BREAKING NEWS

कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾गौतम गंभीर की जान को खतरा, ISIS कश्मीर ने तीसरी बार दी धमकी, कहा- कुछ नहीं कर सकती IPS श्वेता ◾

कांग्रेस नेता ए.के. एंटनी ने केंद्र पर लगाया आरोप, कहा- चीन के समक्ष पूरी तरह से आत्मसमर्पण कर दिया

वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारतीय और चीनी सैनिकों के पीछे हटने की सहमति के बीच पूर्व रक्षा मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ए.के. एंटनी ने सरकार पर आरोप लगाया है कि उसने चीन के समक्ष पूरी तरह से आत्मसमर्पण कर दिया है और सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बिंदुओं को चीन को दे दिया है।

एंटनी ने कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला के साथ नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि भारतीय एलएसी फिंगर 8 तक था और फिंगर 3 से हटने के बाद, भारतीय सेना फिंगर 8 तक और फिंगर 4 पोस्ट के लिए भी गश्त करने का अधिकार खो देगी।

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना कैलाश पर्वत के रणनीतिक स्थान पर थी और वहां से हटना भारतीय हित में नहीं है क्योंकि सेना वहां से चीनी सैनिकों की गतिविधियों पर नजर रख सकती है। एंटनी ने कहा कि गलवान वर्ष 1962 में भी विवादित नहीं था और सरकार ऐतिहासिक तथ्यों को नहीं छिपा सकती।

कांग्रेस ने संसद में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने सैनिकों के पीछे हटने की जानकारी दी थी। सुरजेवाला ने कहा कि देश अप्रैल, 2020 की यथास्थिति से कम कुछ भी स्वीकार नहीं करेगा और सरकार ने हमारी सेना के पराक्रम का मान कम कर दिया है।

कांग्रेस ने सरकार से सवाल किया कि भारतीय क्षेत्र में बफर जोन क्यों बनाया गया है। कांग्रेस ने पुलवामा हमले के शहीदों को भी श्रद्धांजलि दी। सुरजेवाला ने पूछा कि क्या प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री यह बताएंगे कि चीन द्वारा बिना किसी प्रतिदान के आखिर केंद्र सरकार उस कैलाश पर्वतमाला से भारतीय सशस्त्र बलों को वापस लेने के लिए क्यों सहमत हो रही है, जहां पर चीन को नुकसान है।

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को संसद में कहा था कि भारत और चीन पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण से सैनिकों को हटाने के लिए एक समझौते पर पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि चीन के साथ निरंतर बातचीत से पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण तट से सैनिकों के हटाने पर सहमति बन गई है।

समझौते के बाद भारत-चीन चरणबद्ध और समन्वित तरीके से अग्रिम मोर्चो से सैनिकों की तैनाती हटा देंगे। चीन पैंगोंग झील के उत्तर में स्थित फिंगर 8 के पूर्व में अपने सैनिकों को रखेगा।

राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत अपने सैनिकों को फिंगर 3 के पास अपने स्थायी ठिकाने पर रखेगा। रक्षा मंत्री ने कहा था कि चीन ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी के पास कई स्थानों पर हथियारों और गोला-बारूद के साथ एक भारी बल बना रखा है। हमारी सेना ने भी मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पर्याप्त और प्रभावी ढंग से तैनाती की है।