BREAKING NEWS

दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾BJP ने जारी की पांचवी सूची, महज एक उम्मीदवार के नाम की हुई घोषणा, UP कोर ग्रुप की बैठक में मंथन जारी ◾राष्ट्रीय बाल पुरस्कार: PM मोदी ने बच्चों से "वोकल फॉर लोकल’’ अभियान को आगे बढ़ाने का किया आग्रह◾गोवा चुनाव: TMC ने उठाए BJP की मंशा पर सवाल, कहा- 'डबल इंजन सरकार' का नारा तानाशाही का संकेत ◾राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- गरीब और मध्य वर्ग के लोग सरकार की ‘आर्थिक महामारी’ के शिकार हुए◾

BKU प्रमुख नरेश टिकैत ने कहा- सरकार अड़ियल रवैया त्यागे, किसानों के मुद्दों का करे समाधान

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा है कि केंद्र सरकार को अपना ‘अड़ियल रवैया’ त्याग देना चाहिए और वार्ता के माध्यम से किसानों के मुद्दों का समाधान करना चाहिए। मुजफ्फरनगर के समीप सिसोली में बीकेयू मुख्यालय में रविवार शाम को उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि किसानों को पता है कि ‘बड़े औद्योगिक घरानों को फायदा‘ पहुंचाने के लिए ही केंद्र द्वारा ये तीनों कानून लाये गये हैं और ये ‘कृषकों के विरूद्ध हैं।’

उन्होंने केंद्र सरकार पर किसानों के लंबे समय से सड़क पर प्रदर्शन करने के दौरान अड़ियल रवैया अपनाये रखने का आरोप लगाया। हजारों किसान नये तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग करते हुए ठंड और वर्षा में पिछले एक महीने से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। उनमें यादातर पंजाब, हरियाणा एवं पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान हैं।

सितंबर 2020 में बनाये गये इन कानूनों को सरकार ने बड़े सुधार के रूप में पेश किया है और कहा कि उनका लक्ष्य किसानों की आय बढ़ाना है। प्रदर्शनकारी किसानों ने चिंता जतायी है कि ये कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य एवं मंडली प्रणालियों को कमजोर करेंगे और उन्हें औद्योगिक घरानों के रहमो-करम पर छोड़ देंगे।