BREAKING NEWS

महागठबंधन में फूट : कांग्रेस बोली - मिले सम्मानजनक सीट नहीं तो 243 सीटों पर लड़ेंगे◾कृषि विधेयकों के मुद्दे पर अकाली दल ने NDA से तोड़ा 22 साल पुराना गठबंधन◾PM मोदी ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की◾देश के हितों की रक्षा करने में अपने सशस्त्र बलों की क्षमता पर विश्वास करने की जरूरत है : जयशंकर ◾KKR vs SRH (IPL 2020) : केकेआर ने सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया◾देश में कोरोना वायरस का कहर जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब पहुंची◾UN के मंच से पीएम मोदी की नसीहत, कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? ◾संयुक्त राष्ट्र के मंच से पीएम मोदी का संबोधन: UN की निर्णायक इकाई से भारत को आखिर कब तक दूर रखा जाएगा◾अमित शाह ने लद्दाख के जन प्रतिनिधियों से की मुलाकात◾ड्रग केस : श्रद्धा कपूर, सारा अली खान से एनसीबी की पूछताछ खत्म, किसी को नया समन नहीं भेजा गया ◾राहुल ने किया केंद्र से आग्रह : प्रस्तावित कृषि कानूनों को वापस ले सरकार, एमएसपी की गारंटी दे◾ड्रग्स केस : एनसीबी के सामने दीपिका पादुकोण ने कबूली ड्रग चैट की बात, पांच घंटे तक हुई पूछताछ ◾वैज्ञानिकों ने हर मुश्किल और सामने आई सभी चुनौतियों को अवसर में बदला है: हर्षवर्धन◾वीरेंद्र सहवाग ने CSK का उड़ाया मजाक, कहा - टीम के बल्लेबाजों को ग्लूकोज चढ़वाने की जरूरत ◾भारत ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की : विदेश मंत्रालय◾BJP की नई टीम का ऐलान, राम माधव सहित 4 महासचिव बदले, देखें पूरी लिस्ट◾कांग्रेस का तीखा वार : श्रम सुधार संबंधी संहिताएं मजूदर विरोधी, सरकार के ‘डीएनए में’ है निर्णय थोपना◾ड्रग केस : अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और सारा अली खान पर एनसीबी ने दागे तीखे सवाल , पूछताछ जारी◾पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर राजौरी में LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया ◾पीएम मोदी UNGA को आज करेंगे संबोधित, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अयोध्या समारोह पर बोले BJP नेता लालकृष्ण आडवाणी- मंदिर ‘वास्तविक’ और ‘छद्म’ धर्मनिरपेक्षता के संघर्ष का प्रतीक

पूर्व उपप्रधानमंत्री, भाजपा के वरिष्ठ नेता और राम मंदिर के मुख्य शिल्पकार लालकृष्ण आडवाणी बुधवार को नया इतिहास बनता देखेंगे। उनकी ‘रथ यात्रा’ ने रामजन्मभूमि आंदोलन को दिशा दी थी। 95 वर्षीय नेता ने अपनी आत्मकथा में कहा कि मंदिर ‘‘वास्तविक धर्मनिरपेक्षता और छद्म धर्मनिरपेक्षता के बीच संघर्ष’’ का प्रतीक है।

1990 में उनकी ‘राम रथ’ यात्रा ने उन्हें हिंदुत्ववादी राजनीति का चेहरा बनाया और भाजपा के लिए समर्थन जुटाने में यह काफी सहायक सिद्ध हुआ। आडवाणी उम्र के कारण ‘भूमि पूजन’ में अयोध्या नहीं जाएंगे। उन्होंने 2008 में अपनी आत्मकथा ‘‘मेरा देश, मेरा जीवन’’ में उम्मीद जताई थी कि राष्ट्रीय एकता में यह नया अध्याय लिखेगा।

अपनी किताब में उन्होंने राम मंदिर को गुजरात में सोमनाथ मंदिर से जोड़ा। अधिकतर हिंदुओं का मानना है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। आडवाणी ने अपनी रथ यात्रा सोमनाथ से शुरू की थी।

आडवाणी ने अपनी किताब में लिखा है कि सोमनाथ मंदिर को कई बार लूटा गया और नष्ट किया गया था जिसका पुनर्निर्माण सरदार पटेल की देखरेख में 1951 में हुआ और यह विदेशी हमलों से भारत का इतिहास नष्ट करने के खिलाफ भारत की प्रतिबद्धता और अपनी खोई सांस्कृतिक धरोहर को प्राप्त करने का जीवंत उदाहरण है।

आडवाणी ने सितम्बर 1990 में सोमनाथ से ‘रथ यात्रा’ की शुरुआत की थी जिससे उनकी पार्टी को राजनीतिक शक्ति हासिल हुई और इसकी किस्मत हमेशा के लिए बदल गई। यात्रा में उनके साथ तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी थे। आडवाणी ने अपनी ‘रथयात्रा’ को अपने राजनीतक यात्रा का सर्वाधिक ‘निर्णायक बदलाव’ बताया।

‘यात्रा’ को गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, बिहार और उत्तरप्रदेश होते हुए अयोध्या में समाप्त करने की योजना थी। लेकिन 23 अक्टूबर 1990 को बिहार के समस्तीपुर में आडवाणी की गिरफ्तारी के साथ ही यह समाप्त हो गई थी। बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री और जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव के आदेश पर उन्हें गिरफ्तार कर दुमका के नजदीक सिंचाई विभाग के बंगले में रखा गया।

यात्रा जहां से भी गुजरी वहां ‘‘जय श्री राम’’, ‘‘सौगंध राम की खाते हैं मंदिर वहीं बनाएंगे’’ और ‘‘जो हिंदू हित की बात करेगा, वही देश पर राज करेगा’’ जैसे नारे गूंजते थे। इस कारण सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और तनाव हुआ और कुछ जगहों पर दंगे भी हुए।