BREAKING NEWS

कुमारस्वामी ने स्पीकर से फ्लोर टेस्ट की डेट सोमवार तक बढ़ाने की अपील की , भाजपा बोली- हम तैयार नहीं◾Top 20 News 19 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾चुनाव याचिका पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नोटिस जारी ◾BJP विश्वास प्रस्ताव पर मत-विभाजन के लिए आतुर है, क्योंकि वह विधायकों को खरीद चुकी : सिद्धारमैया ◾सोनभद्र में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही प्रियंका गांधी को रोका, धरने पर बैठीं◾प्रियंका की गैरकानूनी गिरफ्तारी भाजपा सरकार की बढ़ती असुरक्षा का संकेत: राहुल गांधी ◾सरकार बचाने के लिए सत्ता का नहीं करूंगा दुरुपयोग : कुमारस्वामी◾कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष बोले- विश्वास मत पर मतदान में देरी नहीं कर रहा हूं◾सोनभद्र मामले में 3 सदस्यीय समिति का गठन, 10 दिनों के अंदर सौंपेगी रिपोर्ट : योगी ◾कुमारस्वामी शुक्रवार को देंगे अपना विदाई भाषण : येदियुरप्पा◾कर्नाटक : विश्वास मत पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे कुमारस्वामी◾बिहार : छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में भीड़ ने की युवकों की पिटाई, 3 की मौत◾मोहम्मद मंसूर खान से पूछताछ कर रही है ईडी : SIT◾आयकर विभाग के एक्शन से भड़कीं मायावती, कहा- अपने गिरेबान में झांके भाजपा ◾कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच प्रदान करेगा पाकिस्तान◾IMA पोंजी घोटाला: संस्थापक मंसूर खान दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार◾कर्नाटक विधानसभा में नहीं हो सका विश्वास मत पर फैसला, सदन के अंदर BJP का धरना ◾सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾

देश

न्यायालय अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्या को वापस भेजने के लिये याचिका पर करेगा सुनवाई

उच्चतम न्यायालय बृहस्पतिवार को बांग्लादेश के नागिरकों और रोहिंग्या सहित सभी अवैध घुसपैठियों की पहचान कर उन्हें वापस भेजने के लिये दायर याचिका पर सुनवाई के लिये सहमत हो गया। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने भाजपा और अधिवक्ता अश्विनी कुमार उपाध्याय के इस कथन पर गौर किया कि 2017 में यह याचिका दायर की गयी थी और अब इसे सुनवाई के लिये शीघ्र सूचीबद्ध किया जाये। 

पीठ ने कहा, ‘‘यह याचिका नौ जुलाई को सूचीबद्ध की जायेगी।’’ उपाध्याय ने अपनी याचिका में केन्द्र के इस रूख का समर्थन किया है कि भारत में गैरकानूनी तरीके से रहने वाले करीब 40,000 रोहिंग्या मुसलमानों को वापस म्यामां भेजा जाये। याचिका में केन्द्र और राज्य सरकारों को सभी अवैध प्रवासियों और घुसपैठियों की पहचान करने, हिरासत में लेने और वापस उनके देश भेजने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। 

याचिका के अनुसार बड़ी संख्या में अवैध प्रवासियों, विशेषकर म्यामां और बांग्लादेश से आये लोग, सीमावर्ती जिलों की जनसांख्यिकी संरचना के लिये खतरा हैं बल्कि इससे देश की सुरक्षा और अखंडता को भी गंभीर चुनौती पैदा हो गयी है। याचिका में आरोप लगाया गया है कि एजेन्टों और दलालों के मार्फत इन अवैध रोहिंग्या मुसलमानों की पश्चिम बंगाल के बेनापोल-हरिदासपुर, त्रिपुरा के सोनामोरा, कोलकाता और गुवाहाटी के रास्ते म्यामां से सुनियोजित तरीके से घुसपैठ करायी जा रही है। 

दिल्ली में छाए बादल, अगले 2 घंटों में हल्की बारिश होने की संभावना