BREAKING NEWS

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तिहाड़ जेल में डीके शिवकुमार से की मुलाकात◾दिल्ली के कनॉट प्लेस में मुठभेड़, दो बदमाश गिरफ्तार◾झारखंड चुनाव में कसौटी पर होगी JDU-भाजपा दोस्ती!◾कमलेश तिवारी हत्याकांड: मां बोलीं- हत्या के आरोपियों को मिले फांसी की सजा ◾कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने की मोदी सरकार की तारीफ, 'आयुष्मान भारत योजना' को लेकर कही यह बात◾आनंदन ने विश्व मिलिट्री खेलों में भारत को दिलाया दूसरा स्वर्ण ◾सोनिया गांधी बुधवार को शिवकुमार से तिहाड़ में मिलेंगी◾‘‘ग्रेट पैट्रियॉटिक वॉर’’ जीत की 75 वीं वर्षगांठ पर मोदी का स्वागत करने के लिए उत्सुक है रूस ◾आप ने विमर्श की दिशा बदल दी, दिल्ली में हिंदू-मुस्लिम राजनीति करने की भाजपा की हिम्मत नहीं : केजरीवाल ◾J&K : सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी ढेर◾अयोध्या में दीपोत्सव का खर्चा UP सरकार के जिम्मे◾बंगाल में लागू नहीं होगा NRC : ममता◾प्रियंका ने प्रदेश में महिलाओं के साथ बढते अपराध पर UP सरकार को घेरा◾कमलेश तिवारी हत्याकांड : गुजरात ATS को मिली बड़ी कामयाबी, दोनों मुख्य आरोपी गिरफ्तार◾गुलाबी बस टिकटों पर केजरीवाल के चित्र मामले में दिल्ली भाजपा ने लोकायुक्त से शिकायत की◾हरियाणा में भाजपा, कांग्रेस में कांटे की टक्कर, महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन की शानदार वापसी : एग्जिट पोल ◾हरियाणा : कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा बोली- एग्जिट पोल को भूल जाइये, कांग्रेस बनाएगी सरकार◾राज्य में कोई भी डिटेंशन सेंटर स्थापित नहीं होगा : CM ममता ◾TOP 20 NEWS 22 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामला : सुप्रीम कोर्ट ने ‘निर्वाणी अखाड़ा’ को लिखित नोट दाखिल करने की दी इजाजत ◾

देश

अवैध खनन पट्टों पर अदालत ने केंद्र से मांगा जवाब

उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को केंद्र से 358 लौह अयस्क खनन पट्टों को रद्द करने की मांग पर जवाब दाखिल करने को कहा है। यह आदेश उन खनन पट्टों के संबंध में है जोकि बिना किसी मूल्यांकन एवं उचित नीलामी प्रक्रिया के आवंटित किए गए थे। 

जस्टिस एस.ए. बोबडे और बी. आर गवई की पीठ ने सरकार से चार सप्ताह के अंदर अपना जवाब देने को कहा है। याचिकाकर्ता वकील मोहन शर्मा ने खान और खनिज (विकास और विनिमय अधिनियम) 1957 की धारा 8 ए को भी रद्द करने की मांग की। 

शर्मा ने तर्क दिया कि लौह अयस्क खनन पट्टों का विस्तार शीर्ष अदालत 2012 के फैसले के उल्लंघन में था, जिसके अनुसार खानों को केवल मूल्यांकन व नीलामी के साथ ही पट्टे पर दिया जा सकता है। 

शीर्ष अदालत की पांच न्यायधीशों की संविधान पीठ ने 27 सितंबर 2012 के अपने बहुमत के फैसले में कहा था कि नीलामी एक बेहतर विकल्प हो सकता है जिसका उद्देश्य राजस्व को बढ़ाना है। मगर प्राकृतिक संसाधनों की नीलामी के अलावा अन्य तरीका बंद भी नहीं किया जा सकता। 

याचिकाकर्ता ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा खनन पट्टों के आवंटन व विस्तार में अदालती निगरानी की जांच के अलावा खनन किए गए लौह अयस्क के बाजार मूल्य की वसूली के लिए भी निर्देश की मांग की। 

इसके अलावा याचिकाकर्ता ने संपूर्ण देश के लौह अयस्क और खनिजों के 358 से अधिक खानों के आवंटन को समाप्त करने के लिए दिशानिर्देशों की मांग की है। इसमें कहा गया है कि पट्टों को बिना किसी नए मूल्यांकन या नीलामी के फर्मो को विस्तारित किया गया है। 

इसी के साथ याचिकाकर्ता ने जांच एजेंसी को इस संबंध में मामला दर्ज करने और खदानों के आवंटन प्रक्रिया की जांच करने की मांग की है। 

शर्मा ने आरोप लगाया कि कथित रूप से बड़े दान के बदले 2014-15 में खनन पट्टों से सरकार के खजाने को 4 लाख करोड़ रुपये का वित्तीय नुकसान पहुंचा है। इस नुकसान की भरपाई के लिए उन्होंने 358 खदान पट्टों की नीलामी कराने की भी मांग की है।