BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : सीएम शिंदे की जान को खतरा, बढाई गई सुरक्षा◾सियासत के धरती पुत्र मुलायम सिंह की बिगड़ी तबीयत, आईसीयू में शिफ्ट◾उद्धव गुट में टूट जारी, वर्ली के 3000 शिवसैनिकों ने थामा शिंदे गुट का दामन ◾फिर उबाल मार रहा हैं खालिस्तान मूवमेंट, बठिंडा में दीवार पर लिखे गए खालिस्तान समर्थक नारे◾पुलवामा में आतंकी हमला, एक पुलिस जवान शहीद, सशस्त्र बल का जवान घायल ◾बीजेपी ने नीतीश कुमार को दी सलाह, कहा - आपकी विदाई तय, बांध लें बोरिया-बिस्तर◾Congress President Election: कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव क्यों लड़ रहे हैं मल्लिकार्जुन खड़गे? बताया पूरा प्लान ◾खड़गे से खुले आसमान के नीचे बहस करने के लिए तैयार हूं - शशि थरूर ◾ महात्मा गांधी की विरासत को हथियाना आसान पदचिन्हों पर चलना मुश्किल : राहुल गांधी ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महात्मा गांधी, लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धांजलि अर्पित की◾इस बात पर गौर किया जाना चाहिए कि नए मुख्यमंत्री के नाम पर विधायकों में नाराजगी क्यों है : गहलोत◾पायलट को बीजेपी का खुला ऑफर, घर लक्ष्मी आए तो ठुकराए नहीं ◾राजस्थान में बढ़ा सियासी बवाल, अशोक गहलोत ने विधायकों की बगावत पर दिया बड़ा बयान◾राजद नेताओं पर जगदानंद सिंह ने लगाई पाबंदिया, तेजस्वी यादव पर टिप्पणी ना करने की मिली सलाह ◾ इयान तूफान के कहर से अमेरिका में हुई जनहानि पर पीएम मोदी ने जताई संवेदना ◾महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज अवधारणा से प्रेरित हैं स्वयंपूर्ण गोवा योजना : सीएम सावंत◾उत्तर प्रदेश: अखिलेश यादव पर राजभर ने कसा तंज, कहा - साढ़े चार साल खेलेंगे लूडो और चाहिए सत्ता◾ पीएम मोदी ने गांधी जयंती पर राजघाट पहुंचकर बापू को किया नमन, राहुल से लेकर इन नेताओं ने भी राष्ट्रपिता को किया याद ◾महाराष्ट्र: शिंदे सरकार का कर्मचारियों के लिए नया अध्यादेश जारी, अब हैलो या नमस्ते नहीं 'वंदे मातरम' बोलना होगा◾Gandhi Jayanti: संयुक्त राष्ट्र की सभा में 'प्रकट' हुए महात्मा गांधी, 6:50 मिनट तक दिया जोरदार भाषण◾

आतंकियों को ढेर करने वाले कमांडो का गांव वालों ने किया जोरदार स्वागत

कमांडो मुबारिक अली का आज राजस्थान के झुंझुनूं जिले में उसके पैतृक गांव में लोगों ने जोरदार स्वागत किया। आपको बता दे कि कमांडो मुबारिक अली ने जम्मू & कश्मीर में सीने पर गोली लगने के बावजूद 3 आंतकवादियों को ढेर किया था ।

इन दिनों मेडिकल रेस्ट पर चल रहे मुबारिक अली ने बताया कि 30 जुलाई को सुबह सात बजे उनकी टीम पुलवामा के दहाब क्षेत्र में सर्च अभियान पर थी और नदी के किनारे गांव में एक घर के पास हलचल हुई। वे कुछ समझ पाते इतने में ही सामने से कुछ लोग फायर करते हुए भागने लगे।

मुबारिक ने उन पर फायर किया। इस दौरान आतंकियों की गोली मुबारिक के दाहिने हाथ से निकल कर पार हो गई। एक गोली उनके सीने पर लगी।

उन्होंने बताया कि बुलेट प्रूफ जैकेट पहनी होने के कारण गोली सीने के पार नहीं हो सकी। घायल होने के बावजूद मुबारिक ने एक हाथ से फायर करते हुए तीन आतंकियों को मार गिराया। पीछे चल रहे साथी जवानों ने इसकी सूचना यूनिट को दी। सेना के हेलीकॉप्टर से कमांडो मुबारिक को श्रीनगर के अस्पताल लाया गया।

माता हाजन आमीना बानो एवं पत्नी शहनाज बानो तथा देश के लोगों की दुआओं की बदौलत कमांडो मुबारिक अली ठीक हो गए। कमांडो के दो भाई सूबेदार सुभान अली दफेदार मोहम्मद रफीक भी सेना में हैं। कमांडो मुबारिक के पिता हाकिम अली किसान है।

कमांडो मुबारिक अली का विधायक नरेंद कुमार खीचड़ ने सम्मान किया। इस अदम्य साहस पर गांव के कायमखानी समाज ने मुबारिक खान की जांबाजी पर गर्व महसूस किया है। कमांडो मुबारिक अली 1997 में सेना की 16 ग्रेनेडियर में भर्ती हुए थे। बाद में 55 राष्ट्रीय राइफल्स में शामिल मुबारिक अली ने करगिल युद्ध में भी भाग लिया था। वे बताते हैं कि उनकी यूनिट करगिल के द्रास सेक्टर में तैनात थी।