BREAKING NEWS

वुहान में फंसे अपने नागरिकों को निकालेगा भारत : जयशंकर ◾चुनाव आयोग ने अनुराग ठाकुर के आपत्तिजनक बयान को देखते हुए जारी किया नोटिस◾शाहीन बाग में कोई प्रदर्शनकारी मर क्यों नहीं रहा है? : दिलीप घोष◾देशद्रोह के आरोपी शरजील को बिहार से दिल्ली ले जाने की तैयारी◾केन्द्र सरकार, राज्यों के साथ बेहतर समन्वय बनाकर विकास की नई दिशा तय करना चाहती है : शाह◾चुनाव दिल्ली के 2 करोड़ लोगों व 200 भाजपा सांसदों के बीच : केजरीवाल ◾भागवत ने किये बाबा विश्वनाथ के दर्शन◾निर्भया केस : पवन जल्लाद गुरुवार को पहुंचेगा तिहाड़◾प्रशांत ने नीतीश के दावे को बताया 'झूठा'◾बस ने ऑटो रिक्शा को मारी टक्कर, दोनों वाहन कुएं में गिरे, 15 से अधिक लोगों की मौत , 20 से ज़्यादा जख्मी◾भाजपा चुनाव को साम्प्रदायिक बनाना चाहती है : कांग्रेस◾अंडर-19 विश्व कप : ऑस्ट्रेलिया को हराकर भारत सेमीफाइनल में◾कन्हैया कुमार से ज्यादा खतरनाक बयान दिया है शरजील ने - शाह◾जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर BSF को ड्रोन रोधी प्रणाली से लैस किया जाएगा◾भारत ने हिन्दू लड़की के अपहरण पर पाक उच्चायोग के अधिकारी को किया तलब, आपत्ति पत्र जारी किया◾प्रशांत किशोर को अमित शाह के कहने पर जदयू में शामिल किया : नीतीश कुमार ◾NPR के प्रारूप में जोडे गए नए कॉलम को हटाने का आग्रह करेंगे पार्टी सांसद : नीतीश कुमार ◾बजट सत्र के मद्देनजर राज्यसभा के सभापति ने शुक्रवार को बुलाई सर्वदलीय बैठक ◾राहुल ने किया नेशनल रजिस्टर आफ अनएम्पलायमेंट पोस्टर का विमोचन ◾राजद्रोह का आरोपी शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार◾

जल संकट : CBSE ने स्कूलों को अगले तीन वर्ष में जल सक्षम बनने को कहा

देश में अनेक क्षेत्रों में जल संकट गहराने के बीच केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने स्कूलों से अगले तीन वर्ष में अनिवार्य रूप से जल सक्षम बनने को कहा है और इस संबंध में जल प्रबंधन नीति लागू करने तथा नियमित रूप से जल आडिट कराने को कहा है। बोर्ड की ओर से तैयार जल संरक्षण दिशानिर्देश में कहा गया है कि स्कूलों को जल से जुड़ी पुरानी सुविधाओं, उपकरणों को दुरूस्त बनाना चाहिए तथा सेंसर युक्त आटोमेटिक नल, व्यवस्थित टैंक स्थापित करना चाहिए।

इसके साथ ही नियमित रूप से लीकेज की जांच करानी चाहिए एवं उनके रखरखाव की ठोस व्यवस्था करनी चाहिए। सीबीएसई का यह दिशानिर्देश ऐसे समय में सामने आया है जब नीति आयोग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली, बेगलूरू, चेन्नई, हैदराबाद सहित 21 शहरों में 2020 तक भूजल की स्थिति काफी गंभीर हो जाएगी। 

बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘स्कूलों के लिए जल सक्षम बनने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है। इसलिए स्कूलों के लिए जरूरी है कि वे अगले तीन वर्षो में जल सक्षम बने।’’ उन्होंने कहा कि स्कूलों में प्रतिदिन काफी मात्रा में पानी की खपत होती है जो पीने के उद्देश्य के साथ कैंटीन, प्रयोगशाला, खेलों, मैदान, आदि में उपयोग में लाई जाती है। ऐसे में स्कूलो को जल संरक्षण के महत्व को समझने की जरूरत है। 

बोर्ड ने स्कूलों से कहा है कि जल सक्षम स्कूल ‘संस्थागत जवाबदेही है, ऐसे में उन्हें स्कूल जल प्रबंधन समिति का भी गठन करना चाहिए जिसमें प्रशासक, शिक्षक, छात्र, कर्मचारी, अभिभावक और समुदाय के लोगों को भी जोड़ना चाहिए। समिति को जल के उपयोग पर नजर रखनी चाहिए और समय समय पर इसकी समीक्षा करनी चाहिए।