BREAKING NEWS

बिकनी गर्ल को टिकट देने से कांग्रेस की आलोचना, हिंदू महासभा ने मॉडल की उम्मीदवारी को बताया अपमान ◾तमिलनाडु में अब हर रविवार को रहेगा संपूर्ण लॉकडाउन, 31 जनवरी तक बढ़ाई गईं पाबंदियां◾बाहरी नेताओं के SP में शामिल होने से कोई मनमुटाव नहीं, नंदा का दावा- कुशल रणनीति से शांत हुआ असंतोष ◾मुस्लिम विरोधी बयानबाजी से भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला, जयंत चौधरी ने सरकार पर लगाया आरोप ◾UP विधानसभा चुनाव: BJP प्रचार अभियान में इन शहरों को दे रही तवज्जों, हिंदुत्व के एजेंडे पर दिखाई दे रहा फोकस◾दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों का कोरोना के प्रसार पर हुआ असर, अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या स्थिर : जैन ◾अनुराग ठाकुर का सपा पर तंज, बोले- समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल◾क्या है BJP की सबसे बड़ी कमियां? जनता ने दिया जवाब, राहुल बोले- नफरत की राजनीति बहुत हानिकारक ◾खुद PM मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का सर्टिफिकेटः अरविंद केजरीवाल◾UP : कोरोना की स्थिति नियंत्रित,CM योगी ने लोगों से की अपील- भीड़ में जाने से बचें और सावधानी बरतें◾देशव्यापी टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा हुआ, पीएम मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर दी बधाई ◾Lata Mangeshkar Health Update: जानें अब कैसी है भारत की कोयल की तबीयत, डॉक्टर ने दिया अपडेट ◾यूपी के चुनावी दंगल में AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, सभी मुस्लिम चेहरे को तरजीह, देखें लिस्ट◾गोवा में AAP को बहुमत नहीं मिला तो पार्टी गैर-भाजपा के साथ गठबंधन बनाने के बारे में सोचेगी : CM केजरीवाल◾UP चुनाव की टक्कर में OBC का चक्कर, जानें किसके सिर पर सजेगा जीत का ताज और किसे मिलेगी मात ◾योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने ज्वाइन की साइकिल, कुछ दिन पहले ही छोड़ा था बीजेपी का साथ ◾टीकाकरण अभियान का एक साल पूरा, नड्डा बोले- असंभव कार्य को संभव किया और दुनिया ने देश की सराहना की ◾पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले में की जा रही राजनीति सही नहीं : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा◾राजस्थान: कोरोना की बढ़ती रफ्तार से सरकार चिंतित, मंत्री बोले- लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन ◾टिकट न मिलने से नाखुश SP कार्यकर्ता ने की आत्मदाह की कोशिश, प्रदेश मुख्यालय के बाहर मची खलबली ◾

EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन

सुप्रीम कोर्ट से फटकार लगने के बाद सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) आरक्षण के मानदंडों की समीक्षा के लिए 3 सदस्यीय समिति के गठन की घोषणा की। समिति में पूर्व वित्त सचिव अजय भूषण पांडे, सदस्य सचिव आईसीएसएसआर प्रो वीके मल्होत्रा और भारत सरकार के प्रधान आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल शामिल होंगे।

देश में अपनाए गए विभिन्न दृष्टिकोणों की जांच करेगी समिति 

समिति आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों की पहचान के लिए देश में अब तक अपनाए गए विभिन्न दृष्टिकोणों की जांच करेगी। यह अगले 3 सप्ताह में अपनी सिफारिशें केंद्र को भी भेजेगी। संयुक्त सचिव आरपी मीणा द्वारा हस्ताक्षरित मंत्रालय द्वारा जारी कार्यालय ज्ञापन में कहा गया है कि समिति का गठन आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के निर्धारण के मानदंडों पर फिर से विचार करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय को दी गई "प्रतिबद्धता के अनुसार" किया जा रहा है। 

पिछले हफ्ते केंद्र ने पुनः विचार को दी थी मंजूरी 

पिछले हफ्ते, सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि वह आरक्षण लाभ के लिए पात्र होने के लिए ईडब्ल्यूएस के लिए 8 लाख रुपये वार्षिक आय मानदंड पर फिर से विचार करेगी। एनईईटी उम्मीदवारों ने 29 जुलाई की अधिसूचना को चुनौती देने के बाद यह मुद्दा उठाया था, जिसमें ओबीसी के लिए 27 प्रतिशत कोटा और अखिल भारतीय कोटा श्रेणी के तहत ईडब्ल्यूएस के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की गई थी।

मामले में फैसला आने तक रोकी गयी थी NEET काउंसलिंग 

सरकार ने कोर्ट से कहा कि नीट की काउंसलिंग तब तक के लिए टाल दी जाएगी जब तक इस मामले पर फैसला नहीं हो जाता। पिछली सुनवाई में, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से सवाल किया था कि ईडब्ल्यूएस कोटा के लिए अधिकतम आय सीमा के रूप में 8 लाख रुपये का आंकड़ा कैसे आया।

सरकार ने पूर्व में ईडब्ल्यूएस के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण को आगे बढ़ाने के लिए 2010 की सिंहो आयोग की रिपोर्ट का हवाला दिया था। हालांकि, आयोग ने स्पष्ट रूप से ईडब्ल्यूएस के लिए कोटा की सिफारिश नहीं की थी, लेकिन कहा था कि उन्हें कल्याणकारी योजनाओं तक पहुंच मिलनी चाहिए।

Winter Session: लोकसभा में आज 'ओमिक्रॉन' पर हो सकती है चर्चा, सदन में कई बिल पेश होने की संभावना