BREAKING NEWS

लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾हथिनी की मौत पर विवादित बयान देने पर केरल पुलिस ने मेनका गांधी के खिलाफ दर्ज की FIR◾दिल्ली हिंसा: पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य और JNU स्टूडेंट के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा : मुंह में गहरे घावों के कारण दो हफ्ते भूखी थी गर्भवती हथिनी, हुई दर्दनाक मौत◾केंद्रीय गृह मंत्रालय की मीडिया विंग में भारी फेरबदल, नितिन वाकणकर नये प्रवक्ता नियुक्त किये गए ◾भाजपा नेता और टिक टोक स्टार सोनाली फोगाट ने हिसार मंडी समिति के सचिव को पीटा , वीडियो वायरल ◾सैन्य बातचीत से पहले बोला चीन-भारत के साथ सीमा विवाद को उचित ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध◾PM मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' के ऐलान को कपिल सिब्बल ने बताया 'जुमला'◾दिल्ली के पीतमपुरा में एक मेड से 20 लोगों को हुआ कोरोना, 750 से ज्यादा लोग हुए सेल्फ क्वारंटाइन◾कोरोना संकट पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, नई योजनाओं पर मार्च 2021 तक लगी रोक◾गुजरात में कांग्रेस को तीसरा झटका, एक और विधायक ने दिया इस्तीफा◾दिल्ली मेट्रो में हुई कोरोना की एंट्री, 20 कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि◾'विश्व पर्यावरण दिवस' पर PM मोदी का खास सन्देश, कहा- जैव विविधता को संरक्षित रखने का संकल्प दोहराएं◾उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में ट्रक और स्कॉर्पियो की भीषण टक्कर, 9 लोगों की मौत◾World Corona : दुनिया में पॉजिटिव मामलों की संख्या 66 लाख के पार, अब तक करीब 4 लाख लोगों की मौत ◾कोविड-19 : देश में 10 हजार के करीब नए मरीजों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 27 हजार के करीब ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

स्वच्छ भारत मिशन में अब कचरा प्रबंधन पर होगा जोर

भारत में स्वच्छता के स्तर को बढ़ाने और देश को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) बनाने के उद्देश्य से सरकार ने ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण योजनाओं को अपनाने का संकेत दिया है। कचरा प्रबंधन के साथ पीने के पानी के लिए बड़ी धनराशि आवंटित होने की भी उम्मीद है। 

वित्त मंत्रालय ने स्वच्छ भारत मिशन के आवंटन में कमी की है क्योंकि यह मिशन दो अक्टूबर, 2018 तक अपने अधिकतर लक्ष्यों को पूरा करते हुए लगभग समाप्त हो चुका है। मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि यह मिशन, जिसने बॉलीवुड को स्वच्छता के विषय पर एक फिल्म बनाने के लिए प्रेरित किया, अब एक क्लस्टर सिस्टम के तहत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर काम करेगा। 

यह मिशन 2014 में शुरू किया गया था। भारत सरकार द्वारा चलाए जाने वाले इस अभियान का उद्देश्य देश को दो अक्टूबर, 2019 तक खुले में शौच मुक्त बनाना है। मिशन के तहत ग्रामीण भारत में 1.96 लाख करोड़ रुपये की लागत से कुल नौ करोड़ शौचालयों का निर्माण करना है। 

व्यय सचिव गिरीश चंद्र मुर्मू ने एक साक्षात्कार में आईएएनएस को बताया, 'स्वच्छ भारत मिशन अब लगभग समाप्त हो रहा है। यह अंतिम चरण में पहुंच गया है और केवल 10 प्रतिशत काम बाकी है। बैक-एंड काम किया जाना है। अब ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (क्लस्टर) पर काम किया जाएगा।'

 

2019-20 के लिए स्वच्छ भारत अभियान के आवंटन में 25 फीसदी की गिरावट आई है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसके विस्तार के रूप में 100 फीसदी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्राप्त करने के लिए मिशन के विस्तार के प्रस्ताव की घोषणा की थी। 

चालू वर्ष में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के लिए आवंटित 12,644 करोड़ रुपये का बजट 2018-19 के संशोधित अनुमान से लगभग 4,334 करोड़ रुपये कम है। 

सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कहा था कि अब 'स्वच्छ भारत' का विस्तार किया जाएगा। उन्होंने कहा था, 'मैंने अब स्वच्छ भारत मिशन का विस्तार करने का प्रस्ताव किया है ताकि हर गांव में स्थायी ठोस कचरा प्रबंधन किया जा सके।' 

स्वच्छ भारत अभियान ने शानदार सफलता हासिल की है क्योंकि 2 अक्टूबर 2014 से 9.6 करोड़ शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है। उन्होंने कहा, '5.6 लाख से अधिक गांव ओडीएफ हो गए हैं। हमें इस सफलता को आगे बढ़ाना होगा। हमें न केवल लोगों में देखे जाने वाले व्यवहार परिवर्तन को बनाए रखना चाहिए, बल्कि कचरे को ऊर्जा में बदलने के लिए उपलब्ध नवीनतम तकनीकों का भी उपयोग करना चाहिए।' 

उन्होंने कहा, 'मैं हर गांव में सतत ठोस कचरा प्रबंधन के लिए स्वच्छ भारत मिशन का विस्तार करने का प्रस्ताव करती हूं।'

 

आलोचकों और विशेषज्ञों ने बार-बार ध्यान दिलाया है कि स्वच्छ भारत मिशन को ध्यान में रखते हुए एक महत्वपूर्ण लक्ष्य रखा गया है। लेकिन सवाल यह है कि कचरे के साथ क्या करना है? इसका पर्याप्त उत्तर कभी नहीं दिया गया। अब तक, भारत काफी हद तक अपशिष्ट प्रबंधन के लिए अनौपचारिक क्षेत्र पर निर्भर रहा है। इस तरह से अपशिष्ट प्रबंधन की योजना सिरे चढ़ती है तो इस दिशा में बड़ी व दूरगामी सफलता पाई जा सकती है।