BREAKING NEWS

संतोष गंगवार ने कहा- नौकरी के लिये योग्य युवाओं की कमी, मायावती ने किया पलटवार ◾पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾शरद पवार बोले - जो प्यार पाकिस्तान से मिला है, वैसा कहीं नहीं मिला◾इमरान खान ने माना, भारत से हुआ युद्ध तो हारेगा पाकिस्तान◾मंत्रियों के अटपटे बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा : यशवंत सिन्हा◾अर्थव्यवस्था में सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी - मुश्किल वक्त है बीत जाएगा◾शिवपाल यादव की कमजोरी में खुद की मजबूती देख रही समाजवादी पार्टी◾चिन्मयानंद मामला : पीड़िता ने एसआईटी को सौंपे 43 वीडियो, स्वामी को बताया 'ब्लैकमेलर'◾हरियाणा के लिए कांग्रेस ने गठित की स्क्रीनिंग कमेटी ◾काशी, मथुरा में मस्जिद हटाने के लिए दी जाएगी अलग जमीन : स्वामी ◾सारदा मामला : कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त CBI के समक्ष नहीं हुए पेश◾कांग्रेस 2 अक्टूबर को करेगी पदयात्रा◾अमित शाह 18 सितंबर को जामताड़ा से रघुवर दास की जनआशीर्वाद यात्रा करेंगे शुरू◾PAK ने आतंकवाद को नहीं रोका तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता : राजनाथ ◾

देश

हिरासत में मौत का मामला : शीर्ष अदालत ने संजीव भट की याचिका खारिज की

उच्चतम न्यायालय ने हिरासत में मौत के 30 साल पुराने एक मामले में 11 अतिरिक्त गवाहों का परीक्षण करने का अनुरोध करने वाली बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट की याचिका पर विचार करने से बुधवार को इनकार कर दिया। भट इस मामले में वह मुकदमे का सामना कर रहे हैं। 

भट ने शीर्ष अदालत का रुख कर कहा था कि मामले में एक उचित और निष्पक्ष फैसले तक पहुंचने के लिए इन 11 गवाहों का परीक्षण जरूरी है। हालांकि, गुजरात पुलिस ने उनकी इस याचिका का सख्त विरोध करते हुए न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की अवकाशकालीन पीठ से कहा कि यह मामले के फैसले में विलंब करने का एक हथकंडा है। 

गुजरात पुलिस की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मनिन्दर सिंह और अधिवक्ता रजत नायर ने पीठ से कहा कि 1989 में हिरासत में मौत के इस मामले में अंतिम बहस पूरी हो चुकी है और निचली अदालत ने कहा है कि इस मामले में 20 जून को फैसला सुनाया जायेगा। भारतीय पुलिस सेवा के बर्खास्त अधिकारी संजीव भट इस मामले में आरोपी हैं। इस घटना के वक्त वह गुजरात के जामनगर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात थे।

 भट की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता सलमान खुर्शीद ने दलील दी कि मामले में निष्पक्ष सुनवाई के लिए इन गवाहों का परीक्षण बहुत जरूरी है। इस पर, सिंह ने अदालत से कहा कि यह मामला करीब तीन दशक तक खींचा गया है और चूंकि शीर्ष अदालत की तीन न्यायाधीशों की पीठ इस तरह की एक याचिका पर 24 मई को आदेश सुना चुकी है इसलिए भट की याचिका पर विचार नहीं किया जाना चाहिए। 

पीठ ने 24 मई के आदेश को देखने के बाद कहा कि वह तीन न्यायाधीशों की पीठ के आदेश में हस्तक्षेप नहीं कर सकती और भट की याचिका खारिज कर दी। सुनवाई के दौरान पीठ ने गुजरात उच्च न्यायालय के 16 अप्रैल के फैसले के खिलाफ शीर्ष न्यायालय का रुख करने में हुई देर पर भी सवाल किया। 

पीठ ने खुर्शीद से कहा कि आप पहले ही अदालत में क्यों नहीं आए? जिस आदेश को (गुजरात उच्च न्यायालय का) को चुनौती दी गई है वह 16 अप्रैल का है। उच्च न्यायालय के उस आदेश के खिलाफ इस अदालत ने 24 मई को आदेश दिया था। अभियोजन के अनुसार संजीव भट ने एक सांप्रदायिक दंगे के दौरान एक सौ से अधिक व्यक्तियों को हिरासत में लिया था और इन्हीं में से एक व्यक्ति की रिहाई होने के बाद अस्पताल में मृत्यु हो गयी थी। 

संजीव भट को बगैर अनुमति के ड्यूटी से अनुपस्थित रहने और सरकारी वाहन का दुरुपयोग करने के आरोप में 2011 में निलंबित किया गया था और बाद में अगस्त, 2015 में उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था। 

भट ने गुजरात उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुये मंगलवार को शीर्ष न्यायालय में याचिका दायर की थी। उच्च न्यायालय ने हिरासत में मौत के मुकदमे की सुनवाई के दौरान पूछताछ के लिये अतिरिक्त गवाहों को बुलाने का संजीव भट का अनुरोध अस्वीकार कर दिया था। गुजरात सरकार ने भट के इस प्रयास को मुकदमे में विलंब करने का हथकंडा करार दिया।