BREAKING NEWS

भाजपा की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने पुरी शंकराचार्य से की मुलाकात ◾ नेपाल सरकार का दावा- लिंपियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी उसके अभिन्न अंग, निर्माण रोके भारत◾दिल्ली में कोविड-19 के 18,286 मामले आए सामने , 28 रोगियों की मौत ◾भारत के टीकाकरण कार्यक्रम ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में काफी ताकत दी : PM मोदी ◾BJP ने उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह को पार्टी से किया निष्कासित, कांग्रेस में हो सकते हैं शामिल◾Covid -19 को लेकर WHO ने किया बड़ा खुलासा - कोरोना वायरस पूरी तरह से समाप्त नहीं होगा◾महाराष्ट्र कोरोना : बीते 24 घंटों में आए 41 हजार से ज्यादा नए मामले, शहर में मिली थोड़ी रहत ◾PM मोदी के नेतृत्व की वजह से 157 करोड़ टीके लगाने वाला पहला देश बना भारत - पूनियां◾ जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर किया ग्रेनेड से हमला, पुलिसकर्मी और आम नागरिक घायल ◾अमित शाह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार फिर से करेंगे मैराथन दौरा◾ मुंबई 1993 ब्लास्ट के आरोपी सलीम गाजी की कराची में हुई मौत, डॉन छोटा शकील का रहा करीबी ◾राजस्थान सरकार का अलवर सामूहिक दुष्कर्म की जांच CBI को सौंपने का निर्णय, हाई लेवल मीटिंग में लिया गया फैसला◾ उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए आप ने जारी की 150 उम्मीदवारों की सूची, जानें किसे मिला टिकट◾निषाद पार्टी एक बार फिर BJP के साथ मिलकर लड़ेगी चुनाव, जानिए कितनी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी nishad ◾केंद्र के पश्चिम बंगाल की झांकी को बाहर करने के फैसले पर ममता ने जताई नाराज़गी, PM मोदी को लिखा पत्र◾कोरोना के कारण डिजिटल हुई प्रचार की लड़ाई, सभी पार्टियों के ‘वॉर रूम’ में जारी जंग, BJP ने बनाई बढ़त ◾धर्म संसद: गिरफ्तारी के बाद भी खाना नहीं खा रहे यति नरसिंहानंद, केवल 'रस आहार' पर अड़े◾हस्तिनापुर से चुनावी रण में उतरने को तैयार मॉडल अर्चना, आत्मविश्वास से परिपूर्ण, कहा- भयभीत नहीं, आगे बढ़ूंगी ◾केजरीवाल ने उत्पल को अपनी पार्टी में शामिल होने का दिया न्योता, AAP के इस दांव से क्या BJP हो सकती है चित◾समाजवादी पार्टी की उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए 30 उम्मीदवारों की सूची जारी ◾

केंद्र ने मानी हार, किसान आंदोलन की समाप्ति का हुआ ऐलान, 11 दिसंबर से अन्नदाताओं की होगी घर वापसी

राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर विरोध कर रहे किसानों ने आखिरकार अपने सालभर से जारी आंदोलन को समाप्त करने का ऐलान कर दिया है। इसके साथ ही 14 महीनों से सीमाओं पर दते हुए किसान शाम से अपने घरों की तरफ जाना शुरू कर सकते हैं। दरअसल, केंद्र की मोदी सरकार की ओर से मिले नए प्रस्ताव पर किसान संगठनों में सहमति बन गई थी, लेकिन गुरुवार दोपहर को इस पर लंबी चर्चा के बाद फैसला हुआ।  

किसानों की होगी घर वापसी 

इसके साथ ही सिंघु बॉर्डर का दृश्य किसानों की घर वापसी का संकेत दे रहा है, सभी लोग रहने के लिए लगाए गए टेंट हटाने लगे हैं और लंगर आदि का सामान गाड़ियों में रखा जाने लगा है। जानकारी के मुताबिक किसान अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में अरदास करेंगे और अपने घरों को लौट जाएंगे। संयुक्त किसान मोर्चा के प्रतिनिधि बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा, 15 जनवरी को एक समीक्षा बैठक होगी।

15 जनवरी को होगी समीक्षा बैठक 

राजेवाल ने कहा कि 15 जनवरी को होने वाली समीक्षा बैठक में इस बात पर विचार किया जाएगा कि 14 महीने तक चले इस आंदोलन से हमने क्या पाया है और केंद्र सरकार ने कितनी मांगों को मान लिया है। उन्होंने साथ ही कहा कि 11 दिसंबर से किसान लौटना शुरू कर देंगे और 15 दिसंबर तक पंजाब में भी सभी मोर्चे खत्म हो जाएंगे। राजेवाल ने कहा कि मैं उन सभी लोगों को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने हमारी इस लंबी लड़ाई में हमारा साथ दिया है।

बिजली संशोधन विधेयक को लेकर सरकार ने दया यह आश्वासन 

केंद्र सरकार द्वारा कृषि आंदोलन के दौरान और पराली जलाने के लिए दर्ज सभी मामलों को वापस लेने के लिए सहमत होने के बाद किसानों के विरोध को वापस लेने पर सहमति बनी थी। विरोध कर रहे किसानों के अनुसार सरकार ने यह भी आश्वासन दिया है कि वह एसकेएम या संबंधित किसान संघों के साथ परामर्श के बाद ही बिजली संशोधन विधेयक पेश करेगी।

मृतक किसानों के परिजनों को मिलेगा मुआवजा 

इसके अलावा, पंजाब की तर्ज पर हरियाणा और उत्तर प्रदेश की राज्य सरकारों ने भी मृतक किसानों के परिजनों को 5 लाख रुपये का मुआवजा और नौकरी देने पर सहमति जताई है। अंत में, केवल एसकेएम नेताओं को एमएसपी समिति में शामिल करने की मांग - राज्यों, केंद्र के अधिकारियों और कृषि विशेषज्ञों के अलावा - को भी पूरा किया गया है।

इससे पहले, किसान यह भी मांग कर रहे थे कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा, जिनके बेटे आशीष पर लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आरोपी है उन्हें बर्खास्त किया जाए। हालांकि, केंद्र को भेजे गए अंतिम मांग प्रस्ताव को देखते हुए, एसकेएम के पांच सदस्यीय पैनल ने उस बिंदु को हटा दिया था।

केंद्र से किसानों को मिला लिखित दस्तावेज, सिंघु बॉर्डर से हटने लगे टेंट