BREAKING NEWS

ED दफ्तर पहुंचे राउत बोले-मैं बहुत निर्भय आदमी, जिंदगी में कभी नहीं किया गलत काम ◾Prophet Remarks Row: SC ने खारिज की नूपुर शर्मा की याचिका, कहा- TV पर मांगे देश से माफी! ◾मेरा मुख्यमंत्री बनना फडणवीस का ‘मास्टरस्ट्रोक’ : एकनाथ शिंदे◾Maharashtra: फ्लोर टेस्ट एक औपचारिकता... आसानी से होगी जीत, CM शिंदे ने 'मातोश्री' पर कही यह बात ◾पेट्रोल -डीजल और एटीएफ के निर्यात पर बढ़ा टैक्स ,घरेलू बाजारों पर कोई असर नहीं ◾PM मोदी ने उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं◾देशभर में आज से सिंगल-यूज प्लास्टिक पर बैन, रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाली ये 19 चीज़ें शामिल ◾बाला साहेब की विरासत का कौन होगा उत्तराधिकारी ? उद्धव ठाकरे या एकनाथ शिंदे किसका पलड़ा भारी ◾उदयपुर हत्याकांड को लेकर एक्शन में गहलोत सरकार, देर रात हटाए गए SP और IG◾CORONA UPDATE : देश में कोरोना के मामलो में हुई वृद्धि, 24 घंटे में सामने आए 17 हज़ार से अधिक केस ◾मनी लॉन्ड्रिंग : आज ED के सामने पेश होंगे संजय राउत, Tweet कर शिवसैनिकों से की ये अपील◾यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की यूरोपीय संघ की सदस्यता पर करेंगे घोषणा◾LPG Price Update : LPG कमर्शियल गैस सिलेंडर के दामों में कटौती, 198 रुपए हुआ सस्ता◾आज का राशिफल ( 01 जुलाई 2022)◾प्रधानमंत्री मोदी 12 जुलाई को करेंगे देवघर हवाई अड्डे का उद्घाटन◾बीजेपी का खेला : शिवसेना को कमजोर करना चाहती है भाजपा, शिंदे को मुख्यमंत्री बना ‘क्षेत्रीय भावनाओं’ पर कब्जे की कोशिश◾जानिए ! देवेंद्र से पहले भी ये नेता CM रहने के बाद जूनियर पद कर चुके है स्वीकार , फडणवीस ऐसे करने वाले चौथे नेता◾उद्धव ठाकरे ने नये मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे , उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को दीं शुभकामनाएं ◾सतारा के रहने वाले महाराष्ट्र के चौथे सीएम हैं एकनाथ , शरद पवार ने शिंदे को दी बधाई ◾CM Swearing Ceremony : शीर्ष नेतृत्व के कहने पर देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी चीफ मिनिस्टर◾

CDSCO ने शर्तो के साथ ‘कोवोवैक्स’ और ‘कोर्बेवैक्स’ वैक्सीन के इमरजेंसी उपयोग को दी मंजूरी

कोरोना महामारी के बदलते स्वरुप के खिलाफ विश्वभर में जंग जारी है। आये दिन कोरोना के खिलाफ नई-नई दवाओं और वैक्सीन पर रिसर्च हो रही है। इस बीच भारत में केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ की वैक्सीन ‘कोवोवैक्स’ और ‘बायोलॉजिकल ई’ कम्पनी की ‘कोर्बेवैक्स’ वैक्सीन को आपात स्थिति में उपयोग की अनुमति दे दी है।

हालांकि सीडीएससीओ ने इसके लिए कुछ शर्ते भी रखी है। इसके साथ ही, एंटी कोविड दवा ‘मोलनुपिराविर’ (गोली) के आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग को भी अनुमति मिल गई है। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया था कि सीडीएससीओ की कोविड-19 संबंधी विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने ‘कोवोवैक्स’ और ‘कोर्बेवैक्स’ को कुछ शर्तों के साथ आपात स्थिति में उपयोग की अनुमति देने की सिफारिश की है। कोविड-19 रोधी दवा ‘मोलनुपिराविर’ (गोली) के आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग की भी सिफारिश की गई थी।

केंद्र ने चुनाव वाले राज्यों को कोविड-19 रोधी टीकाकरण में तेजी लाने की सलाह दी

आपात स्थिति में ‘मोलनुपिराविर’ का उपयोग कोविड-19 के वयस्क मरीजों पर ‘‘एसपीओ2’’ 93 प्रतिशत के साथ किया जा सकेगा और उन मरीजों को यह दवा दी जा सकेगी, जिन्हें बीमारी से बहुत ज्यादा खतरा हो। सभी सिफारिशों को अंतिम मंजूरी के लिए भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) के पास भेजा गया था।

आपात स्थिति में टीके के उपयोग के लिए ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ (एसआईआई) के आवेदन की सोमवार को दूसरी बार समीक्षा करने वाली सीडीएससीओ की विशेषज्ञ समिति ने गहन अध्ययन के बाद ‘कोवोवैक्स’ के उपयोग की सिफारिश की थी।

एक आधिकारिक सूत्र ने कहा था, ‘‘समिति ने इस बात पर गौर किया कि टीके का निर्माण नोवावैक्स की प्रौद्योगिकी के आधार पर किया गया है और यह सशर्त विपणन प्राधिकरण के लिए यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी द्वारा अनुमोदित है। साथ ही, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे आपात स्थिति में इस्तेमाल की भी मंजूरी दे दी है।’’

एसआईआई में सरकार और नियामक मामलों के निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने इसके संबंध में पहला आवेदन अक्टूबर में दिया था। डीसीजीआई कार्यालय ने 17 मई को एसआईआई को ‘कोवोवैक्स’ टीके के निर्माण और भंडारण की अनुमति दे दी थी। डीसीजीआई की मंजूरी के आधार पर ही अभी तक पुणे स्थित कम्पनी टीके की खुराक का निर्माण और भंडारण कर रही है।

अगस्त 2020 में, अमेरिका की टीका बनाने वाली कम्पनी ‘नोवावैक्स इंक’ ने एनवीएक्स-सीओवी2373 (कोविड-19 रोधी संभावित टीका) के विकास और व्यावसायीकरण के लिए एसआईआई के साथ एक लाइसेंस समझौते की घोषणा की थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 17 दिसंबर को ‘कोवोवैक्स’ टीके के आपात स्थिति में इस्तेमाल की अनुमति दे दी थी।

वहीं, सीडीएससीओ ने कोविड-19 रोधी दवा ‘मोलनुपिराविर’ के आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग को भी स्वीकृति दी है। अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने हाल ही में ‘मर्क’ कम्पनी की कोविड-19 रोधी ‘मोलनुपिराविर’ दवा को संक्रमण के उन मरीजों के इलाज के लिए अधिकृत कर दिया था, जिन्हें इस बीमारी से खतरा अधिक है।

इससे पहले, नवंबर में ब्रिटेन ने ‘मर्क’ की दवा को सशर्त अधिकृत किया गया था, जो कोविड-19 के सफलतापूर्वक इलाज के लिए बनाई गई पहली गोली है। पृथक-वास में रहने वाले मामूली या हल्के लक्षण वाले मरीजों को इस गोली को पांच दिन तक दिन में दो बार लेना होगा।