BREAKING NEWS

गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾

मोदी सरकार ने जितना दलितों पर काम किया उतना कांग्रेस 70 सालों में भ नहीं किया:रविशंकर प्रसाद 

पटना : केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भाजपा बदलाव की राजनीति करती है। अनु. जाति,जनजाति के सांसद विधायक, मेयर, मुखिया, भाजपा में है। इससे विपक्ष को परेशानी है। एससी, एसटी अत्याचार अधिनियम मामले में भारत सरकार कहीं पार्टी नहीं है। पार्टी के प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार में एससी-एसटी कानून मजबूत हुआ।

1989 में यह कानून आया और 2015 में इस कानून में व्यापक बदलाव किया गया। 1989 के एक्ट में मात्र 22 अपराध धारा 3, (1) और (2) दर्शाये गये थे िजसे 2015 के संशोधन में कईनये अपराध जोड़े गये हैं। उन्होंने कहा कि 20 मार्च 2018 को एससी-एसटी अत्याचार अधिनियम मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला पर पांच दिन के अन्दर रिव्यू तैयार कर लिया था लेकिन छह दिन तक सुप्रीम कोर्ट बंद  रहने के कारण इसे दायर नहीं किया गया।

एससी-एसटी का हितैषी बताने वाले मायावती के मुख्यमंत्रितत्व काल के दौरान 20 मई, 2017 को प्रदेश के कानून व्यवस्था में जारी आदेश के पैरा-18 में अनु. जाति, जनजाति अधिनियम का दुरूपयोग नहीं किये जाने के संबंध में कहा गया कि कतिपय लोग सरकार को बदनाम करने का प्रयास करेंगे।

दबंग व्यक्ति आपसी वैमनस्य के कारण प्रतिशोध की भावना से प्रेरित होकर अनु. जाति, जनजाति को मोहरा बनाकर झूठा मुकदमा दर्ज करा देते हैं। पुन : 29 अक्टूबर, 2007 कोउतर प्रदेश सरकार द्वारा अनु. जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के संबंध में स्पष्टीकरण जारी करते हुए आदेश जारी किया गया कि अनु. जाति, जनजाति के सदस्यों को उत्पीडऩ के मामले में त्वरित न्याय दिलाने के साथ-साथ यह भी ध्यान रखा जाये कि किसी निर्दोष व्यक्ति को अनावश्यक परेशान नहीं किया जाये।

उन्होंने कांग्रेस से सवाल कर कहा कि कांग्रेस अपने शासन में भीमराव अम्बेडकर, सरदार पटेल समेत अन्य हस्तियों को देशरत्न की उपाधि से क्यों नहीं  नवाजा। भाजपा दलितों को राष्ट्रपति बनाया, एससी-एसटी के 100 छात्रों को कोलंबिया पढ़ाई के लिए भेजा, बेंचर कैपिटल स्कीम के तहत 290 करोड़ की योजना शुरू की।

प्रधानमंत्री का सोंच है कि इस वर्ग से आने वाले 6 करोड़ लोग डिजिटल साक्षर हों, जिसमें 8 लाख 26 हजार का रजिस्ट्रेशन हुआ है। 4 लाख 17 हजार टें्रड हुए। भाजपा अनु. जाति जनजाति विकास के प्रति संकल्पित है। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, उपाध्यक्ष देवेश कुमार, मीडिया प्रभारी पंकज सिंह, राकेश कुमार, अशोक भट्ट, भाई सनोज, नीतीश कुमार समेत अन्य उपस्थित थे।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पड़े पंजाब केसरी अख़बार