BREAKING NEWS

राजस्थान: सियासी उठापटक के बीच कल सुबह दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे सचिन पायलट ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2.67 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,741 नए केस◾कानपुर शूटआउट : गिरफ्तार शशिकांत पांडेय का खुलासा, विकास के कहने पर ही हुई 8 पुलिसकर्मियों की हत्या◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में कोरोना के 50 फीसदी मामले महाराष्ट्र और तमिलनाडु से◾बिहार में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए 16 से 31 जुलाई तक लगाया गया लॉकडाउन ◾राज्यपाल से मुलाकात के बाद बोले गहलोत- कुछ लोग 'आ बैल मुझे मार' रवैये के साथ कर रहे थे काम◾सचिन पायलट की अध्यक्ष पद से बर्खास्ती के बाद गोविंद सिंह डोटासरा को सौंपा गया कार्यभार◾कांग्रेस के एक्शन के बाद सचिन पायलट ने किया ट्वीट- सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं ◾पूर्वी लद्दाख विवाद : भारत और चीन ने पैंगोग झील, देपसांग से सैनिकों को हटाने पर की वार्ता ◾कांग्रेस का सचिन पायलट पर बड़ा एक्शन, प्रदेश अध्यक्ष पद और उपमुख्यमंत्री के पद से किया बर्खास्त◾राजस्थान के मौजूदा संकट के लिए उमा भारती ने कांग्रेस और राहुल को बताया जिम्मेदार◾केजरीवाल ने प्लाज्मा बैंक का किया उद्धाटन, बोले- दिल्ली में कोरोना पीड़ित जरूरतमंदों को प्लाज्मा मिला ◾CBSE 10वीं का रिजल्ट कल होगा जारी, HRD मंत्री पोखरियाल ने की घोषणा ◾अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर पर चीन के दावे को किया खारिज, कही ये बात◾पायलट का गहलोत के खिलाफ बगावती सुर बरकरार, मनाने में जुटा कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व◾कानपुर मुठभेड़ : एक और आरोपी शशिकांत गिरफ्तार, पुलिस को विकास दुबे के घर पर मिली AK-47◾भगवान राम को नेपाली बताने वाले बयान पर भड़के सिंघवी, बोले-ओली का बिगड़ गया है मानसिक संतुलन◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 9 लाख के पार, अब तक 24 हजार के करीब लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना का कहर, वैश्विक महामारी से संक्रमितों की संख्या 1 करोड़ 30 लाख से अधिक हुई ◾राहुल ने किया ट्वीट- इस हफ्ते हमारे देश में आंकड़ा 10,00,000 पार कर जाएगा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना

भारत और चीनी सेनाओं के बीच 25 दिन से भी ज्यादा समय से जारी गतिरोध के बीच दोनों देश पूर्वी लद्दाख के विवादित क्षेत्र के पास स्थित अपने सैन्य अड्डों पर भारी उपकरण और तोप व युद्धक वाहनों समेत हथियार प्रणालियों को पहुंचा रहे हैं। सैन्य सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। दोनों सेनाओं द्वारा क्षेत्र में अपनी युद्धक क्षमताओं को बढ़ाने की यह कवायद ऐसे वक्त हो रही है जब दोनों देशों द्वारा सैन्य व कूटनीतिक स्तर पर बातचीत के जरिये इस मुद्दे को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है। 

सूत्रों ने कहा कि चीनी सेना पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अपने पीछे के सैन्य अड्डों पर क्रमिक रूप से तोपों, पैदल सेना के युद्धक वाहनों और भारी सैन्य उपकरणों का भंडारण बढ़ा रही है। भारतीय सेना भी चीनी सेना की बराबरी के लिए इस क्षेत्र में अतिरिक्त जवानों के साथ ही उपकरणों और तोप जैसे हथियारों को वहां पहुंचा रही है। उन्होंने कहा कि जबतक पैंगोंग त्सो, गलवान घाटी और कई अन्य इलाकों में यथा स्थिति बरकरार नहीं होती तब तक भारत पीछे नहीं हटेगा। भारतीय वायुसेना विवादित क्षेत्र में कड़ी निगरानी कर रही है। 

काफी संख्या में चीनी सैनिक इस महीने के शुरू में वस्तुत: सीमा पार कर भारतीय क्षेत्र में घुस आए थे और तबसे पैंगोंग त्सो और गलवान घाटी में बने हुए हैं। भारतीय सेना ने चीनी जवानों के इस अतिक्रमण का तीव्र विरोध किया और उनके तत्काल वहां से वापस लौटने तथा शांति व यथास्थिति बहाल करने की मांग की। चीनी सेना ने डेमचोक और दौलतबेग ओल्डी में भी अपनी मौजूदगी बढ़ाई थी। ये दोनों संवेदनशील क्षेत्र हैं और पूर्व में यहां दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प हो चुकी है। 

माना जा रहा है कि चीन ने पैंगोंग त्सो और गलवान घाटी में करीब 2500 सैनिकों को तैनात किया है और धीरे-धीरे अस्थायी ढांचा और हथियारों को बढ़ा रहा है। हालांकि संख्या को लेकर कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं है। सूत्रों ने कहा कि उपग्रह से ली गई तस्वीरों में नजर आ रहा है कि चीन ने मानक सीमा के अपनी तरफ रक्षा आधारभूत ढांचे में तेजी से इजाफा किया है जिसमें पैंगोंग त्सो इलाके से करीब 180 किलोमीटर दूर एक सैन्य हवाईअड्डे का निर्माण भी शामिल है। 

भारतीय सेना के आकलन के मुताबिक इसका उद्देश्य भारत पर दबाव बनाना है। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “हमें चीनी हथकंडों के बारे में अच्छे से पता है। भारतीय सेना अपने रुख पर अडिग है और हम इलाके में यथास्थिति के बहाल होने से कम पर राजी नहीं होने वाले।” 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि चीन के साथ विवाद को सुलझाने के लिये सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर द्विपक्षीय बातचीत चल रही है। भारत द्वारा पैंगोंग त्सो झील के पास के इलाके में सड़क निर्माण और गलवान घाटी में डरबुक शायोक-दौलत बेग ओल्डी मार्ग का चीन द्वारा विरोध गतिरोध का मुख्य कारण है। 

सूत्रों ने कहा कि चीन भी एक सड़क का रनर्माण कर रहा है जिस पर भारत को आपत्ति है।अतिरिक्त जवानों, वाहनों और तोपों को भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में अपनी मौजूदगी बढ़ाने के लिये भेजा है, जहां चीनी सैनिक आक्रामक रुख अपना रहे हैं। 

भारतीय व चीनी सैनिकों के बीच टकराव के वायरल वीडियो को सेना ने बताया फर्ज़ी, कहा - कोई हिंसा नहीं हुई