BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 11 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा ◾JNU ने वापस लिया शुल्क बढ़ोतरी का फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए योजना की प्रस्तावित ◾सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, RTI के दायरे में आएगा CJI का दफ्तर◾संजय राउत को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही होगा◾कुलभूषण जाधव के लिए पाकिस्तान करेगा अपने आर्मी एक्ट में बदलाव ◾शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾लगातार 5 दिन से बढ़ते पेट्रोल के दाम पर लगा ब्रेक, डीजल के दाम भी स्थिर ◾महाराष्ट्र : शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस का नहीं हुआ गठबंधन, अब ऑपरेशन लोटस की तैयारी में BJP◾दिल्ली-NCR में सांस लेना हुआ दूभर, गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा◾राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾

देश

न्यायालय ने बैरकपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी को 28 तक गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान किया

उच्चतम न्यायालय ने पश्चिम बंगाल में बैरकपुर संसदीय सीट से भाजपा के प्रत्याशी अर्जुन सिंह को उनके खिलाफ राज्य पुलिस द्वारा दर्ज आपराधिक मामलों में 28 मई तक गिरफ्तार नहीं करने का बुधवार को आदेश दिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ 28 मई तक कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जायेगी। साथ ही उन्हें शीर्ष अदालत से प्राप्त संरक्षण खत्म होने के बाद जमानत के लिये उचित अदालत जाने की भी स्वतंत्रता प्रदान की।

 न्यायालय ने पश्चिम बंगाल विधान सभा में चार बार विधायक रह चुके अर्जुन सिंह को गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान करते हुये लोकसभा चुनाव के दौरान राज्य में बड़े पैमाने पर हुयी हिंसक घटनाओं का भी जिक्र किया। न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा और न्यायमूर्ति एम आर शाह की अवकाश पीठ ने भाजपा नेता को संरक्षण प्रदान करते समय इस तथ्य पर भी ध्यान दिया कि राज्य में 25 अप्रैल से वकीलों की हड़ताल ने न्यायिक कामकाज ठप कर रहा है।

 पीठ ने कहा, ‘‘याचिकाकर्ता (अर्जुन सिंह) के खिलाफ आज से 28 मई के दौरान उनके खिलाफ दर्ज सभी मामलों में कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जायेगी।’’ अर्जुन सिंह लोकसभा चुनाव लड़ने के लिये सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गये थे। इस मामले में आदेश लिखाने के बाद न्यायमूर्ति मिश्रा ने टिप्पणी की, ‘‘आगजनी और हिंसा करने वाले लोग किसी एक पार्टी के नहीं होते हैं। वे हिंसा करने के लिये ही सत्तारूढ़ दल में शामिल होते हैं।’’

 सिंह की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार ने इस मामले में राज्य सरकार पर राजनीतिक विद्वेष का आरोप लगाया और कहा कि सिंह के खिलाफ ये 21 मामले चार अप्रैल से 20 मई के दरम्यान दर्ज किये गये हैं। उन्होंने कहा कि पांच मामलों में उन्हें जमानत मिल गयी है लेकिन उनके भाजपा में शामिल होने के बाद और मामले दर्ज कर लिये गये हैं।

 पश्चिम बंगाल सरकार के वकील ने कहा कि सिंह के खिलाफ आगजनी और दंगा करने के आरोप में मामले दर्ज किये गये हैं। पीठ ने राज्य सरकार के वकील से कहा कि याचिकाकर्ता (सिंह) गिरफ्तारी से संरक्षण दिया जा रहा है ताकि वह कल होने वाली मतगणना में उपस्थित रह सके क्योंकि वह लोकसभा चुनाव में एक उम्मीदवार है। पीठ ने सवेरे सिंह से जानना चाहा था कि वह पश्चिम बंगाल क्यों जाना चाहते हैं तो रंजीत कुमार ने कहा था कि वह बैरकपुर संसदीय सीट से प्रत्याशी हैं और मतगणना के दौरान वहां मौजूद रहना चाहते हैं। कुमार ने कहा, ‘‘यदि मैं बगैर संरक्षण के जाऊंगा तो मुझे गिरफ्तार कर लिया जायेगा। कल मतगणना के समय मुझे वहां उपस्थित रहना है।