BREAKING NEWS

ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾राजधानी में हुई ओमीक्रॉन वेरिएंट की एंट्री? दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती हुए 12 संदिग्ध मरीज ◾दिल्ली प्रदूष्ण : केंद्र सरकार द्वारा गठित इंफोर्समेंट टास्क फोर्स के गठन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी ◾प्रदूषण : UP सरकार की दलील पर CJI ने ली चुटकी, बोले-तो आप पाकिस्तान में उद्योग बंद कराना चाहते हैं ◾UP Election: अखिलेश का बड़ा बयान- BJP को हटाएगी जनता, प्रियंका के चुनाव में आने से नहीं कोई नुकसान ◾कांग्रेस को किनारे करने में लगी TMC, नकवी बोले-कारण केवल एक, विपक्ष का चौधरी कौन?◾अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾विशेषज्ञ का दावा- 'ओमीक्रॉन' वेरिएंट से मरने की आशंका कम, जानें किन अहम कदमों को उठाने की जरूरत ◾SC की फटकार के बाद 17 उड़न दस्तों का हुआ गठन, बारिश के बावजूद 'गंभीर' श्रेणी में बनी है वायु गुणवत्ता ◾Today's Corona Update : देश में मंडरा रहा 'ओमिक्रॉन' वैरिएंट का खतरा, 9216 नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा : CBI-ED निदेशकों के कार्यकाल वाले बिल को आज पेश करेगी सरकार, विपक्ष कर सकता है विरोध ◾'ओमिक्रॉन' के खतरे के बीच दक्षिण अफ्रीका से जयपुर लौटे एक ही परिवार के 4 लोग कोरोना पॉजिटिव◾कोरोना के मुद्दे पर विपक्ष ने किए केंद्र से सवाल, सदन में उठे महामारी के विभिन्न पहलु, जानें सरकार के जवाब ◾World Corona Update : संक्रमण के कुल मामले 26.41 करोड़, 8.07 अरब लोगों का हुआ टीकाकरण ◾कर्नाटक : 'ओमिक्रॉन' के दो मरीज मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक, अधिकारियों के साथ करेंगे चर्चा ◾ दिल्ली : केंद्र सरकार के नीट पीजी पर लिए गए फैसले के खिलाफ डॉक्टरों ने की हड़ताल, ओपीडी सेवा भी रही प्रभावित ◾

EWS कोटे की सालाना आयसीमा पर फिर विचार करने को तैयार है केंद्र, सुप्रीम कोर्ट से मांगा समय

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उसने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के लिए निर्धारित 8 लाख रुपये की वार्षिक आय सीमा के मानदंड पर फिर से विचार करने का फैसला किया है और इस संबंध में 4 सप्ताह के भीतर एक नया निर्णय लिया जाएगा। केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ को आश्वासन दिया कि नीट प्रवेश के लिए काउंसलिंग 4 सप्ताह की अवधि के लिए स्थगित कर दी जाएगी, जब तक कि ईडब्ल्यूएस मानदंड पर एक नया निर्णय नहीं लिया जाता है।

EWS मानदंडों पर केंद्र फिर करेगी विचार 

मेहता ने कहा, मुझे यह कहने का निर्देश है कि सरकार ने मानदंडों पर फिर से विचार करने का फैसला किया है.. हम चार सप्ताह के भीतर फैसला करेंगे। पीठ में न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति विक्रम नाथ भी शामिल थे। पीठ ने सुनवाई के दौरान कहा कि ईडब्ल्यूएस आरक्षण प्रगतिशील और व्यावहारिक आरक्षण है और एकमात्र सवाल यह है कि क्या यह क्षैतिज या लंबवत होना चाहिए।

याचिकाकर्ताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता अरविंद दातार ने प्रस्तुत किया कि सवाल यह है कि क्या प्रति माह 70,000 रुपये की आय को ईडब्ल्यूएस कहा जा सकता है। सीमा मुद्दे के पहलू पर न्यायमूर्ति कांत ने कहा कि इस पर काम किया जा सकता है। पीठ ने सुझाव दिया कि केंद्र अगले साल इसके लिए आवेदन कर सकता है। 

6 जनवरी को होगी अगली सुनवाई 

मेहता ने कहा कि उन्हें इस पर निर्देश लेने की जरूरत होगी। जस्टिस चंद्रचूड़ ने बताया कि यह नवंबर का अंत है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा, केंद्र ने 103वें संशोधन अधिनियम 2019 द्वारा सम्मिलित संविधान के अनुच्छेद 15 के स्पष्टीकरण के प्रावधानों के संदर्भ में ईडब्ल्यूएस का निर्धारण करने वाले मानदंडों पर फिर से विचार करने का निर्णय लिया है। सुनवाई की अगली तारीख छह जनवरी तय की गई।

SC ने किया केंद्र सरकार से सवाल 

21 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने सामाजिक और शैक्षिक पिछड़ेपन से पीड़ित नहीं होने के बावजूद, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के तहत आरक्षण देने के लिए 8 लाख रुपये की वार्षिक आय के ओबीसी क्रीमी लेयर के मानदंड को अपनाने पर केंद्र से सवाल किया था।

एक हलफनामे में केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि ओबीसी और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के लिए 8 लाख रुपये की आय सीमा तय करने का उसका निर्णय नीट अखिल भारतीय कोटा में मनमाना नहीं है और इसे विभिन्न आर्थिक कारकों पर विचार करने के बाद विभिन्न राज्यों में अंतिम रूप दिया गया है।

हलफनामे में कहा गया है कि विभिन्न राज्यों में विविध आर्थिक कारकों के साथ-साथ ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच विविध आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए 8 लाख रुपये की आय सीमा का निर्धारण किया जाता है।

8 लाख रुपये की वार्षिक आय मानदंड पर केंद्र से मांगा था स्पष्टीकरण 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 22 अक्टूबर, 2021 को नीट- अखिल भारतीय कोटा में ईडब्ल्यूएस आरक्षण के लिए पात्रता निर्धारित करने के लिए 8 लाख रुपये की वार्षिक आय के मानदंड को अपनाने के फैसले पर कड़े सवाल उठाए थे। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली एक पीठ ने पूरे देश में समान रूप से ईडब्ल्यूएस मानदंड के लिए केंद्र द्वारा निर्धारित 8 लाख रुपये की वार्षिक आय सीमा के औचित्य के बारे में संदेह व्यक्त किया था और स्पष्टीकरण मांगा था।

21 अक्टूबर को पारित आदेश में पीठ ने ईडब्ल्यूएस के लिए 8 लाख रुपये की आय सीमा के संबंध में विशिष्ट प्रश्नों का एक सेट उठाया था। कोर्ट ने पूछा कि क्या ईडब्ल्यूएस और ओबीसी दोनों श्रेणियों के लिए 8 लाख रुपये की समान आय सीमा रखना मनमानी नहीं होगी, क्योंकि पूर्व में सामाजिक और शैक्षिक पिछड़ेपन की कोई अवधारणा नहीं है।