BREAKING NEWS

गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾कोरोना संकट के बीच CM उद्धव ठाकरे ने बुलाई सहयोगी दलों की बैठक◾राहुल गांधी से बोले एक्सपर्ट- 2021 तक रहेगा कोरोना, आर्थिक गतिविधियों पर लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत◾देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के पार, अब तक 4 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7600 के पार, अब तक 172 लोगों की मौत हुई ◾Covid-19 : राहुल गांधी आज सुबह प्रसिद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ करेंगे चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

CBI ने पिछले 5 महीने में 147 लोगों के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर मांगा

देश में सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने बैंक धोखाधड़ी के मामलों में पिछले पांच महीनों में 147 लुक आउट सर्कुलर (एलओसी) जारी करने का अनुरोध किया है। एक आरटीआई अर्जी के जवाब में बैंक ने यह जानकारी दी। आंकड़ों के मुताबिक स्टेट बैंक ने ‘आव्रजन ब्यूरो’ से इस साल अप्रैल से एलओसी जारी करने का अनुरोध करना शुरू किया। 

बैंक ने पुणे के आरटीआई कार्यकर्ता विहार दर्वे द्वारा सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून के तहत दायर एक अर्जी के जवाब में बताया कि अप्रैल और अगस्त के बीच उसने (बैंक ने) 147 व्यक्तियों के खिलाफ एलओसी जारी करने का अनुरोध किया, ताकि उन्हें देश छोड़ने से रोका जा सके। 

जवाब में कहा गया कि 12 अक्टूबर 2018 को गृह मंत्रालय ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों और प्रबंध निदेशकों को उन लोगों की सूची में शामिल किया, जो देश छोड़ कर भागना चाह रहे अपराधियों के खिलाफ एलओसी जारी करने का अनुरोध कर सकते हैं। 

पिछले साल दिसंबर में संसद में दिए गए आंकड़ों के मुताबिक करीब 49 आर्थिक अपराधी देश छोड़कर विभिन्न देशों में भाग गए और सरकार उन्हें वापस लाने की कोशिश कर रही है। भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या, हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी और उसका भांजा नीरव मोदी, उद्योगपति नितिन एवं चेतन संदेसरा उन 58 आर्थिक अपराधियों में शामिल हैं, जिनके खिलाफ सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और अन्य एजेंसियों जांच कर रही थी और जो देश छोड़कर भाग गए। 

इसके बाद पिछले साल सार्वजनिक बैंक के शीर्ष अधिकारियों को यह अधिकार दिया गया कि वे एलओसी जारी करने का अनुरोध कर सकते हैं, लेकिन भारतीय बैंक संघ ने इस संबंध में दिशानिर्देश इस साल मार्च में तैयार किए। दर्वे ने इस बारे में जानकारी हासिल करने के लिए वित्त मंत्रालय से संपर्क किया था, हालांकि वित्त मंत्रालय ने उनकी अर्जी को गृह मंत्रालय और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के पास भेज दिया। 

एसबीआई ने दर्वे को अपने जवाब में कहा कि उसने 147 एलओसी के लिए अनुरोध किये जबकि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने जवाब दिया कि यह सूचना उसके पास नहीं है। यूको बैंक ने कहा कि उसने एलओसी जारी नहीं किये, जबकि पंजाब ऐन्ड सिंध बैंक ने कहा कि उसके प्रबंध निदेशक और सीईओ को एलओसी जारी करने का अधिकार दिया गया है लेकिन ऐसा कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। 

बैंक ऑफ बड़ौदा ने कहा कि यह सूचना उससे संबद्ध नहीं है और केनरा बैंक ने कहा कि इस अवधि में उसने एलओसी का कोई अनुरोध नहीं किया। वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकिंग क्षेत्र में धोखाधड़ी के 6,801 मामले सामने आए, जिसमें शामिल कुल धनराशि 71,542.93 करोड़ रुपये थी।