BREAKING NEWS

त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾गौतम गंभीर की जान को खतरा, ISIS कश्मीर ने तीसरी बार दी धमकी, कहा- कुछ नहीं कर सकती IPS श्वेता ◾महाराष्ट्र सरकार के 2 साल हुए पूरे, सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा- एमवीए सरकार ने आपदा को अवसर में बदला◾वाट्सऐप पर पेपर लीक के चलते रद्द हुआ UPTET एग्जाम, STF की टीम ने शुरू की धर-पकड़ ◾

कांग्रेस नेता जयराम रमेश बोले- ISRO को वैज्ञानिक उपक्रम के तौर पर काम करने दिया जाए, सरकार ने किया पलटवार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने रॉकेट भू-अवलोकन उपग्रह ईओएस-03 को कक्षा में स्थापित करने में सफलता नहीं मिलने के बाद बृहस्पतिवार को कहा कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को एक वैज्ञानिक उपक्रम के रूप में काम करने देना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने उन पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में ‘अंतरिक्ष संबंधी कई गडबड़ियां हुईं’ और इनमें जानेमाने अंतरिक्ष वैज्ञानिक विक्रम साराभाई की ‘संदिग्ध मृत्यु’ भी शामिल है।

इसरो का जीएसएलवी रॉकेट भू-अवलोकन उपग्रह ईओएस-03 को कक्षा में स्थापित करने में बृहस्पतिवार को विफल रहा। रॉकेट के ‘कम तापमान बनाकर रखने संबंधी क्रायोजेनिक चरण’ में खराबी आने के कारण यह मिशन पूरी तरह संपन्न नहीं हो पाया।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि पहले और दूसरे चरण में रॉकेट का प्रदर्शन सामान्य रहा था। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन संबंधी संसद की स्थायी समिति के प्रमुख रमेश ने ट्वीट किया, ‘‘इसरो वापसी कर सकता है और करेगा।

बहरहाल, उसे उसी तरह से वैज्ञानिक एवं प्रौद्योगिकी उपक्रम के तौर पर काम करने देना चाहिए जैसे विक्रम साराभाई और सतीश धवन ने बनाया था। अब इसको लेकर बहुत ज्यादा राजनीतिक दिखावा है।’’ साराभाई को भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का जनक कहा जाता है। 1971 में उनका निधन हो गया था।’’

रमेश पर पलटवार करते हुए जितेंद्र सिंह ने कहा, ‘‘जयराम जी, कृपया यह मत भूलिए कि विक्रम साराभाई की संदिग्ध मृत्यु समेत अंतरिक्ष संबंधी ज्यादातर गड़बड़ियां कांग्रेस के शासनकाल के दौरान हुईं। इस हिसाब से देखें तो अगर कांग्रेस राजनीतिक दखल से परहेज करती तो साराभाई और ज्यादा वर्षों तक योगदान दे सकते थे।’’