BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में SP के लिए प्रचार करेंगी ममता बनर्जी◾भाजपा का दामन थाम सकती हैं मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव - सूत्र◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : राजनाथ ने ममता को बंगाल की झांकी न होने की बताई ये वजह !◾पंजाब : कांग्रेस के 4 नेताओं ने मंत्री को पार्टी से निकालने की मांग की, सोनिया गांधी को लिखा पत्र ◾विधानसभा चुनावों में डिजिटल माध्यम से रैलियां करेगी BJP◾केरल : कोविड के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पाबंदियों पर बृहस्पतिवार को फैसला लेगी राज्य सरकार ◾कांग्रेस ने PM मोदी पर साधा निशाना - प्रधानमंत्री और भाजपा ने इकलौते दलित मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रतिशोध की कार्रवाई की◾UAE के विदेश मंत्री ने जयशंकर से की बात, आतंकी हमले में भारतीयों की मौत पर दुख जताया ◾ मुंबई : INS रणवीर में हुआ ब्लास्ट, तीन जवानों की मौत, कई घायल ◾यूपी : प्रियंका गांधी ने महिला कार्यकर्ताओं से की अपील, जहां कांग्रेस की महिला प्रत्याशी वहां करें समर्थन ◾ दिल्ली में मिले IED की हर कोण से जांच कर रही है पुलिस, अधिकारी ने दी जानकारी ◾दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 11,684 नए मामले आए सामने, 38 की हुई मौत ◾आजम खान जेल में रहकर लड़ेंगे यूपी विधानसभा चुनाव, रामपुर से सपा के उम्मीदवार घोषित◾पंजाब : ED ने मारा सीएम चन्नी के परिजनों पर छापा, कांग्रेस बोली ईडी है भाजपा का चुनाव विभाग◾BJP ने यूपी चुनाव के लिए उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी , इन नामों पर लगी मुहर◾बसपा ने भी किया 10 छोटे दलों से गठबंधन का ऐलान, यूपी चुनाव से पहले BSP ने चल दिया बड़ा दांव◾उत्तराखंड: दिल्ली में कल होगी BJP की चुनाव समिति की अहम बैठक, उम्मीदवारों के नाम की सूची पर होगा मंथन ◾देवास-एंट्रिक्स डील को लेकर वित्त मंत्री ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- यह धोखाधड़ी का सौदा था◾सुल्ली डील्स और बुली बाई के बाद क्लबहाउस ऐप बना रही महिलाओं को निशाना, DCW ने भेजा पुलिस को नोटिस ◾हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने वालों को प्रोत्साहित करने की स्पर्धा है कांग्रेस, SP में: BJP◾

उच्च न्यायालयों को जल्द मिलेंगे मुख्य न्यायाधीश, SC कॉलेजियम ने की 8 नामों की सिफारिश

देश के विभिन्न उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों के पद पर नियुक्ति के लिए सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने केंद्र से आठ नामों की सिफारिश की है। इन आठ नामों में कलकत्ता हाई कोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजेश बिंदल भी शामिल हैं, जिन्हें इलाहाबाद हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में स्थानांतरित करने की सिफारिश की गई है।

सूत्रों ने कहा कि प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण की अध्यक्षता वाले तीन सदस्यीय कॉलेजियम ने यह भी सिफारिश की है कि त्रिपुरा हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति अकील कुरैशी को राजस्थान  हाई कोर्ट में स्थानांतरित किया जाए। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद के अलावा, कलकत्ता, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, मेघालय, गुजरात और मध्य प्रदेश के उच्च उच्च न्यायालयों को नए मुख्य न्यायाधीश मिलेंगे।

प्रधान न्यायाधीश के अलावा, उच्च न्यायालयों में नियुक्ति से संबंधित तीन सदस्यीय कॉलेजियम में न्यायमूर्ति यू यू ललित और न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर शामिल हैं। सूत्रों ने बताया कि कॉलेजियम ने पांच मुख्य न्यायाधीशों और उच्च न्यायालयों के 28 अन्य न्यायाधीशों को दूसरे उच्च न्यायालयों में स्थानांतरित करने की सिफारिश करने का फैसला किया है।

एक सूत्र ने बताया, ‘‘'उच्च न्यायालयों में बड़े फेरबदल और मुख्य न्यायाधीशों की नियुक्ति पर फैसला सघन बैठकों के बाद हुआ है।’’ साथ ही कहा कि इस संबंध में गुरुवार और शुक्रवार को बैठकें हुईं। सूत्र ने कहा कि न्यायाधीशों के नाम और ब्योरे के संबंध में कॉलेजियम के फैसले अभी तक सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड नहीं किए गए हैं।

सूत्रों ने कहा कि न्यायमूर्ति कुरैशी के अलावा, कॉलेजियम ने आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अरूप कुमार गोस्वामी को छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय, मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मोहम्मद रफीक को हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय में स्थानांतरित करने की सिफारिश की है। 

उन्होंने कहा कि कॉलेजियम ने राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति इंद्रजीत महंती को त्रिपुरा उच्च न्यायालय और मेघालय उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति विश्वनाथ सोमद्दर को सिक्किम उच्च न्यायालय में स्थानांतरित करने की सिफारिश की है।

कॉलेजियम ने न्यायमूर्ति बिंदल के अलावा न्यायमूर्ति प्रकाश श्रीवास्तव, प्रशांत कुमार मिश्रा, रितु राज अवस्थी, सतीश चंद्र शर्मा, रंजीत वी मोरे, अरविंद कुमार और आर वी मलीमथ को अलग-अलग उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त करने की सिफारिश की है। 

उन्होंने कहा कि न्यायमूर्ति प्रकाश श्रीवास्तव, न्यायमूर्ति प्रशांत कुमार मिश्रा और न्यायमूर्ति रितु राज अवस्थी के नामों की सिफारिश क्रमश: कलकत्ता, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश के रूप में की गई है। इसी तरह, तेलंगाना, मेघालय, गुजरात और मध्य प्रदेश के उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों के रूप में नियुक्त करने के लिए न्यायमूर्ति सतीश चंद्र शर्मा, रंजीत वी मोरे, अरविंद कुमार और आर वी मलीमथ के नामों की सिफारिश की गई है।

देश भर के 12 उच्च न्यायालयों में न्यायाधीश के तौर पर नियुक्ति के लिए एक बार में 68 नामों की सिफारिश करने के ऐतिहासिक फैसले के बाद कॉलेजियम द्वारा ये सिफारिशें की गई हैं। हाल में कॉलेजियम ने कर्नाटक उच्च न्यायालय में स्थायी न्यायाधीशों के रूप में नियुक्ति के लिए केंद्र को 10 नामों की सिफारिश की थी।

हाल में बार काउंसिल ऑफ इंडिया के हाल के एक कार्यक्रम में प्रधान न्यायाधीश द्वारा दिए गए बयान के मद्देनजर ये सिफारिशें महत्वपूर्ण हैं कि उच्च न्यायपालिका में रिक्तियों के मुद्दे को ‘‘तत्काल आधार’’ पर भरने का प्रयास किया जा रहा है। शीर्ष अदालत में एक बार में नौ नियुक्तियों का जिक्र करते हुए न्यायमूर्ति रमण ने कहा था, ‘‘इसी तरह, अगर मैं गलत नहीं हूं, तो मेरे पदभार संभालने के बाद कॉलेजियम द्वारा विभिन्न उच्च न्यायालयों के लिए 82 नामों की सिफारिश की गई है।’’

देश के 25 उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों के कुल 1080 पद स्वीकृत हैं। इससे पहले 17 अगस्त को एक ऐतिहासिक फैसले में, प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय कॉलेजियम ने तीन महिलाओं सहित सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के रूप में पदोन्नति के लिए नौ नामों की सिफारिश की थी।