BREAKING NEWS

PM मोदी ने जगन्नाथ के साथ भारतीय सहयोग से मॉरीशस में बनी सामाजिक आवास परियोजना का किया उद्घाटन ◾गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾

कांग्रेस ने फेसबुक को बताया 'फेकबुक', कहा- यह एक शातिर शैतानी उपकरण जिसका BJP से है गठजोड़

कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रति फेसबुक द्वारा दिखाए जा रहे कथित 'पक्षपात' की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच कराने की मांग की है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक अब 'फेकबुक' में तब्दील हो गया है। पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने सोमवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "यह अब 'फेकबुक' में तब्दील हो गया है और इसकी जेपीसी जांच होनी चाहिए।"

आरएसएस और बजरंग दल को खतरनाक संगठनों के रूप में फेसबुक ने नामित क्यों नहीं किया

उन्होंने कहा, "सब जानने के बावजूद, फेसबुक ने अपनी आंतरिक रिपोटरें के आधार पर आरएसएस और बजरंग दल को खतरनाक संगठनों के रूप में नामित क्यों नहीं किया? भारत सरकार सोशल मीडिया सुरक्षा अनुपालन का हवाला देते हुए ट्विटर के खिलाफ बेहद सक्रिय थी, फिर अब वे एक शब्द भी क्यों नहीं बोल रहे हैं?"

सुरक्षा टीम की आंतरिक रिपोर्ट और सिफारिशें फेसबुक की सुरक्षा टीम की सिफारिशों के विरुद्ध गईं

खेड़ा ने कहा कि फेसुबक की सुरक्षा टीम की आंतरिक रिपोर्ट और सिफारिशें फेसबुक की सुरक्षा टीम की सिफारिशों के विरुद्ध गईं। जहां तक उन्होंने भारतीय नागरिकों की सुरक्षा पर व्यावसायिक हितों को प्राथमिकता दी है और फिर भी सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है, क्या यह स्पष्ट रूप से 'क्विड प्रो क्वो' यानी गड़बड़ी की उपस्थिति को नहीं दर्शाता है?

फेसबुक भारत के एक विशेष वर्ग के लिए अत्यधिक जागरुक था

खेड़ा ने आरोप लगाया कि फेसबुक भारत के एक विशेष वर्ग के लिए अत्यधिक जागरुक था और है। इसी वजह से फेसबुक ने इनके खिलाफ कार्रवाई न करने का फैसला किया है। खेड़ा ने कहा कि 'फेकबुक' भारत में उत्पीड़ित और हाशिए पर रहने वाले लोगों के मन में कट्टरता, घृणा और भय का प्रचार करने के लिए सत्तारूढ़ शासन और उसके प्रॉक्सी द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले एक शातिर शैतानी उपकरण के अलावा और कुछ नहीं है।

'फेकबुक' और कुछ नहीं बल्कि एक शातिर शैतानी उपकरण है

कांग्रेस नेता ने कहा कि ऐसे कई सवाल हैं, जिनका उत्तर फेसबुक और सरकार को देना चाहिए। इसलिए हम मांग करते हैं कि एक संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की जांच के तुरंत आदेश दिए जाएं। कांग्रेस नेता ने कहा, "यह साबित करता है कि 'फेकबुक' और कुछ नहीं बल्कि भारत में उत्पीड़ित और हाशिए पर रहने वाले लोगों के मन में कट्टरता, नफरत और भय फैलाने के लिए सत्तारूढ़ शासन और उसके छद्मों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला एक शातिर शैतानी उपकरण है।"

भारत के लोगों के प्रति कंपनी का बिल्कुल कठोर रवैया

उन्होंने आरोप लगाया कि भारत के लोगों के प्रति कंपनी का बिल्कुल कठोर रवैया इस तथ्य से परिलक्षित होता है कि वे अपने गलत सूचना बजट का 87 प्रतिशत अंग्रेजी बोलने वाले दर्शकों पर खर्च करते हैं, जबकि वे दर्शक उसके आधार का केवल 9 प्रतिशत ही हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि भारत में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के करीब 37 करोड़ यूजर्स हैं, जिसके साथ फेसबुक का देश में बहुत बड़ा बाजार है, जिसके चलते 0.2 फीसदी रिपोर्ट, जो अभद्र भाषा में आती हैं, उन्हें हटाया जा रहा है, जो दर्शाता है कि फेसबुक सामग्री के बारे में 'हानिकारक' तीव्र जागरूकता है और यह जारी है।

तमाम आरोप लगाते हुए पवन खेड़ा ने फेसबुक को 'फेकबुक' करार दिया

उन्होंने साथ ही आरोप लगाया कि इसने भारतीय समाज के एक विशेष वर्ग के खिलाफ और जानबूझकर कार्रवाई नहीं करने का फैसला किया है। खेड़ा ने कहा, "हम सभी को अंखी दास से जुड़ी घटना याद है, जिनसे संसदीय पैनल ने फेसबुक द्वारा कथित पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाए जाने, सत्तारूढ़ भाजपा के लिए उनके स्पष्ट समर्थन को लेकर पूछताछ की थी।" पवन खेड़ा ने आरोप लगाया कि उनके इस्तीफे के बावजूद, भाजपा-फेसबुक के बीच की दोस्ती और गठजोड़ कभी खत्म नहीं हुआ। तमाम आरोप लगाते हुए पवन खेड़ा ने फेसबुक को 'फेकबुक' करार दिया।

ड्रग्स केस में समीर वानखेड़े की बढ़ी मुश्किलें, भ्रष्टाचार के आरोप पर NCB की आंतरिक जांच जारी