BREAKING NEWS

किसानों का प्रदर्शन हुआ उग्र, शंभू बॉर्डर पर भीड़ ने उखाड़ फेंके बैरिकेड, पुलिस पर पथराव◾26/11 हमले की 12वीं बरसी, आज के ही दिन 10 आतंकियों ने मुंबई में खेला था खूनी खेल◾देश में बीते 24 घंटो के दौरान 44,489 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 92 लाख 66 हजार से अधिक ◾लालू यादव से संबंधित सुशील मोदी के ट्वीट को ट्विटर ने किया डिलीट ◾TOP 5 NEWS 26 NOVEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾ चक्रवाती तूफान ‘निवार’ पुडुचेरी के तट के पास से गुजरा, कमजोर होकर भीषण चक्रवात में हुआ तब्दील ◾विश्वभर में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 6 करोड़ के पार ◾कैलाश विजयवर्गीय बोले- भाजपा के मंच पर ‘सिराज और जय श्री राम’ साथ में होते है ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च को विफल करने के लिए हरियाणा ने पंजाब के साथ लगी सीमा सील की ◾आज का राशिफल ( 26 नवंबर 2020 )◾‘निवार’ चक्रवात के समुद्र तट पर दस्तक देने की प्रक्रिया शुरू हुई : मौसम विभाग◾पिछली सरकारों पर निशाना साधते हुए PM मोदी ने कहा : देश ने अपनी क्षमताओं का इस्तेमाल नहीं किया ◾सौरव गांगुली समेत भारतीय खेलप्रेमियों ने दी माराडोना को श्रृद्धांजलि ◾राहुल ने डिएगो के निधन पर जताया शोक, कहा - 'जादूगर' माराडोना ने हमें दिखाया कि फुटबॉल क्यों खूबसूरत खेल है◾फुटबॉल के एक युग का अंत, नहीं रहे डिएगो माराडोना ◾यूपी की राह पर शिवराज सरकार - ‘लव जिहाद’ के दोषी को होगी 10 साल की सजा, लाएंगे विधेयक◾यूपी में योगी सरकार ने एस्मा लागू किया, अगले 6 माह तक नहीं होगी हड़ताल ◾लखनऊ विश्वविद्यालय : सामर्थ्य के इस्तेमाल का बेहतर उदाहरण है रायबरेली का रेल कोच फैक्ट्री- PM मोदी◾असंतुष्ट नेताओं से ममता बनर्जी की अपील : पार्टी को गलत मत समझिए, हम गलतियों को सुधारेंगे◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र ने कहा - लोन मोरेटोरियम को 2 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है

केंद्र और भारतीय रिजर्व बैंक ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया है कि ऋण पर अधिस्थगन यानी मोरेटोरियम अवधि 2 साल के लिए और बढ़ाई जा सकती है। केंद्र और आरबीआई ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के हवाले से बताया कि हम कोरोना संकटग्रस्त क्षेत्रों की पहचान करने की कोशिश कर रहे हैं, जो कि महामारी के प्रभाव के अनुसार अलग-अलग हैं।

जब मेहता ने अदालत को बताया कि मोरेटोरियम के दौरान ईएमआई ब्याज पर अतिरिक्त ब्याज की स्थिति पर विचार किया जा सकता है, तो बेंच ने कहा कि ब्याज के पहलू को एक साथ नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने भी कहा कृपया इस महत्वपूर्ण मामले में निष्पक्ष रहें। 

मेहता ने तब केंद्र, आरबीआई और अन्य बैंकों के प्रतिनिधियों के साथ उचित समाधान के लिए बैठक करने का सुझाव दिया। अदालत ने कहा कि इस मामले में और देरी नहीं की जा सकती। कल के लिए सुनवाई की तारीख तय करते हुए, बेंच ने कहा कि यह एकमात्र ऐसा मामला होगा जिसकी कल सुनवाई होगी।

बुधवार को अदालत ने महामारी के समय घोषित अवधि के दौरान ऋण पर ब्याज के साथ-साथ ब्याज पर कोई कारगर कदम न उठाने के लिए कोई रुख नहीं अपनाने पर केंद्र की खिंचाई की। एक याचिका में जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्डी और एमआर शाह ने केंद्र से कहा, "आप अपना रुख स्पष्ट कीजिये , आप कुछ भी नहीं कह  रहे है । आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कदम उठाना आपकी जिम्मेदारी है। आपके पास पर्याप्त अधिकार हैं। आप सिर्फ आरबीआई पर निर्भर नहीं रह सकते।" 

शीर्ष अदालत ने कहा, "यह केवल व्यावसायिक हितों का ध्यान रखने का समय नहीं है, बल्कि आपको लोगों की दुर्दशा पर भी विचार करना चाहिए। इस तरह से आरबीआई का रुख दिखता है और आप बिल्कुल भी सकारात्मक रुख नहीं अपना रहे हैं। यहां दो मुद्दे हैं। क्या कोई ब्याज लिया जाना चाहिए और क्या ब्याज पर कोई ब्याज मोरेटोरियम अवधि के दौरान चार्ज किया जाना चाहिए," 

शीर्ष अदालत ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता द्वारा जवाब दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय मांगने के बाद सरकार को समय दिया। मेहता ने कहा, " हम आरबीआई के साथ समन्वय में काम कर रहे हैं।"

Share Market : सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 400 अंक चढ़ा, निफ्टी 11,500 अंक के पार