BREAKING NEWS

भारत, फिलीपीन ने आतंकवाद से लड़ाई में सहयोग जारी रखने की प्रतिबद्धता जतायी ◾एनएससीएन (आईएम) ने मोदी पर जताया भरोसा◾पवार का दावा, इंदापुर सीट पर हर्षवर्धन को मनाने की कोशिश की ◾PM मोदी ने बॉलीवुड कलाकारों और फिल्म निर्माताओं से की मुलाकात◾18 राज्यों की 51 विधानसभा सीटों और दो लोकसभा सीटों पर 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग◾कांग्रेस ने बीजेपी पर साधा निशाना - UP में 'जगंल राज', तिवारी की हत्या के मामले में हो कार्रवाई◾मोदी लोगों को बताएं, किसने पाकिस्तान को दो भागों में बांटा : कांग्रेस◾हरियाणा चुनाव के मद्देनजर दिल्ली में सुरक्षा चुस्त ◾महाराष्ट्र, हरियाणा में फीका रहा कांग्रेस का चुनाव प्रचार ◾कांग्रेस की गलत नीतियों ने देश को कर दिया बर्बाद : PM मोदी◾हरियाणा ,महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव के लिए थमा चुनाव प्रचार, 21 अक्टूबर को होगा मतदान , मतगणना 24 अक्टूबर को◾हरियाणा चुनाव 2019 : गोपाल कांडा के भाई के समर्थन में उतरीं सपना चौधरी, भाजपा नाराज◾सीतारमण बोली- सुस्ती के प्रभाव को कम करने के लिए सम्मलित प्रयास हो ◾TOP 20 NEWS 19 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रेवाड़ी में बोले मोदी- कांग्रेस 1964 में वादा करने के बावजूद अनुच्छेद 370 समाप्त करने में नाकाम रही◾कमलेश तिवारी हत्याकांड: CM योगी बोले- इस मामले में शामिल आरोपियों को नहीं छोड़ेंगे◾प्रधानमंत्री जनता से बोलें कि कांग्रेस सरकार ने पाकिस्तान के दो टुकड़े किए : कपिल सिब्बल◾अमित शाह की राहुल को चुनौती, बोले- घोषणा करें कि सत्ता में वापसी के बाद अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को करेंगे लागू◾हरियाणा चुनाव: PM मोदी बोले- कांग्रेस ने अपनी गलत नीतियों से देश को किया बर्बाद ◾प्रियंका का तंज- भाजपा के मंत्रियों का काम अर्थव्यवस्था सुधारना है, 'कॉमेडी सर्कस' चलाना नहीं◾

देश

Chandrayaan-2: क्या विक्रम नियंत्रण खोने के बाद चंद्रमा पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया?

क्या भारत का पहला मून लैंडर विक्रम चंद्रमा के सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया, और इसके कारण चंद्रयान-2 ऑर्बिटर से उसका संपर्क टूट गया? शनिवार तड़के लगभग 1.38 बजे जब 30 किलोमीटर की ऊंचाई से 1,680 मीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से 1,471 किलोग्राम का विक्रम चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ना शुरू किया, तब सबकुछ ठीक था। 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने संपर्क टूटने की घोषणा करते हुए कहा कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी पहले तक लैंडर का प्रदर्शन योजना के अनुरूप था। उन्होंने कहा कि उसके बाद उसका संपर्क टूट गया। 

इसरो ने एक आधिकारिक बयान में कहा, "यह मिशन कंट्रोल सेंटर है। विक्रम लैंडर योजना अनुरूप उतर रहा था और गंतव्य से 2.1 किलोमीटर पहले तक उसका प्रदर्शन सामान्य था। उसके बाद लैंडर का संपर्क जमीन पर स्थित केंद्र से टूट गया। डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है।"

इसरो के टेलीमेट्री, ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क केंद्र के स्क्रीन पर देखा गया कि विक्रम अपने निर्धारित पथ से थोड़ा हट गया और उसके बाद संपर्क टूट गया। लैंडर बड़े ही आराम से नीचे उतर रहा था, और इसरो के अधिकारी नियमित अंतराल पर खुशी जाहिर कर रहे थे। लैंडर ने सफलतापूर्वक अपना रफ ब्रेक्रिंग चरण को पूरा किया और यह अच्छी गति से सतह की ओर बढ़ रहा था। 

आखिर अंतिम क्षण में ऐसा क्या हो गया? इसरो के एक वैज्ञानिक के अनुसार, लैंडर का नियंत्रण उस समय समाप्त हो गया होगा, जब नीचे उतरते समय उसके थ्रस्टर्स को बंद किया गया होगा और वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया होगा, जिसके कारण संपर्क टूट गया। हालांकि 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन का सबकुछ समाप्त नहीं हुआ है। 

इसरो के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने के अनुरोध के साथ बताया, "मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत -लैंडर विक्रम और प्रज्ञान रोवर- नुकसान हुआ है, जबकि बाकी 95 प्रतिशत -चंद्रयान-2 ऑर्बिटर- अभी भी चंद्रमा का सफलतापूर्वक चक्कर काट रहा है।"

एक साल मिशन अवधि वाला ऑर्बिटर चंद्रमा की कई तस्वीरें लेकर इसरो को भेज सकता है। अधिकारी ने कहा कि ऑर्बिटर लैंडर की तस्वीरें भी लेकर भेज सकता है, जिससे उसकी स्थिति के बारे में पता चल सकता है। चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान में तीन खंड हैं -ऑर्बिटर (2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड), विक्रम (1,471 किलोग्राम, चार पेलोट) और प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड)। 

विक्रम दो सितंबर को आर्बिटर से अलग हो गया था। चंद्रयान-2 को इसके पहले 22 जुलाई को भारत के हेवी रॉकेट जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल-मार्क 3 (जीएसएलवी एमके 3) के जरिए अंतरिक्ष में लांच किया गया था।