BREAKING NEWS

‘तांडव’ की टीम ने बिना शर्त माफी मांगी, कहा भावनाएं आहत करने का कोई इरादा नहीं ◾सुशासन सरकार में पुलिस दोषियों के बजाये निर्दोष को जेल भेजने का काम करती है :तेजस्वी ◾आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को मिली जिंदा जलाकर मारने की धमकी ◾एम्स निदेशक की जनता से अपील - मामूली साइड इफेक्ट से मत डरें, वैक्सीन आपको मारेगी नहीं ◾SC की टिप्पणी के बाद बोले किसान संगठन - ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है◾बढ़ते क्राइम को लेकर तेजस्वी ने राज्यपाल से की मुलाकात, कहा- बिहारियों की बलि मत दिजीए CM नीतीश ◾नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी, कहा- दल बदलने वालों की नहीं है चिंता ◾केंद्र ने माल्या प्रत्यर्पण मामले में दी SC को सूचना, कहा- ब्रिटेन ने डिटेल सांझा करने से किया इंकार ◾'तांडव' वेब सीरीज विवाद को लेकर लखनऊ से मुंबई रवाना हुई UP पुलिस की टीम◾भारतीय किसान यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी को संयुक्त किसान मोर्चा ने किया सस्पेंड◾SC की टिप्पणी पर बोले राकेश टिकैत-हम झगड़ा नहीं, गण का उत्सव मनाएंगे◾ट्रैक्टर रैली पर बोला SC- दिल्ली में किसे एंट्री देनी है, यह तय करना पुलिस का काम, बुधवार को अगली सुनवाई◾गुजरात को PM मोदी का एक और तोहफा, अहमदाबाद-सूरत मेट्रो प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास◾कृषि कानून को लेकर 55वें दिन प्रदर्शन जारी, आंदोलन तेज करते हुए अन्नदाता आज मनाएंगे 'महिला किसान दिवस' ◾सूट-बूट वाले दोस्तों का कर्ज माफ करने वाली मोदी सरकार अन्नदाताओं की पूंजी साफ करने में लगी है : राहुल गांधी ◾देश में पिछले 24 घंटे में 13788 नए कोरोना मामलों की पुष्टि, 145 लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना का कहर बरकरार, मरीजों का आंकड़ा 9.5 करोड़ तक पहुंचा ◾पीएम मोदी आज अहमदाबाद मेट्रो के दूसरे चरण और सूरत मेट्रो रेल परियोजना का करेंगे भूमि पूजन ◾कृषि कानूनों और किसान प्रदर्शनों संबंधी याचिकाओं पर SC आज करेगा सुनवाई ◾आज का राशिफल (18 जनवरी 2021)◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

प्रशांत भूषण मामले ने कोर्ट का फैसला, देश के संवैधानिक लोकतंत्र को कमजरो करने वाला: येचुरी

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने आरोप लगाया है कि कार्यकर्ता, वकील प्रशांत भूषण को उनके ट्वीट के लिए अवमानना का दोषी ठहराने का उच्चतम न्यायालय का फैसला भारत के संवैधानिक लोकतंत्र को कमजोर करता है।

न्यायालय ने प्रशांत भूषण को न्यायपालिका के प्रति उनके दो अपमानजनक ट्वीट के लिये उन्हें शुक्रवार को अवमानना का दोषी ठहराया। येचुरी ने कहा, ‘‘प्रशांत भूषण के ट्वीट के निश्चित निरूपण को लेकर कोई सहमत हो या नहीं हो, उन्हें दोषी ठहराने का उच्चतम न्यायालय का फैसला चिंताजनक है। यह उच्चतम न्यायालय द्वारा संवैधानिक प्राधिकार के रूप में निभाई गई भूमिका की वास्तविक आलोचना को अवमानना के दायरे में ला देता है।’’

उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए कहा, फैसला भारत के लोकतंत्र में उच्चतम न्यायालय की भूमिका पर खुली और मुक्त चर्चा को रोकेगा। इससे भारत का संवैधानिक लोकतंत्र कमजोर होता है। उन्होंने यह भी कहा कि यह निर्णय उसके रोजाना के कामकाज और दृष्टिकोण की वास्तविक आलोचना को भी इसके दायरे में लाता है। माकपा नेता ने कहा कि अब तक ऐसे बयानों को संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (ए) के तहत इससे संरक्षण प्राप्त था और उन्हें अवमानना वाला ​​नहीं माना जाता था।