BREAKING NEWS

पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾कोरोना संकट के बीच देश की पहली एमआरएनए आधारित वैक्सीन, खास तौर पर Omicron के लिए कारगर◾CM चन्नी के भाई को टिकट न देने से सिद्ध होता है कि कांग्रेस ने दलित वोटों के लिए उनका इस्तेमाल किया : राघव चड्ढा◾उत्तराखंड : हरीश रावत बोले-हरक सिंह मांग लें माफी तो कांग्रेस में उनका स्वागत◾इस साल 75वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर 75 एयरक्राफ्ट उड़ान भरेंगे,आसमान से दिखेगी भारत की ताकत◾

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा- अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बहाल करने को लेकर जुलाई में करेंगे फैसला

देशभर में कोरोना का कहर जारी है। लॉकडाउन के चलते पिछले करीब 2-3 महीनों से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें पूरी तरह से बंद है। इस बीच, नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि यदि कोरोना वायरस संक्रमण ‘‘अनुमान के अनुसार फैलता’’है और पूरा विमानन पारिस्थितिकी तंत्र एवं राज्य सरकारें तैयार हो जाती हैं, तो अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन बहाल करने के संबंध में भारत जुलाई में फैसला करेगा।

पुरी ने कहा, ‘‘मुझसे अकसर पूछा जाता है कि आप अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन कब शुरू सकते हैं? यदि आप मुझ पर फैसला छोड़ते हैं, यदि पारिस्थितिकी तंत्र काम करता है और यदि वायरस संक्रमण अनुमान के अनुसार ही फैलता है, तो मुझे लगता है कि आगामी महीने में हमें निर्णय लेना आरंभ करना चाहिए, लेकिन ये फैसले भारतीय नागर विमानन मंत्रालय नहीं करेगा।’’ उन्होंने जीएमआर समूह द्वारा आयोजित ‘रिपोजिंग द फेथ इन फ्लाइंग’ विषय पर आयोजित वेबिनार में कहा, ‘‘ये निर्णय सरकार घरेलू हालात के आधार पर लेंगी।’’

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण दो महीने तक निलंबित रहने के बाद घरेलू यात्री उड़ान पांच मई से आरंभ हो गई थीं, लेकिन अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें अब भी निलंबित हैं। मंत्री ने कहा, ‘‘हमने हाल में देखा है कि दक्षिण भारत में एक बड़े राज्य ने लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद फिर से इसे लागू करने के आदेश दिए है। मैंने अन्य देशों में भी यही होता देखा है। हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि ऐसा नहीं करना पड़े।’’ तमिलनाडु ने चेन्नई में संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्दनेजर 19 जून से 12 दिन के लॉकडाउन की हाल में घोषणा की है।

पुरी ने कहा कि केंद्र सरकार यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रही है कि ‘‘हम पहले घरेलू स्तर पर यात्रा के माध्यमों में बढ़ोतरी करें और इसके बाद हम व्यवस्थित तरीके से अंतरराष्ट्रीय यात्रा की अनुमति देने के मामले में इस प्रकार आगे बढ़ें, जिससे जीवन को खतरा न हो और जिसकी आलोचना न हो पाए’’। उन्होंने कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को आने की अनुमति देने से पहले हमारे राज्य इसके लिए तैयार होने चाहिए। हम उनसे निरंतर वार्ता कर रहे हैं।’’ विमानन मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय यात्रा बहाल करने का फैसला आगामी महीनों में, या उससे भी पहले किया जा सकता है। यह निर्णय तब लिया जाएगा, जब घरेलू हवाई यातायात कोविड-19 से पहले की क्षमता के 50 से 55 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा और अन्य राज्य अधिक यात्रियों के आगमन के लिए तैयार होंगे।

उन्होंने अमेरिका से आने वाली उड़ानों का उदाहरण देते हुए कहा कि वे दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू जैसे महानगरों के हवाईअड्डों पर उतरती हैं और ये बड़े शहर विदेशों से बड़ी संख्या में आने वाले लोगों के लिए आवश्यक प्रबंध करने की स्थिति में संभवत: नहीं हैं, क्योंकि ‘‘लोगों को अनिवार्य रूप से पृथक-वास में रखने की क्षमता संभवत: नहीं है’’। पुरी ने दोहराया कि अंतरराष्ट्रीय यात्रा की बहाली अन्य देशों द्वारा प्रवेश प्रतिबंधों पर ढील दिए जाने पर भी निर्भर करेगी। भारत ने छह मई को ‘वंदे भारत’ अभियान आरंभ किया था, जिसके तहत विदेशों में फंसे देशवासियों को वापस लाया गया है। इस अभियान के तहत 52 देशों से 90,000 से अधिक भारतीयों को करीब 480 उड़ानों के जरिए स्वदेश लाया गया है।