BREAKING NEWS

छत्तीसगढ़: CRPF ने नक्सल प्रभावित जिले में स्थापित किया शिविर◾बाल विवाह के खिलाफ असम में 4000 से ज्यादा मुकदमे, CM himant biswa लेंगे एक्शन◾रामचरितमानस विवाद: VHP की सपा व राजद की मान्यता रद्द करने की मांग, सीईसी से मिलने का समय मांगा◾कांग्रेस के नेतृत्व वाली विपक्षी दलों ने Adani group के मामले में JPC जांच की मांग की◾मनीष सिसोदिया ने कहा- LG वीके सक्सेना के दखल की वजह से दिल्ली सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए विदेश नहीं भेज पा रही◾पाकिस्तान में बलूचिस्तान के लासबेला में भूकंप के झटके महसूस किए गए◾बिहार में बड़ा रेल हादसा : दो हिस्सों में बटी सत्याग्रह एक्सप्रेस, बाल-बाल बचे यात्री◾अडानी पर हमलावर हुआ विपक्ष, पवन खेड़ा ने कहा- PM मोदी ने एक गुब्बारा फुलाया और वो फुस्स हो गया◾ईंट निर्माता संघ ने उठाया बड़ा कदम, बिहार के 450 सरकारी विद्यालयों में लड़कियों के लिए बनवाएगा शौचालय◾CM शिवराज ने दिया संकेत, केंद्रीय बजट की तर्ज पर बनेगा मध्य प्रदेश का बजट◾पाकिस्तान: इमरान समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई तेज, पूर्व मंत्री शेख राशिद गिरफ्तार◾AAP ने LG सक्सेना पर टीचर्स को विदेश भेजने से रोकने का लगाया आरोप, कहा- फाइल अक्टूबर से पड़ी है पेंडिंग ◾Iran ने ड्रोन हमले के लिए इजराइल को जिम्मेदार ठहराया, जवाबी कार्रवाई की धमकी दी◾Budget 2023: वित्त मंत्री ने किया ऐलान, कहा- सिगरेट, सोना-चांदी महंगा, मोबाइल पार्ट्स-LED टीवी होंगे सस्ते ◾ममता बनर्जी बोलीं- भाजपा कुछ नेताओं के फायदे के लिए LIC, राष्ट्रीयकृत बैंकों के पैसे का कर रही इस्तेमाल ◾उत्तर प्रदेश : रामपुर में निर्वस्त्र महिला ने फैलाया खौफ, रातभर जागने पर मजबूर हुए लोग, जांच में जुटी पुलिस◾मनीष के साथ भागी मुस्लिम युवती...परिवार ने लगाए गंभीर आरोप, लड़की ने वीडियो जारी कर पलटवार किया ◾अखिलेश यादव को मुरादाबाद में Plane Landing की नहीं मिली अनुमति, सपा ने कहा- बेहद निंदनीय एवं अलोकतांत्रिक कृत्य◾प्रयागराज पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री , बागेश्वर धाम में करेंगे 121 कन्याओं का विवाह ◾बलात्कार के आरोपी आसाराम को एक और मामले में उम्र कैद, जानें उस रात की पुरी कहानी◾

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र ने कहा - लोन मोरेटोरियम को 2 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है

केंद्र और भारतीय रिजर्व बैंक ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया है कि ऋण पर अधिस्थगन यानी मोरेटोरियम अवधि 2 साल के लिए और बढ़ाई जा सकती है। केंद्र और आरबीआई ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के हवाले से बताया कि हम कोरोना संकटग्रस्त क्षेत्रों की पहचान करने की कोशिश कर रहे हैं, जो कि महामारी के प्रभाव के अनुसार अलग-अलग हैं।

जब मेहता ने अदालत को बताया कि मोरेटोरियम के दौरान ईएमआई ब्याज पर अतिरिक्त ब्याज की स्थिति पर विचार किया जा सकता है, तो बेंच ने कहा कि ब्याज के पहलू को एक साथ नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने भी कहा कृपया इस महत्वपूर्ण मामले में निष्पक्ष रहें। 

मेहता ने तब केंद्र, आरबीआई और अन्य बैंकों के प्रतिनिधियों के साथ उचित समाधान के लिए बैठक करने का सुझाव दिया। अदालत ने कहा कि इस मामले में और देरी नहीं की जा सकती। कल के लिए सुनवाई की तारीख तय करते हुए, बेंच ने कहा कि यह एकमात्र ऐसा मामला होगा जिसकी कल सुनवाई होगी।

बुधवार को अदालत ने महामारी के समय घोषित अवधि के दौरान ऋण पर ब्याज के साथ-साथ ब्याज पर कोई कारगर कदम न उठाने के लिए कोई रुख नहीं अपनाने पर केंद्र की खिंचाई की। एक याचिका में जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्डी और एमआर शाह ने केंद्र से कहा, "आप अपना रुख स्पष्ट कीजिये , आप कुछ भी नहीं कह  रहे है । आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कदम उठाना आपकी जिम्मेदारी है। आपके पास पर्याप्त अधिकार हैं। आप सिर्फ आरबीआई पर निर्भर नहीं रह सकते।" 

शीर्ष अदालत ने कहा, "यह केवल व्यावसायिक हितों का ध्यान रखने का समय नहीं है, बल्कि आपको लोगों की दुर्दशा पर भी विचार करना चाहिए। इस तरह से आरबीआई का रुख दिखता है और आप बिल्कुल भी सकारात्मक रुख नहीं अपना रहे हैं। यहां दो मुद्दे हैं। क्या कोई ब्याज लिया जाना चाहिए और क्या ब्याज पर कोई ब्याज मोरेटोरियम अवधि के दौरान चार्ज किया जाना चाहिए," 

शीर्ष अदालत ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता द्वारा जवाब दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय मांगने के बाद सरकार को समय दिया। मेहता ने कहा, " हम आरबीआई के साथ समन्वय में काम कर रहे हैं।"

Share Market : सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 400 अंक चढ़ा, निफ्टी 11,500 अंक के पार