को महंगा पड़ने वाला है।