BREAKING NEWS

LJP में फूट पर चिराग पासवान के तर्क को पशुपति कुमार पारस ने दी चुनौती◾अयोध्या में कथित भूमि घोटाले को लेकर AAP नेता संजय सिंह करेंगे कोर्ट का रुख◾बाइडन और पुतिन अपने राजदूतों को वापस उनके पदों पर भेजने के लिए सहमत ◾सोनिया गांधी ने ली कोविड-19 टीके की दोनों खुराकें, संक्रमित होने के चलते राहुल को टीकाकरण में देरी हुई◾मौर्य ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा - रामभक्तों के खून से होली खेलने वाले मंदिर पर जनता को कर रहे गुमराह◾आगामी विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा, यह भाजपा नेतृत्व करेगा तय : केशव प्रसाद मौर्य ◾उत्तर प्रदेश : बीते 24 घंटे में सिर्फ 310 कोरोना केस मिले, संक्रमण से 50 और लोगों की मौत◾PNB घोटाला : CBI ने मेहुल चोकसी के खिलाफ दायर की नई चार्जशीट, सबूतों से हेराफेरी के लगे आरोप◾राहुल के आरोपों पर हर्षवर्धन का पलटवार, कहा- उनके ज्ञान के सामने तो आर्यभट्ट व अरस्तु जैसे विद्वान भी नतमस्तक◾धनकड़ के दिल्ली दौरे पर TMC का तंज - 'अंकल जी, हम पर एक एहसान करें ,बंगाल वापस न आएं' ◾जेनेवा समिट में बाइडन और पुतिन ने की मुलाकात, हाथ मिलाकर रिश्ते बेहतर करने के दिए संकेत◾कोविड-19 : फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए PM मोदी की सौगात, 18 जून को लॉन्च करेंगे कस्टमाइज्ड क्रैश कोर्स◾VivaTech सम्मेलन में बोले PM-महामारी से प्रभावित स्वास्थ्य सुविधाओं और अर्थव्यवस्था को दुरूस्त करने की जरूरत◾ब्लू इकोनॉमी को मजबूत करने के लिए मोदी कैबिनेट ने 'डीप सी मिशन' को दी मंजूरी ◾6 साल के बच्चे को कोविड से बचाने के लिए मां-बाप ने लिया ऐसा फैसला कि पीएम मोदी भी हो गए भावुक ◾पंजाब कांग्रेस में घमासान जारी, अमरिंदर सिंह के साथ काम करने को तैयार नहीं सिद्धू, ठुकराया डिप्टी सीएम का पद◾चिराग पासवान बोले- शेर का बेटा हूं, लंबी लड़ाई के लिए तैयार, लंबे वक्त से पार्टी तोड़ने की कोशिश में JDU ◾दिल्ली में कोरोना वायरस के 212 नए मामले, 25 लोगों की मौत, संक्रमण दर 0.27 फीसदी◾गांधी परिवार और कांग्रेस कर रहे हैं महापाप, खुद टीका लगवाया नहीं और फैला रहे हैं भ्रम : संबित पात्रा ◾क्या कोवैक्सीन में इस्तेमाल हुआ बछड़े का सीरम, केंद्र ने कहा- सोशल मीडिया पर तोड़-मरोड़ कर पेश किए गए तथ्य ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पूर्वी लद्दाख में टकराव के सभी बिन्दुओं से हो सैनिकों की पूर्ण वापसी : भारत

भारत ने भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच तनाव कम करने का मार्ग प्रशस्त करने तथा सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति एवं स्थिरता की पूर्ण बहाली सुनिश्चित करने के लिए पूर्वी लद्दाख में टकराव के शेष बिन्दुओं से सैनिकों की पूर्ण वापसी की प्रक्रिया को पूरा करने का बृहस्पतिवार को एक बार फिर आह्वान किया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक संवाददाता सम्मेलन में सैन्य और राजनयिक वार्ता के पिछले चरणों का उल्लेख करते हुए कहा कि दोनों पक्ष मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुरूप लंबित मुद्दों का त्वरित समाधान करने की आवश्यकता पर सहमत हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने बार-बार जोर देकर कहा है कि अन्य क्षेत्रों से सैनिकों की पूर्ण वापसी दोनों पक्षों के बलों के बीच तनाव कम करने का मार्ग प्रशस्त करेगी तथा शांति एवं स्थिरता की पूर्ण बहाली सुनिश्चित करेगी और द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति को संभव बनाएगी।’’

बागची सीमा गतिरोध पर दोनों पक्षों के बीच बातचीत के स्तर से जुड़े एक सवाल का जवाब दे रहे थे।

दोनों पक्षों के बीच कमांडर स्तर की 11वें दौर की वार्ता गत नौ अप्रैल को हुई थी, जबकि कार्यकारी सलाह एवं समन्वय तंत्र (डब्ल्यूएमसीसी) के ढांचे के तहत राजनयिक स्तर की पिछले दौर की वार्ता गत 12 मार्च को हुई थी।

बागची ने कहा, ‘‘इन बैठकों के दौरान दोनों पक्ष मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुरूप लंबित मुद्दों का त्वरित समाधान करने की आवश्यकता पर सहमत हुए।’’

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में कई जगहों पर पिछले साल मई के शुरू से सैन्य गतिरोध बरकरार है।

दोनों देशों ने कई दौर की सैन्य और राजनयिक स्तर की वार्ता के बाद हालांकि गत फरवरी में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर के क्षेत्रों से अपने-अपने सैनिकों तथा अस्त्र-शस्त्रों को पूरी तरह हटा लिया था। दोनों पक्ष अब टकराव वाले शेष इलाकों से सैन्य वापसी को लेकर चर्चा कर रहे हैं।

शेष इलाकों से सैन्य वापसी को लेकर अब तक कोई ठोस प्रगति नहीं दिखी है क्योंकि चीनी पक्ष के रुख में 11वें दौर की सैन्य वार्ता में कोई बदलाव नहीं दिखा।

पिछले महीने थलसेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे ने कहा था कि पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी बिन्दुओं से पूर्ण सैन्य वापसी तक तनाव में कोई कमी नहीं आ सकती और भारतीय सेना क्षेत्र में प्रत्येक आपात स्थिति के लिए तैयार है।

जनरल नरवणे ने यह भी कहा था कि चीन से भारत ‘‘सख्ती’’ से निपट रहा है, ताकि पूर्वी लद्दाख में अपने दावों की गरिमा सुनिश्चित की जा सके।