BREAKING NEWS

ओमीक्रोन का असर कम रहने का अंदाजा, वैज्ञानिक मार्गदर्शन पर होगा बूस्टर देने का फैसला◾सुरक्षा के प्रति किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है भारतीय नौसेना : एडमिरल कुमार◾एक बच्चे सहित तीन यात्री कोरोना संक्रमित , जांच के बाद ही ओमीक्रन स्वरूप की होगी पुष्टि : तमिलनाडु सरकार◾जनवरी से ATM से पैसे निकालना हो जाएगा महंगा, जानिए क्या है सरकार की नई नीति◾जयपुर में मचा हड़कंप, एक ही परिवार के नौ लोग कोरोना पॉजिटिव, 4 हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे◾लुंगी छाप और जालीदार टोपी पहनने वाले गुंडों से भाजपा ने दिलाई निजात: डिप्टी सीएम केशव ◾ बच्चों को वैक्सीन और बूस्टर डोज पर जल्दबाजी नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिया जवाब◾केंद्र के पास किसानों की मौत का आंकड़ा नहीं, तो गलती कैसे मानी : राहुल गांधी◾किसानों ने कंगना रनौत की कार पर किया हमला, एक्ट्रेस की गाड़ी रोक माफी मांगने को कहा ◾ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾राजधानी में हुई ओमीक्रॉन वेरिएंट की एंट्री? दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती हुए 12 संदिग्ध मरीज ◾दिल्ली प्रदूष्ण : केंद्र सरकार द्वारा गठित इंफोर्समेंट टास्क फोर्स के गठन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी ◾प्रदूषण : UP सरकार की दलील पर CJI ने ली चुटकी, बोले-तो आप पाकिस्तान में उद्योग बंद कराना चाहते हैं ◾UP Election: अखिलेश का बड़ा बयान- BJP को हटाएगी जनता, प्रियंका के चुनाव में आने से नहीं कोई नुकसान ◾कांग्रेस को किनारे करने में लगी TMC, नकवी बोले-कारण केवल एक, विपक्ष का चौधरी कौन?◾अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾

भारत की स्वदेशी कोवैक्सिन की दोनों डोज कोरोना मरीजों पर 50% प्रभावी, जानिए अध्ययन में क्या हुआ दावा

भारत की स्वदेशी कोवैक्सिन की दोनों डोज कोरोना महामारी के लक्षण वाले मरीजों में 50% प्रभावी है। द लैंसेट इंफेक्शियस डिजीज जर्नल में हाल ही में प्रकाशित एक अंतरिम अध्ययन के परिणामों से पता चला है कि कोवैक्सिन की 2 खुराक, जिसे BBV152 के रूप में भी जाना जाता है, कोविड-19 के खिलाफ प्रभावी है और यह कोरोना के लक्षण वाले मरीजों में 77.8% तक असरदार है। साथ ही इसमें गंभीर प्रभाव नहीं है।

कोरोना के लक्षण वाले मरीजों में 50% प्रभावी कोवैक्सिन 

नवीनतम अध्ययन ने 15 अप्रैल से 15 मई तक दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में 2,714 अस्पताल कर्मियों का आकलन किया, जो रोगसूचक थे और सीओवीआईडी​​-19 का पता लगाने के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण किया गया था। शोधकर्ताओं ने बताया कि अध्ययन अवधि के दौरान डेल्टा संस्करण भारत में प्रमुख तनाव था, जो सभी पुष्टि किए गए कोविड-19 मामलों में लगभग 80 प्रतिशत के लिए जिम्मेदार था।

WHO ने किया था अपनी आपातकालीन सूची में शामिल 

कोवैक्सिन हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (एनआईवी-आईसीएमआर), पुणे के सहयोग से विकसित किया गया है। इस साल जनवरी में कोवैक्सिन को भारत में 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों के लिए आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस महीने की शुरुआत में स्वीकृत आपातकालीन उपयोग कोरोना टीकों की अपनी सूची में वैक्सीन को जोड़ा।

कोरोना के डेल्टा स्वरुप पर प्रभावी है कोवैक्सिन 

नया अध्ययन भारत के दूसरे कोविड-19 उछाल के दौरान स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं में आयोजित किया गया था, जिसमें मुख्य रूप से कोवैक्सिन की पेशकश की गई थी। एम्स नई दिल्ली में मेडिसिन के अतिरिक्त प्रोफेसर मनीष सोनेजा ने कहा, "हमारा अध्ययन इस बात की पूरी तस्वीर पेश करता है कि BBV152 (Covaxin) क्षेत्र में कैसा प्रदर्शन करता है और इसे भारत में कोरोना महामारी की वृद्धि की स्थिति के संदर्भ में माना जाना चाहिए, जो डेल्टा संस्करण की संभावित प्रतिरक्षा क्षमता के साथ संयुक्त है।"

सोनेजा ने एक बयान में कहा, "हमारे निष्कर्ष इस बात का सबूत देते हैं कि तेजी से वैक्सीन रोलआउट कार्यक्रम महामारी नियंत्रण के लिए सबसे आशाजनक मार्ग बना हुआ है, जबकि सार्वजनिक स्वास्थ्य नीतियों में अतिरिक्त सुरक्षात्मक उपाय शामिल होने चाहिए, जैसे कि मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाना।" एम्स नई दिल्ली में कोविड-19 टीकाकरण केंद्र ने इस साल 16 जनवरी से अपने सभी 23,000 कर्मचारियों को विशेष रूप से Covaxin की पेशकश की।

कोरोना संक्रमण के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता का किया मूल्यांकन 

शोधकर्ताओं ने रोगसूचक RT-PCR पुष्टि किए गए SARS-CoV-2 संक्रमण के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता का मूल्यांकन किया। अध्ययन आबादी में 2,714 कर्मचारियों में से 1,617 लोगों ने SARS-CoV-2 संक्रमण के लिए सकारात्मक परीक्षण किया, जो वायरस COVID-19 का कारण बनता है और 1,097 ने नकारात्मक परीक्षण किया। सकारात्मक मामलों का मिलान नकारात्मक आरटी-पीसीआर परीक्षणों (नियंत्रण) से किया गया।

Covaxin के साथ टीकाकरण की बाधाओं की तुलना मामलों और नियंत्रणों के बीच की गई और कोविड-19, पिछले SARS-CoV-2 संक्रमण और संक्रमण तिथियों के व्यावसायिक जोखिम के लिए समायोजित की गई। अध्ययन में पाया गया कि आरटी-पीसीआर परीक्षण से 14 या अधिक दिन पहले दूसरी खुराक के साथ कोवैक्सिन की 2 खुराक के बाद रोगसूचक सीओवीआईडी​​-19 के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता 50 प्रतिशत थी।