BREAKING NEWS

कांग्रेस का तीखा वार : श्रम सुधार संबंधी संहिताएं मजूदर विरोधी, सरकार के ‘डीएनए में’ है निर्णय थोपना◾ड्रग केस : अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और सारा अली खान पर एनसीबी ने दागे तीखे सवाल , पूछताछ जारी◾पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर राजौरी में LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया ◾पीएम मोदी UNGA को आज करेंगे संबोधित, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾मोदी सरकार द्वारा किसानों पर किए जा रहे अत्याचार के खिलाफ साथ मिलकर उठाएं आवाज : राहुल गांधी ◾देश में एक दिन की वृद्धि के बाद फिर घटे कोरोना के एक्टिव केस, संक्रमितों का आंकड़ा 59 लाख के पार ◾बॉलीवुड से जुड़े ड्रग केस की जांच के लिए तैयार NCB, दीपिका पादुकोण एजेंसी के सामने हुईं पेश ◾दुनियाभर में कोरोना केस 3 करोड़ 24 लाख के पार, 9 लाख 87 हजार से अधिक की मौत◾पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, भारत ने दिया करारा जवाब ◾ अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर जानिये उनसे जुड़ी ख़ास बातें ◾पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर बोले राहुल- उनके जैसे गंभीर प्रधानमंत्री की कमी महसूस कर रहा है देश ◾ अमेरिका में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 70 लाख के पार ◾संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोले पोप फ्रांसिस- कोरोना महामारी बदलाव के लिए अवसर है ◾आज का राशिफल (26 सितम्बर 2020)◾बिहार चुनाव में NDA को जीत का अनुमान : सर्वे ◾बिहार विधानसभा चुनाव में NDA ने सेट किया तीन चौथाई बहुमत का टारगेट◾UN में भाषण के दौरान पाक PM इमरान खान ने RSS और कश्मीर का मुद्दा उठाया, भारत ने किया बायकॉट◾CSK vs DC (IPL 2020) : दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को 44 रन से हराया◾UP में विधानसभा उपचुनाव के लिये राजनीतिक दलों ने कसी कमर◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट, संक्रमितों का आंकड़ा 13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 17,794 नए केस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नागरिकता संशोधन विधेयक : असम में विरोध प्रदर्शन शुरू

असम में शुक्रवार को जगह जगह पर एक छात्र संगठन के प्रदर्शन के साथ विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) विधेयक के खिलाफ विरोध शुरू हो गया जबकि ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) और एक प्रभावशाली नागरिक इकाई ने कहा कि इस कानून को राज्य के लोग किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेंगे। 

संसद के शीतकालीन सत्र से पहले असोम जातियाबादी युबा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) ने जगह-जगह रैलियां निकाली और धरना दिया। परिषद इस साल के प्रारंभ में भी इस विधेयक का विरोध करने में सबसे आगे थी। ऐसी संभावना है कि यह विधेयक शीतकालीन सत्र में पेश किया जाएगा। 

नागरिक संशोधन विधेयक में बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के उन हिंदुओं, जैनियों, ईसाइयों, सिखों, बौद्धों और पारसियों को भारतीय नागरिकता देने का प्रस्ताव है जिन्होंने भारत में छह साल गुजार दिये हैं लेकिन उनके पास कोई दस्तावेज नहीं है। 

इस विधेयक को आठ जनवरी को लोकसभा ने पारित कर दिया था लेकिन यह तब राज्यसभा में पेश नहीं हो पाया था। 

एजेवाईसीपी प्रदर्शनकारियों ने नागरिकता विधेयक में संशोधन कर कथित रूप से अवैध हिंदू प्रवासियों को बसाने और असम विरोधी नीति अपनाने को लेकर केंद्र और असम की भाजपा नीत सरकारों के खिलाफ नारे लगाये। 

एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘‘ असम के लोग इस विधेयक को स्वीकार नहीं कर सकते हैं क्योंकि यह अन्य देशों के लोगों को यहां बसाकर मूल लोगों और उनकी भाषा को विलुप्तप्राय बना देगा।’’ 

आरटीआई कार्यकर्ता और कृषिक मुक्ति संग्राम परिषद के नेता अखिल गोगोई ने कहा कि असम की जनसंख्या बढ़ जाएगी क्योंकि 1.9 करोड़ बांग्लादेशी इस कानून के प्रभाव में आने से राज्य में आ जायेंगे। 

ऑल असम स्टूडेंट यूनियन के मुख्य सलाहकार डॉ. समुज्ज्वल भट्टाचार्य ने कहा, ‘‘ हम इस विधेयक को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे और उसके खिलाफ विरोध जारी रखेंगे।..’’ 

उन्होंने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल पर राज्य के लोगों के साथ खड़ा होने तथा अपने राष्ट्रीय नेताओं के सामने आवाज उठाने का साहस नहीं जुटा पाने का आरोप लगाया। 

विपक्षी कांग्रेस नेता देवब्रत सैकिया ने कहा कि लोगों को इसका विरोध करना चाहिए क्योंकि यह 1985 की असम संधि के विरूद्ध है। 

हालांकि वित्त मंत्री डॉ. हिमंत विश्व शर्मा ने एक कार्यक्रम के मौके पर कहा कि यह विधेयक शीतकालीन सत्र के पहले दो दिन के दौरान पेश किया जाएगा और इससे मूल लोगों के हितों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। 

इस साल सितंबर में केंद्रीय गृहमंत्री ने गुवाहाटी में पूर्वोत्तर लोकतांत्रिक गठबंधन की एक बैठक में कहा था कि इस विधेयक के पेश होने से भी इस क्षेत्र के सारे कानूनों पर कोई आंच नहीं आएगी।