BREAKING NEWS

कोविड-19 ओमीक्रोन स्वरूप से उठी संक्रमण की लहर को लेकर चिंतित दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिक◾साउथ अफ्रीका से कर्नाटक आए 2 लोग कोरोना पॉजिटिव, राज्य में मचा हड़कंप◾WHO ने ओमिक्रॉन कोविड वैरिएंट को लेकर सभी देशों को सतर्क रहने को कहा◾भारत ड्रोन का इस्तेमाल वैक्सीन पहुंचाने के लिए करता है, केंद्रीय मंत्री ने साधा पाकिस्तान पर निशाना ◾सोमवार से दिल्ली में फिर खुलेंगे स्कूल, उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने दी जानकारी◾UP: प्रतिज्ञा रैली में BJP पर जमकर गरजी प्रियंका, बोली- 'इनका काम केवल झूठा प्रचार करना'◾राजनाथ ने मायावती और अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा- उप्र को न बुआ और न बबुआ चाहिए, सिर्फ बाबा चाहिए◾कांग्रेस नेता आजाद ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- केंद्र शासित प्रदेश बनने से DGP को थानेदार और सीएम को MLA... ◾ट्रेक्टर मार्च रद्द करने के बाद इन मुद्दों पर अड़ा संयुक्त किसान मोर्चा, कहा - विरोध जारी रहेगा ◾ओमिक्रोन कोरोना का डर! PM मोदी बोले- अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले की फिर हो समीक्षा◾अक्षर और अश्विन की फिरकी के जाल में फंसा न्यूजीलैंड, पहली पारी में 296 रनों पर सिमटी कीवी टीम ◾'जिहाद यूनिवर्सिटी': पाकिस्तान का वो मदरसा जिसके पास है अफगानिस्तान में काबिज तालिबान की डोर◾अखिलेश यादव ने किए कई चुनावी ऐलान, बोले- अब जनता BJP का कर देगी सफाया ◾संसद में बिल पेश होने से पहले किसानों का बड़ा फैसला, स्थगित किया गया ट्रैक्टर मार्च◾दक्षिण अफ्रीका में बढ़ते नए कोरोना वेरिएंट के मामलों के बीच पीएम मोदी ने की बैठक, ये अधिकारी हुए शमिल ◾कोरोना के नए वैरिएंट को राहुल ने बताया 'गंभीर' खतरा, कहा-टीकाकरण के लिए गंभीर हो सरकार◾बेंगलुरू से पटना जा रहे विमान की नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग, 139 यात्री और क्रू मेंबर थे सवार ◾कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा के बाद आंदोलन का कोई औचित्य नहीं : नरेंद्र सिंह तोमर ◾NEET PG काउंसलिंग में देरी को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल, दिल्ली में ठप पड़ी 3 अस्पतालों की OPD सेवांए◾नवाब मलिक ने किया दावा, बोले- अनिल देशमुख की तरह मुझे भी फंसाना चाहते हैं कुछ लोग◾

कांग्रेस का केंद्र पर तंज, कहा- एनएमपी और नोटबंदी सरकार की ‘जुड़वां संतानें’, जिनका मकसद जनता को लूटना है

कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन (एनएमपी) कार्यक्रम को लेकर शुक्रवार को नरेंद्र मोदी नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि एनएमपी और नोटबंदी सरकार की ‘जुड़वां संतानें’ हैं, जिनका मकसद देश के लोगों को लूटना है।

माकन ने शुक्रवार को रायपुर स्थित प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय 'राजीव भवन' में संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, ‘‘विकास के नाम पर मोदी नेतृत्व वाली सरकार ने जुड़वां संतानों को जन्म दिया है। इनमें से एक नोटबंदी है और दूसरा मुद्रीकरण है। दोनों का स्वभाव एक है।’’

उन्होंने दावा किया, ‘‘नोटबंदी ने गरीबों और छोटे कारोबारियों को लूटा, जबकि अब देश की विरासत को मुद्रीकरण के जरिये लूटा जा रहा है। दोनों कदमों का मकसद पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाना था। सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि एनएमपी को लेकर गोपनीय ढंग से फैसला हुआ और अचानक से घोषित कर दिया गया।’’

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि केंद्र सरकार जनता की कमाई से पिछले 60 साल में बनाए गए सार्वजनिक उपक्रमों को किराए के भाव पर बेचने पर आमादा है। उन्होंने कहा कि सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि यह सभी कुछ 'गुपचुप तरीके से' तय किया गया।

इसके बाद इस निर्णय की घोषणा भी अचानक की गई जिससे सरकार की नीयत पर शक गहरा रहा है। माकन ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में प्रधानमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस पर जो भी भाषण दिए हैं उसमें मुख्य रूप से ढांचागत आधार पर ही बल दिया गया है।

लेकिन, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार तुलना की जाए तो एनडीए सरकार का रिकॉर्ड खराब है। उन्होंने कहा, ‘‘2012 से वर्ष 2017 के बीच 12वीं पंचवर्षीय योजना काल में औसतन 7.20 लाख करोड़ सालाना ढांचागत आधार पर निवेश किया जा रहा था।

यह एनडीए शासन काल में पांच लाख करोड़ रुपए पर आ गया है। इससे उस आशंका को बल मिलता है कि सरकार का मुख्य मुद्दा ढांचागत आधार को बेहतर करना नहीं है। इसका मुख्य उद्देश्य कुछ चुनिंदा उद्योगपति दोस्तों को उनके कारोबार और व्यापार में एकाधिकार का अवसर प्रदान करना है।’’ 

माकन ने कहा कि यूपीए कार्यकाल में यह निर्णय लिया गया था कि रणनीतिक परिसंपत्तियों का निजीकरण नहीं किया जाएगा। रेलवे लाइन, गैस पाइपलाइन को लेकर विशेष सतर्कता रखी जाती थी। जिससे वह निजी हाथों में जाने से बची रहे।

किसी भी तरीके से प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से किसी विदेशी शक्ति के हाथों में यह रणनीतिक परिसंपत्तियां न जाने पाए। उन्होंने कहा कि युद्ध के समय सेना के आवागमन के लिए रेलवे और राष्ट्रीय एयरलाइन का अपना महत्त्व हमेशा से रहा है। ऐसे में क्या यह सही नहीं है कि सरकार ने हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा को भी पंगु बनाने का निर्णय किया है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने आशंका जतायी कि केंद्र सरकार की योजना से बाजार में चुनिंदा कंपनियों की मनमर्जी कायम हो जाएगी। सरकार भले कहती रहेगी की निगरानी के सौ तरह के उपाय हैं। माकन ने कहा कि मुद्रीकरण योजना शुरू करने से पहले केंद्र को राज्य सरकारों को विश्वास में लेना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि विभिन्न राज्य सरकारों ने सार्वजनिक उपक्रम स्थापित करने के लिए रियायती दरों पर जमीन दी थी। भूमि राज्य का विषय है। ऐसे में केंद्र को राज्य सरकारों को विश्वास में लेना चाहिए था। लेकिन ऐसा लगता है कि उनका इरादा सही नहीं है। संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस के छत्तीसगढ़ सह प्रभारी चंदन यादव भी मौजूद थे।