BREAKING NEWS

हादसे का शिकार होने से बचा IAF का विमान जैगुआर, अंबाला में सुरक्षित लैंडिंग ◾वीडियो लिंक के जरिए ब्रिटेन की अदालत में पेश होगा भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी ◾जापान पहुंचे PM मोदी, भारतीय समुदाय ने किया गर्मजोशी से स्वागत ◾14वां G-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने जापान रवाना हुए PM मोदी◾पाकिस्तान समेत एशिया-प्रशांत समूह के सभी देशों ने किया भारत का समर्थन◾World Cup 2019 PAK vs NZ : पाक ने न्यूजीलैंड का रोका विजय रथ , नाकआउट की उम्मीद बढ़ायी ◾काफिले का मार्ग बाधित करने को लेकर थर्मल पावर के कर्मचारियों पर भड़के कुमारस्वामी ◾जयशंकर ने S-400 समझौते पर पोम्पिओ से कहा : भारत अपने राष्ट्रीय हितों को रखेगा सर्वोपरि◾‘जय श्रीराम’ का नारा नहीं लगाने पर ट्रेन से धकेल दिये गये 3 लोगों को ममता देंगी मुआवजा◾RAW चीफ बने 1984 बैच के IPS सामंत गोयल, अरविंद कुमार बनाए गए IB डायरेक्टर◾कांग्रेस ने राज्यसभा चुनाव में वैष्णव को BJD के समर्थन पर CM से स्पष्टीकरण मांगा ◾बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय का MLA बेटा पहुंचा जेल, अधिकारी से की थी मारपीट◾पलायन रोकने के लिए गांवों का हो विकास : गडकरी◾दुष्कर्म मामले में केरल के CPI (M) नेता के बेटे के खिलाफ जारी किया लुकआउट नोटिस◾कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्री नेपाल में फंसे, यात्रा संचालकों पर लगाया कुप्रबंधन का आरोप ◾विपक्ष त्यागे नकारात्मकता, विकास यात्रा में दे सहयोग : पीएम मोदी ◾Top 20 News - 26 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक देश एक चुनाव व्यवहारिक नहीं : कांग्रेस ◾नई ऊंचाइयों पर पहुंच रही है अमेरिका-भारत के बीच साझेदारी : माइक पोम्पियो◾दुखद और शर्मनाक है बिहार में चमकी बुखार से हुई बच्चों की मौत : PM मोदी ◾

देश

हिरासत में मौत का मामला : शीर्ष अदालत ने संजीव भट की याचिका खारिज की

उच्चतम न्यायालय ने हिरासत में मौत के 30 साल पुराने एक मामले में 11 अतिरिक्त गवाहों का परीक्षण करने का अनुरोध करने वाली बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट की याचिका पर विचार करने से बुधवार को इनकार कर दिया। भट इस मामले में वह मुकदमे का सामना कर रहे हैं। 

भट ने शीर्ष अदालत का रुख कर कहा था कि मामले में एक उचित और निष्पक्ष फैसले तक पहुंचने के लिए इन 11 गवाहों का परीक्षण जरूरी है। हालांकि, गुजरात पुलिस ने उनकी इस याचिका का सख्त विरोध करते हुए न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की अवकाशकालीन पीठ से कहा कि यह मामले के फैसले में विलंब करने का एक हथकंडा है। 

गुजरात पुलिस की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मनिन्दर सिंह और अधिवक्ता रजत नायर ने पीठ से कहा कि 1989 में हिरासत में मौत के इस मामले में अंतिम बहस पूरी हो चुकी है और निचली अदालत ने कहा है कि इस मामले में 20 जून को फैसला सुनाया जायेगा। भारतीय पुलिस सेवा के बर्खास्त अधिकारी संजीव भट इस मामले में आरोपी हैं। इस घटना के वक्त वह गुजरात के जामनगर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात थे।

 भट की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता सलमान खुर्शीद ने दलील दी कि मामले में निष्पक्ष सुनवाई के लिए इन गवाहों का परीक्षण बहुत जरूरी है। इस पर, सिंह ने अदालत से कहा कि यह मामला करीब तीन दशक तक खींचा गया है और चूंकि शीर्ष अदालत की तीन न्यायाधीशों की पीठ इस तरह की एक याचिका पर 24 मई को आदेश सुना चुकी है इसलिए भट की याचिका पर विचार नहीं किया जाना चाहिए। 

पीठ ने 24 मई के आदेश को देखने के बाद कहा कि वह तीन न्यायाधीशों की पीठ के आदेश में हस्तक्षेप नहीं कर सकती और भट की याचिका खारिज कर दी। सुनवाई के दौरान पीठ ने गुजरात उच्च न्यायालय के 16 अप्रैल के फैसले के खिलाफ शीर्ष न्यायालय का रुख करने में हुई देर पर भी सवाल किया। 

पीठ ने खुर्शीद से कहा कि आप पहले ही अदालत में क्यों नहीं आए? जिस आदेश को (गुजरात उच्च न्यायालय का) को चुनौती दी गई है वह 16 अप्रैल का है। उच्च न्यायालय के उस आदेश के खिलाफ इस अदालत ने 24 मई को आदेश दिया था। अभियोजन के अनुसार संजीव भट ने एक सांप्रदायिक दंगे के दौरान एक सौ से अधिक व्यक्तियों को हिरासत में लिया था और इन्हीं में से एक व्यक्ति की रिहाई होने के बाद अस्पताल में मृत्यु हो गयी थी। 

संजीव भट को बगैर अनुमति के ड्यूटी से अनुपस्थित रहने और सरकारी वाहन का दुरुपयोग करने के आरोप में 2011 में निलंबित किया गया था और बाद में अगस्त, 2015 में उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था। 

भट ने गुजरात उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुये मंगलवार को शीर्ष न्यायालय में याचिका दायर की थी। उच्च न्यायालय ने हिरासत में मौत के मुकदमे की सुनवाई के दौरान पूछताछ के लिये अतिरिक्त गवाहों को बुलाने का संजीव भट का अनुरोध अस्वीकार कर दिया था। गुजरात सरकार ने भट के इस प्रयास को मुकदमे में विलंब करने का हथकंडा करार दिया।