BREAKING NEWS

मिस्र के साथ भारत के नए सिरे से संबंध - 2 विकासशील देशों का एक परिप्रेक्ष्य◾कुश्ती विवाद में सूत्रों का दावा : खेल मंत्रालय निगरानी समिति में शामिल कर सकता है और सदस्य◾उपराष्ट्रपति धनखड़ ने मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी से की मुलाकात◾दिल्ली में अगले कुछ दिन भी छाये रहेंगे बादल, 29 जनवरी को हल्की बारिश की संभावना◾गणतंत्र दिवस समारोह : कर्तव्य पथ पर भारत की सैन्य ताकत, सांस्कृतिक धरोहर, नारी शक्ति का प्रदर्शन◾विश्व के नेताओं ने गणतंत्र दिवस की बधाई दी◾अभिनेता अन्नू कपूर गंगा राम अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर◾जम्मू-कश्मीर में जी20 की बैठक ‘मानवता के दुश्मनों के लिए संदेश’ : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा◾सुप्रीम कोर्ट पहुंची शैली ओबेरॉय, MCD मेयर चुनाव को लेकर दाखिल की याचिका◾मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतेह अल सीसी ने गणतंत्र दिवस पर देखी भारत की ताकत◾Republic Day 2023: पुतिन ने देश को गणतंत्र दिवस की दी बधाई, कहा- भारत का योगदान महत्वपूर्ण◾JNU में BBC डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर विदेश राज्य मंत्री का बयान, कहा- 'किसी को भी भारत की संप्रभुता को रौंदने की अनुमति नहीं'◾74th Republic Day: पाक रेंजर्स ने BSF को खिलाई मिठाइयां, अटारी वाघा बॉर्डर पर गणतंत्र दिवस का जश्न◾ BBC की डॉक्यूमेंट्री बैन के फैसले पर अमेरिका ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'हम मीडिया की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं'◾Republic Day : कर्तव्य पथ पर भारत ने दिखाई अपनी ताकत, जमीन पर टैंकों की दहाड़, 'आसमान में गरजा राफेल'◾जेपी नड्डा के बेटे की जयपुर में हुई शादी, 28 जनवरी को बिलासपुर में होगा रिसेप्शन◾बिहटा में भीषण सड़क हादसा, स्कॉर्पियो ने 6 को रौंदा, दो की हुई मौत◾गणतंत्र दिवस परेड में दिखा स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी◾बसंत पंचमी 2023: इन तीन छात्रों पर बरसेगी मां सरस्वती की कृपा,मिलेगी सफलता,बना खास योग करें ये उपाय◾ रामचरित मानस विवाद पर आग बगूला हुए रामभद्राचार्य कहा - स्वामी प्रसाद सठिया गए ◾

किसानों की मौत के 'जीरो' रिकॉर्ड पर भड़की कांग्रेस, खड़गे बोले-यह किसानों का अपमान

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को दावा किया कि सरकार के पास कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान मरने वाले किसानों का कोई डाटा नहीं है। केंद्रीय मंत्री के इस दावे पर किसान नेताओं के साथ मुख्य विपक्ष दल कांग्रेस बुरी तरह भड़क उठा है। कांग्रेस ने केंद्र के इस दावे को किसानों का अपमान बताया है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कह कि यह किसानों का अपमान है। 3 कृषि कानूनों के विरोध में 700 से अधिक किसानों की जान चली गई। केंद्र कैसे कह सकता है कि उनके पास इसका कोई रिकॉर्ड नहीं है? यदि सरकार के पास 700 लोगों का रिकॉर्ड नहीं है तो उन्होंने महामारी के दौरान लाखों लोगों का डेटा कैसे एकत्र किया। 

उन्होंने कहा कि "पिछले 2 वर्षों में कोरोना वायरस के कारण 50 लाख से अधिक लोगों की जान चली गई, लेकिन सरकार के अनुसार, वायरस के कारण केवल 4 लाख लोग मारे गए। सरकार जनगणना के आधार पर गिनती करे और मृत किसानों को मुआवज़ा दें।"

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पर हमलावर होते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, तोमर साहब, नाकामी छुपाने के लिए इतना बड़ा झूठ! सच्चाई-2020 में 10677 किसानों ने आत्महत्या की। 4090 किसान वो जिनके खुद के खेत हैं, 639 किसान जो ठेके पर ज़मीन ले खेती करते थे, 5097 वो किसान जो दूसरों के खेतों में काम करते थे। पिछले 7 सालों में 78303 किसान आत्महत्या कर चुके।

मृतक किसानों को 5 करोड़ का मुआवजा दे सरकार

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने मृतक किसानों के लिए मुआवजे की मांग करते हुए कहा कि किसान आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिजनों को केंद्र सरकार को 5 करोड़ रुपए का मुआवजा देना चाहिए। उन्होंने कहा, हमारे किसानों ने 3 कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए एक साल तक कड़ी मेहनत की है, जिसमें 700 से अधिक लोगों की जान चली गई थी।

दरअसल, लोकसभा में केंद्र सरकार से सवाल किया गया कि क्या उनके पास कोई डाटा है कि कितने किसानों की आंदोलन के दौरान मौत हुई है और क्या सरकार आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिजनों को मुआवजा देगी। इस सवाल का लिखत में जवाब देते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि सरकार के पास कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान मरने वाले किसानों का कोई डाटा नहीं है।