BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा : AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर को किया गया सील, SIT करेगी हिंसा की जांच◾दिल्ली HC में अरविंद केजरीवाल, सिसोदिया के निर्वाचन को दी गई चुनौती◾दिल्ली हिंसा की निष्पक्ष जांच हो, दोषियों को मिले कड़ी से कड़ी सजा -पासवान◾CAA पर पीछे हटने का सवाल नहीं : रविशंकर प्रसाद◾बंगाल नगर निकाय चुनाव 2020 : राज्य निर्वाचन आयुक्त मिले पश्चिम बंगाल के गवर्नर से◾दिल्ली हिंसा : आप पार्षद ताहिर हुसैन के घर से मिले पेट्रोल बम और एसिड, हिंसा भड़काने की थी पूरी तैयारी ◾TOP 20 NEWS 27 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने लगाई जीत की हैट्रिक, शान से पहुंची सेमीफाइनल में ◾पार्षद ताहिर हुसैन पर लगे आरोपों पर बोले केजरीवाल : आप का कोई कार्यकर्ता दोषी है तो दुगनी सजा दो ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार को 10-10 लाख का मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार◾दिल्ली में हुई हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस और आम आदमी पार्टी : प्रकाश जावड़ेकर ◾दिल्ली हिंसा : केंद्र ने कोर्ट से कहा-सामान्य स्थिति होने तक न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं ◾ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान : गौतम गंभीर ◾सीएए हिंसा : चांदबाग इलाके में नाले से मिले दो और शव, मरने वालो की संख्या बढ़कर 34 हुई◾दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन, गृह मंत्री को हटाने की हुई मांग◾न्यायधीश के तबादले पर बोले रणदीप सुरजेवाला : भाजपा की दबाव और बदले की राजनीति का हुआ पर्दाफाश ◾दिल्ली हिंसा : दंगाग्रस्त इलाकों में दुकानें बंद, शांति लेकिन दहशत का माहौल ◾जज मुरलीधर के ट्रांसफर पर बोले रविशंकर- कोलेजियम की सिफारिश पर हुआ तबादला ◾उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों का आकंड़ा 32 पहुंचा◾दिल्ली हिंसा : जज मुरलीधर के ट्रांसफर को कांग्रेस ने बताया दुखद और शर्मनाक◾

नालंदा यूनिवर्सिटी के निर्माण के लिए सहभागी देशों से तीन वर्षो से नहीं मिला अंशदान : विदेश मंत्रालय

नालंदा विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए भारत, चीन, थाईलैंड, आस्ट्रेलिया, लाओस जैसे देशों के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे लेकिन पिछले तीन वर्षो में भारत के अलावा किसी अन्य देश ने कोई योगदान नहीं दिया। विदेश मंत्रालय ने संसद की एक समिति को यह जानकारी दी। समिति ने कहा है कि मंत्रालय को इस कार्य में सहायता के लिए अन्य सहभागी देशों से अंशदान प्राप्त करने की संभावनाएं तलाशनी चाहिए। 

संसद में हाल ही में पेश विदेश मंत्रालय की अनुदान की मांगों पर विचार संबंधी संसदीय समिति की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘भारत द्वारा योगदान की आखिरी किस्त जुलाई 2019 में जारी की गई थी। अगस्त 2016 के बाद से किसी अन्य देश से कोई योगदान नहीं मिला।’’ रिपोर्ट में ‘नालंदा विश्वविद्यालय’ शीर्षक के तहत यह ब्यौरा दिया गया है। 

विदेश मंत्रालय ने संसद की समिति को बताया कि सिंगापुर ने विश्वविद्यालय के पुस्तकालय के निर्माण के लिए 50 लाख से एक करोड़ डालर का योगदान देने का वादा किया था लेकिन अब तक कोई भुगतान नहीं मिला है। इसमें कहा गया है, ‘‘ चूंकि भारत के अलावा अन्य देशों से नालंदा विश्वविद्यालय के संचालन और पूंजीगत लागत में योगदान स्वैच्छिक प्रकृति का है और पिछले तीन वर्षो के दौरान अन्य देशों से कोई योगदान प्राप्त नहीं हुआ है। इसलिए अन्य देशों से प्राप्त होने वाले योगदान की गुंजाइश सीमित है।’’ 

रिपोर्ट के अनुसार, नालंदा विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए भारत, चीन, थाईलैंड, आस्ट्रेलिया, लाओस जैसे देशों के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे। भारत ने इस विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए 684.74 करोड़ रूपये का योगदान दिया। चीन ने दस लाख डालर का योगदान दिया जबकि आस्ट्रेलिया ने दस लाख डालर, थाईलैंड ने 1,32,000 डालर तथा लाओस ने 50,000 डालर का योगदान दिया। 

समिति ने कहा कि नालंदा विश्वविद्यालय के लिए वर्ष 2018..19 के बजट में 200 करोड़ रूपए का आवंटन किया गया था जिसे संशोधित चरण पर घटाकर 190 करोड़ रूपया कर दिया गया। वर्ष 2019-20 के बजट में आवंटन 220 करोड़ रूपये था। समिति ने कहा कि मंत्रालय का यह अनुमान है कि इस परियोजना पर खर्च 400 करोड़ रूपया होगा परंतु 220 करोड़ रूपये का आवंटन जानबूझकर किया गया है। 

रिपोर्ट के अनुसार, समिति को यह बताया गया कि इस विश्वविद्यालय का वास्तविक निर्माण कार्य मई 2017 में शुरू हुआ। नालंदा विश्वविद्यालय का निर्माण कार्य 2021-22 तक पूरा होने का अनुमान है। परंतु मंत्रालय ने परियोजना को पूरा करने में लागत वृद्धि के बारे में कोई अनुमान नहीं लगाया है। 

समिति ने कहा, ‘‘नालंदा विश्विवद्यालय बौद्धिक, दार्शनिक एवं ऐतिहासिक अध्ययन करने के लिए उत्कृष्ट संस्था है और उसे पूरा करने में विलंब अत्यधिक निंदनीय है।’’ समिति ने कहा कि मंत्रालय को इस कार्य में सहायता के लिए अन्य सहभागी देशों से अंशदान प्राप्त करने की संभावनाएं तलाशनी चाहिए।